1857 की क्रान्ति-उदमीराम Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-08-27  at 09:30 PM
विषय सूची: आधुनिक-भारत का इतिहास >> 1857 की क्रांति विस्तारपूर्वक >> 1857 के क्रांतिकारियों की सूची >>> उदमीराम

26. उदमीराम

दिल्ली से सोनीपत जाने वाली सड़क के मोड़ पर कुछ नौजवान इस प्रतीक्षा में खड़े थे कि यदि यहाँ से ब्रितानी लोग निकलें तो उनका शिकार किया जाए। वे 1857 की क्रांति के दिन थे और ब्रितानी लोग परिवार के साथ जहाँ सुरक्षित स्थान मिलता, वहाँ शरण लेते थे। सोनीपत में उन लोगों का कैंप लगा हुआ था और बहुधा ही इक्के-दुक्के ब्रितानी परिवार ऊँट-गाड़ियों में सवार होकर दिल्ली से सोनीपत ज़ाया करते थे।

इसी सड़क से थोड़ा हटकर लिबासपुर नाम का एक छोटा-सा गाँव था। इस गाँव में जाट लोग रहते थे। उदमीराम इसी गाँव के नौजवान थे। वह देखने में सुंदर और शरीर से पुष्ट थे उन्होंने अपने ही जैसे कसरती नौजवानों का एक दल बना रखा था और ब्रितानियोें से बदला लेने के लिए जो खेल रचा था, वह यही था कि इक्के-दुक्के ब्रितानियोें को पकड़-पकड़कर वे एकांत में जाकर उन्हें समाप्त कर दिया करते थे।

एक दिन जब उदमीराम और उनके साथी शिकार की प्रतीक्षा में थे तो एक ऊँट गाड़ी उन्हें आती दिखाई दी। उन्होंने गाड़ी को रोका। उसमें एक ब्रितानी दम्पत्ति था। उन लोगों ने ब्रितानी को तो एकांत में जाकर समाप्त कर दिया, पर भारतीय आदेश के अनुसार उस ब्रितानी महिला को उन्होंने लिबासपुर गाँव में ले जाकर एक घर के अंदर बंद कर दिया और उनकी देखरेख के लिए एक ब्राह्मण जाति की महिला को नियुक्त कर दिया। ब्रितानी महिला को गाँव में रखने का समाचार इधर-इधर फैलने लगा। पास के गाँव राठधना के एक निवासी सीताराम को जब इस घटना का पता चला तो वह युक्ति लगाकर लिबासपुर के उस घर तक पहुँच गए, जिसमें वह ब्रितानी महिला रखी गई थी। ब्रितानी महिला ने उस ब्राह्मण जाति की महिला और सीताराम से कहा कि यदि वे उन्हें सोनीपत के कैंप तक पहुँचा दें तो वह उन लोगों को बहुत से पुरस्कार दिलाएगी। रात होने पर उन लोगों ने एक बैलगाड़ी का प्रबंध करके उस ब्रितानी महिला को सोनीपत कैंप पहुँचा दिया।

वे दिन तो ब्रितानियों की पराजय के दिन थे। जब उनका पलड़ा भारी हुआ और दिल्ली तथा आस-पास के क्षेत्र पर उनका पुन: अधिकार हो गया तो उस ब्रितानी महिला की सूचना पर ब्रितानी सेना के एक दल ने लिबासपुर ग्राम को घेर लिया। उदमीराम और उनके साथियों ने सोचा कि समर्पण करके ब्रितानियों के हाथों फाँसी चढ़ने के स्थान पर यह अच्छा होगा कि हम लोग युद्ध करते हुए वीरगति प्राप्त करें। बात पक्की हो गई। उन लोगों के पास बंदूकें आदि तो थीं ही नहीं, सभी लोग ग्रामीण हथियार, जैसे बल्लम, भाले, फरसे, कुल्हाड़ियाँ और गँड़ा से लेकर ब्रितानी सेना पर टूट पड़े। जी-जान से युद्ध किया। कुछ सैनिकों को मार गिराने में उन्होंने सफलता भी प्राप्त की, पर ग्रामीण हथियारों से वे सुसज्जित ब्रितानी सेना के सामने कब तक टिकते। उसमें भी कुछ लोग मारे गए और शेष गिरफ़्तार कर लिए गए।

ब्रितानी सैनिकों ने पूरे गाँव को लूटा और महिलाओं के गहने उतारे। कई गाड़ियों में भरकर वे लूट का माल ले गए। ब्रितानियों के भक्त, देशद्रोही सीताराम ने अपराधियों को पहचानने की भूमिका निभाई जिन व्यक्तियों को गिरफ़्तार किया गया था, उन्हें राई स्थान पर ब्रितानियों के कैंप में लाया गया और कुछ लोगों को पत्थर के नीचे तथा भारी-कोल्हुओं के नीचे दबा-दबाकर मार डाला गया। उदमीराम को एक पीपल के वृक्ष से बाँध दिया गया। जब तक वह जीवित रहे, उन्हें खाने-पीने को कुछ भी नहीं दिया गया। पैंतीस दिन तड़प-तड़पकर वीर उदमीराम के प्राण निकले। ब्रितानियों की नृशंसता और एक वीर के बलिदान का यह उदाहरण बेजोड़ है।



सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
नाना साहब पेशवा
बाबू कुंवर सिंह
मंगल पाण्डेय
मौलवी अहमद शाह
अजीमुल्ला खाँ
फ़कीरचंद जैन
लाला हुकुमचंद जैन
अमरचंद बांठिया
झवेर भाई पटेल
जोधा माणेक बापू माणेक भोजा माणेक रेवा माणेक रणमल माणेक दीपा माणेक
ठाकुर सूरजमल
गरबड़दास मगनदास वाणिया जेठा माधव बापू गायकवाड़ निहालचंद जवेरी तोरदान खान
उदमीराम
ठाकुर किशोर सिंह, रघुनाथ राव
तिलका माँझी
देवी सिंह, सरजू प्रसाद सिंह
नरपति सिंह
वीर नारायण सिंह
नाहर सिंह
सआदत खाँ

26 Udmiraam Delhi Se Sonipat Jane Wali Sadak Ke Mod Par Kuch Naujawan Is Prateeksha Me Khadae The Ki Yadi Yahan Britani Log Niklein To Unka Shikar Kiya Jaye Ve 1857 Kranti Din Aur Pariwar Sath Jahan Surakshit Sthan Milta Wahan Sharann Lete Un Logon Ka Camp Laga Hua Tha Bahudha Hee Ikke - Dukke Oont gadiyon Sawar Hokar Jaya Karte Isi Thoda Hatkar LibaasPur Naam Ek Chhota Saa Village Jat Rehte Wah Dekhne Sundar Sharir Pus


Labels,,,