1857 की क्रान्ति-झवेर भाई पटेल Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-08-27  at 09:30 PM
विषय सूची: आधुनिक-भारत का इतिहास >> 1857 की क्रांति विस्तारपूर्वक >> 1857 के क्रांतिकारियों की सूची >>> झवेर भाई पटेल

झवेर भाई पटेल

ग़ुजरात में सरदार वल्लभभाई के पिता झवेर भाई उत्तर भारत जाकर स्वातंत्र्य संग्राम में भाग ले चुके थे। ग़ुजरात के करीब-करीब सभी भागों में ब्रितानियोें और उनकी शोषणकारी, अत्याचारी नीतियों के विरोध में प्रजा का गुस्सा अन्दर पनप रहा था। ब्रितानी अधिकारी जो ग़ुजरात पर निगाह रखे थे वे अपने विवरणों में कह चुके थे कि ग़ुजरात में आम जनता के विभिन्न तबकों में रोष बढ़ता जा रहा था। सबमें यह भावना बार-बार उठ रही थी कि ब्रितानियोें के, अत्याचारों से मुक्त होना जरुरी है, और अब सहना कठिन है। सूरत के लोगों ने 1844 और 1848 में नमक की चुंगी पर भारी आंदोलन किया था। तीन दिनों तक यह आंदोलन चला था। ग़ुजरात के छोटे-मोटे राजा ब्रितानियोें के साथ थे। ब्रितानियोें की उनके साथ संधियाँ थी। प्रजा इन राजाओं से भी उक्ता गई थी। उत्तर भारत के लोग़ों ने, सेना के भारतीय सिपाहियों ने ब्रितानियोें के सामने हथियार उठा लिए थे। इन समाचारों से गुजरात की आम जनता भी वि द्रोह के लिए तैयार को गई थी।



सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
नाना साहब पेशवा
बाबू कुंवर सिंह
मंगल पाण्डेय
मौलवी अहमद शाह
अजीमुल्ला खाँ
फ़कीरचंद जैन
लाला हुकुमचंद जैन
अमरचंद बांठिया
झवेर भाई पटेल
जोधा माणेक बापू माणेक भोजा माणेक रेवा माणेक रणमल माणेक दीपा माणेक
ठाकुर सूरजमल
गरबड़दास मगनदास वाणिया जेठा माधव बापू गायकवाड़ निहालचंद जवेरी तोरदान खान
उदमीराम
ठाकुर किशोर सिंह, रघुनाथ राव
तिलका माँझी
देवी सिंह, सरजू प्रसाद सिंह
नरपति सिंह
वीर नारायण सिंह
नाहर सिंह
सआदत खाँ

jhaver Bhai Patel Gujarat Me Sardar VallabhBhai Ke Pita Uttar Bhaarat Jakar Swatantray Sangram Bhag Le Chuke The Karib - Sabhi Bhagon British Aur Unki Shoshankari Atyachari Nitiyon Virodh Praja Ka Gussa Andar Panap Raha Tha Britani Adhikari Jo Par Nigaah Rakhe Ve Apne Vivarannon Kah Ki Aam Public Vibhinn Tabkon Rosh Badhta Jaa SabMe Yah Bhawna Baar Uth Rahi Thi Atyacharon Se Mukt Hona Jaroori Hai Ab Sahna Kathin Surat Logon


Labels,,,