1857 की क्रान्ति-ठाकुर सूरजमल Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-08-27  at 09:30 PM
विषय सूची: आधुनिक-भारत का इतिहास >> 1857 की क्रांति विस्तारपूर्वक >> 1857 के क्रांतिकारियों की सूची >>> ठाकुर सूरजमल

ठाकुर सूरजमल

डाकोर के ठाकुर सूरजमल ने लुणावाड़ा पर अपना आधिपत्य स्थापित करने के लिए 1857 में लुणावाड़ा के राजा पर आक्रमण कर दिया। राजा ने ब्रितानियोें का सहारा लिया। सूरजमल गोधरा के पास पाल गांव के ठाकुर कानदास के पास गया उसने उसे आश्रय दिया। ब्रितानी सेना ने सारे गांव पर आक्रमण कर उसे फ़ूँक डाला। इसी तरह खानपुर, कानोरिया, दुबारा गांवों के लोगों को आग लगा कर जला दिया। पंचमहल के संखेड़ा के नायकदास ने भी विद्रोह का झंडा उठाया और रुपानायक तथा केवल बेट्स की सेना पर आक्रमण कर दिया। इसमें मुसलमानों ने साथ दिया। उन्होने चंपानेर और नरुकोट के बीच के प्रदेश को मुक्त कर दिया। ब्रितानियोें ने दो वर्षों के संघर्ष के पश्चात इन भीलों पर काबू पाया। भीलों, कोलियों और अन्य पिछड़ी जातियों की स्वतंत्रता की भावना की मशाल अन्यत्र मिलना दुर्लभ है।



सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
नाना साहब पेशवा
बाबू कुंवर सिंह
मंगल पाण्डेय
मौलवी अहमद शाह
अजीमुल्ला खाँ
फ़कीरचंद जैन
लाला हुकुमचंद जैन
अमरचंद बांठिया
झवेर भाई पटेल
जोधा माणेक बापू माणेक भोजा माणेक रेवा माणेक रणमल माणेक दीपा माणेक
ठाकुर सूरजमल
गरबड़दास मगनदास वाणिया जेठा माधव बापू गायकवाड़ निहालचंद जवेरी तोरदान खान
उदमीराम
ठाकुर किशोर सिंह, रघुनाथ राव
तिलका माँझी
देवी सिंह, सरजू प्रसाद सिंह
नरपति सिंह
वीर नारायण सिंह
नाहर सिंह
सआदत खाँ

Thakur Surajmal Daakor Ke ne Lunnawada Par Apna Aadhipaty Sthapit Karne Liye 1857 Me Raja Aakramann Kar Diya British Ka Sahara Liya Godhra Paas Paal Village KaanDaas Gaya Usane Use Ashray Britani Sena Sare Foonk Dala Isi Tarah Khanpur Kanoria Dubara Ganvon Logon Ko Aag Laga Jala Panchamahal SanKheda NayakDaas Bhi Vidroh Jhanda Uthaya Aur Roopanayak Tatha Kewal Bates Ki Isme Musalmanon Sath Unhone Champaner NaruKot Beech Pradesh


Labels,,,