आधुनिक भारत का इतिहास-प्रथम आंग्ल-सिक्ख युद्ध Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-08-27  at 09:30 PM
विषय सूची: आधुनिक-भारत का इतिहास >> 1857 से पहले का इतिहास (1600-1858 ई.तक) >>> प्रथम आंग्ल-सिक्ख युद्ध

प्रथम आंग्ल-सिक्ख युद्ध



महाराज रणजीत सिंह के कई पुत्र थे, अतः: उनकी मृत्यु के पश्चात उनके पुत्रों में गद्दी के लिए संघर्ष छिड़ गया। इस संघर्ष में कई राजकुमार मारे गए। प्रत्येक राजकुमार सिक्ख सेना को अपने साथ मिलना चाहता था। अतः: सिक्ख सेना राजकीय नियंत्रण से मुक्त हो गई। सिक्ख सेना ने महारानी जिन्दाँ के भाई प्रधानमंत्री जवाहर सिंह की हत्या कर दी एवं रानी जिन्दाँ का अपमान किया। रानी जिन्दाँ ने अपने इस अपमान का बदला लेने के लिए ब्रितानियों से सांठ-गांठ की तथा उन्हें लाहौर पर आक्रमण करने के लिए उकसाया। ब्रितानी अवसर की तलाश में थे। जब ब्रितानी फिरोजपुर में लाहौर पर आक्रमण की तैयारी कर रहे थे, तोरानी जिन्दाँ ने सिक्ख सेना को सतलज के पुल के पार ब्रिटिश सेना की गतिविधियों को देखने के लिए प्रोत्साहित किया। सिक्ख सेना रानी के षड्यंत्र से अनभिज्ञ थी एवं सेना का प्रधान तेजसिंह रानी का विश्वासपात्र था। दिसम्बर, 1845 ई. में सिक्ख सेना सतलज नहीं को पार कर फिरोजपुर के समीप पहुँच गई। गवर्नर जनरल लार्ड हार्डिंग ने 13 दिसम्बर, 1845 ई. को सिक्खों के विरूद्ध युद्ध की घोषणा कर दी। सर्वप्रथम फिरोजपुर के समीप मुदकी नामक स्थान पर 18 दिसम्बर, 1845 ई. को ब्रितानियों एवं सिक्खों में घमासान युद्ध हुआ। इस युद्ध में ब्रितानियों का सेनापति ह्यूज गफ था। युद्ध के आरम्भ में सिक्खों का पलड़ा भारी रहा, किन्तु बाद में लालसिंह के विश्वासघात के कारण सिक्ख परास्त हुए। इस युद्ध में ब्रितानियों तथा सिक्खों दोनों को ही भारी हानि हुई तथा ब्रितानी समझ गए कि सिक्खों को परास्त करना आसान कार्य नहीं है। तत्पश्चात् 21 दिसम्बर, 1845 ई. में फिरोजपुर में सिक्खों एवं ब्रितानियों में पुन: संघर्ष हुआ। इसमें सिक्ख सेना बड़ी बहादुरी से लड़ी, किन्तु तेजसिंह की गद्दारी के कारण उन्हें परास्त होना पड़ा। 28 जनवरी, 1846 ई. को अलीवाल में पुन: सिक्खों व ब्रितानियों में कड़ा संघर्ष हुआ। अन्त में सबराऊ के युद्ध में ब्रितानियों ने सिक्खों को निर्णायक रूप से परास्त किया। इस युद्ध में सरदार श्यामसिंह अटारी वाल ने अद्भूत वीरता दिखाई। 20 फरवरी, 1846 ई. को ब्रितानियों ने लाहौर पर अधिकार कर लिया।



सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
भारत का संवैधानिक विकास ऐतिहासिक पृष्ठभूमि
भारत में ब्रिटिश साम्राज्य की स्थापना
यूरोपियन का भारत में आगमन
पुर्तगालियों का भारत आगमन
भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवाद का कठोरतम मुकाबला
इंग्लैण्ड फ्रांस एवं हालैण्ड के व्यापारियों का भारत आगमन
ईस्ट इण्डिया कम्पनी की नीति में परिवर्तन
यूरोपियन व्यापारियों का आपसी संघर्ष
प्लासी तथा बक्सर के युद्ध के प्रभाव
बंगाल में द्वैध शासन की स्थापना
द्वैध शासन के दोष
रेग्यूलेटिंग एक्ट के पारित होने के कारण
वारेन हेस्टिंग्स द्वारा ब्रिटिश साम्राज्य का सुदृढ़ीकरण
ब्रिटिश साम्राज्य का प्रसार
लार्ड वेलेजली की सहायक संधि की नीति
आंग्ल-मैसूर संघर्ष
आंग्ला-मराठा संघर्ष
मराठों की पराजय के प्रभाव
आंग्ल-सिक्ख संघर्ष
प्रथम आंग्ल-सिक्ख युद्ध
लाहौर की सन्धि
द्वितीय आंग्ल-सिक्ख युद्ध 1849 ई.
पूर्वी भारत तथा बंगाल में विद्रोह
पश्चिमी भारत में विद्रोह
दक्षिणी भारत में विद्रोह
वहाबी आन्दोलन
1857 का सैनिक विद्रोह
बंगाल में द्वैध शासन व्यवस्था
द्वैध शासन या दोहरा शासन व्यवस्था का विकास
द्वैध शासन व्यवस्था की कार्यप्रणाली
द्वैध शासन के लाभ
द्वैध शासन व्यवस्था के दोष
रेग्यूलेटिंग एक्ट (1773 ई.)
रेग्यूलेटिंग एक्ट की मुख्य धाराएं उपबन्ध
रेग्यूलेटिंग एक्ट के दोष
रेग्यूलेटिंग एक्ट का महत्व
बंगाल न्यायालय एक्ट
डुण्डास का इण्डियन बिल (अप्रैल 1783)
फॉक्स का इण्डिया बिल (नवम्बर, 1783)
पिट्स इंडिया एक्ट (1784 ई.)
पिट्स इण्डिया एक्ट के पास होने के कारण
पिट्स इण्डिया एक्ट की प्रमुख धाराएं अथवा उपबन्ध
पिट्स इण्डिया एक्ट का महत्व
द्वैध शासन व्यवस्था की समीक्षा
1793 से 1854 ई. तक के चार्टर एक्ट्स
1793 का चार्टर एक्ट
1813 का चार्टर एक्ट
1833 का चार्टर एक्ट
1853 का चार्टर एक्ट

Pratham Aangal - Sikkh Yudhh MahaRaj Rannjeet Singh Ke Kai Putra The Atah Unki Mrityu Paschaat Unke Putron Me Gaddi Liye Sangharsh Chhid Gaya Is Rajkumar Mare Gaye Pratyek Sena Ko Apne Sath Milna Chahta Tha Rajkiya Niyantran Se Mukt Ho Gayi ne MahaRani Jindan Bhai Pime Minister Jawahar Ki Hatya Kar Dee Aivam Rani Ka Apman Kiya Badla Lene Britanian Santh Ganth Tatha Unhe Lahore Par Aakramann Karne Uksaaya Britani Awsar Talas


Labels,,,