आधुनिक भारत का इतिहास-भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवाद का कठोरतम मुकाबला Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-08-27  at 09:30 PM
विषय सूची: आधुनिक-भारत का इतिहास >> 1857 से पहले का इतिहास (1600-1858 ई.तक) >>> भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवाद का कठोरतम मुकाबला

भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवाद का कठोरतम मुकाबला
भारत में ब्रिटिश साम्राज्य लगभग दो शताब्दियों तक रहा एवं भारत को ब्रिटिश साम्राज्य से स्वतन्त्र करवाने के लिए ही स्वतंत्रता संघर्ष किया गया। ब्रितानियों ने अपना चाहे जो भी उद्देश्य बताया हो, वस्तुतः: उनका उद्देश्य भारत का शोषण कर अपने देश को समृद्ध बनाना था। हम सबसे पहले इस बात पर आते हैं कि भारत में ब्रितानी सत्ता की स्थापना कैसे हुई ?



सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
भारत का संवैधानिक विकास ऐतिहासिक पृष्ठभूमि
भारत में ब्रिटिश साम्राज्य की स्थापना
यूरोपियन का भारत में आगमन
पुर्तगालियों का भारत आगमन
भारत में ब्रिटिश साम्राज्यवाद का कठोरतम मुकाबला
इंग्लैण्ड फ्रांस एवं हालैण्ड के व्यापारियों का भारत आगमन
ईस्ट इण्डिया कम्पनी की नीति में परिवर्तन
यूरोपियन व्यापारियों का आपसी संघर्ष
प्लासी तथा बक्सर के युद्ध के प्रभाव
बंगाल में द्वैध शासन की स्थापना
द्वैध शासन के दोष
रेग्यूलेटिंग एक्ट के पारित होने के कारण
वारेन हेस्टिंग्स द्वारा ब्रिटिश साम्राज्य का सुदृढ़ीकरण
ब्रिटिश साम्राज्य का प्रसार
लार्ड वेलेजली की सहायक संधि की नीति
आंग्ल-मैसूर संघर्ष
आंग्ला-मराठा संघर्ष
मराठों की पराजय के प्रभाव
आंग्ल-सिक्ख संघर्ष
प्रथम आंग्ल-सिक्ख युद्ध
लाहौर की सन्धि
द्वितीय आंग्ल-सिक्ख युद्ध 1849 ई.
पूर्वी भारत तथा बंगाल में विद्रोह
पश्चिमी भारत में विद्रोह
दक्षिणी भारत में विद्रोह
वहाबी आन्दोलन
1857 का सैनिक विद्रोह
बंगाल में द्वैध शासन व्यवस्था
द्वैध शासन या दोहरा शासन व्यवस्था का विकास
द्वैध शासन व्यवस्था की कार्यप्रणाली
द्वैध शासन के लाभ
द्वैध शासन व्यवस्था के दोष
रेग्यूलेटिंग एक्ट (1773 ई.)
रेग्यूलेटिंग एक्ट की मुख्य धाराएं उपबन्ध
रेग्यूलेटिंग एक्ट के दोष
रेग्यूलेटिंग एक्ट का महत्व
बंगाल न्यायालय एक्ट
डुण्डास का इण्डियन बिल (अप्रैल 1783)
फॉक्स का इण्डिया बिल (नवम्बर, 1783)
पिट्स इंडिया एक्ट (1784 ई.)
पिट्स इण्डिया एक्ट के पास होने के कारण
पिट्स इण्डिया एक्ट की प्रमुख धाराएं अथवा उपबन्ध
पिट्स इण्डिया एक्ट का महत्व
द्वैध शासन व्यवस्था की समीक्षा
1793 से 1854 ई. तक के चार्टर एक्ट्स
1793 का चार्टर एक्ट
1813 का चार्टर एक्ट
1833 का चार्टर एक्ट
1853 का चार्टर एक्ट

Bhaarat Me British samrajyawaad Ka Kathortam Muqabala Samrajy Lagbhag Do Centuries Tak Raha Aivam Ko Se Swatantra Karwane Ke Liye Hee Swatantrata Sangharsh Kiya Gaya Britanian ne Apna Chahe Jo Bhi Uddeshya Bataya Ho Vastutah Unka Shoshan Kar Apne Desh Samridhh Banana Tha Ham Sabse Pehle Is Baat Par Aate Hain Ki Britani Satta Sthapanaa Kaise Hui ?


Labels,,,