1857 की क्रान्ति-नाना साहब पेशवा Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-08-27  at 09:30 PM
विषय सूची: आधुनिक-भारत का इतिहास >> 1857 की क्रांति विस्तारपूर्वक >> 1857 के क्रांतिकारियों की सूची >>> नाना साहब पेशवा

नाना साहब पेशवा

नाना साहब का जन्म 1824 में महाराष्ट्र के वेणु गांव में हुआ था। बचपन में इनका नाम भोगोपंत था। इन्होंने 1857 की क्रांति का कुशलता पूर्वक नेतृत्व किया। नाना साहब सुसंस्कृत, सुन्दर व प्रभावशाली व्यक्तित्व के धनी थे। नाना साहब मराठों में अत्यंत लोकप्रिय थे। इनके पिता का नाम माधव राव व माता का नाम गंगाबाई था।

जब 1827 में बाजीराव ब्रितानियों से संधि करके कानपुर चले गए तो नाना साहब (भोगोपंत) के माता पिता व उनका परिवार भी बाजीराव पेशवा की शरण में चला गया। जब बाजीराव ने बालक भोगोपंत को देखा तो वे उससे बहुत प्रभावित हो गये थे, और उन्होंने नाना साहब को गोद ले लिया। लेकिन बाजीराव की मृत्यु के बाद ब्रितानी सरकार ने नाना साहब को मराठों का पेशवा बनाकर गद्दी पर बैठाने से इंकार कर दिया।

नाना साहब ने उनसे बदला लेने व भारत को आजाद करवाने की ठान ली। उनके साथ तांत्या टोपे कुंवर सिंह, अजीमुल्ला खां जैसे क्रांतिकारी भी आजादी की लड़ाई में आगे आए। नाना साहब कुशल व दूरदर्शी राजनीतिज्ञ थे। इन सब क्रांतिकारियों का केंद्र बिठुर बन गया। सबने आजादी के लिये गाँव-गांव तक क्रांति की लहर फ़ैलाई। धीरे-धीरे ये लहर कानपुर झांसी दिल्ली आदि जगह पहुंच गई। कई दिनों तक युद्ध चला। क्रांति का प्रमुख नेता नाना साहब को बनाया ग़या।

कुछ समय पश्चात कानपुर में आगजनी की घटनाएं हुई। मराठों ने ब्रितानियों के साथ युद्ध किया। बाद में नाना साहब को मराठों का राजा बना दिया गया। परंतु अभी ब्रितानी शांत नहीं हुए। उन्होंने फ़िर से अत्याचार का सिलसिला जारी रखा। जिससे मराठों में पुन: क्रांति के लिये जोश आया। क्रांति की लहर फ़तेहपुर, कानपुर तक फैल गई जिससे घमासान युद्ध हुआ।

इस बार नाना साहब ब्रितानियों की विशाल सेना के सामने नहीं टिक पाए। 17 जुलाई को नाना साहब बिठुर चले गये, लेकिन फ़िर भी युद्ध के बादल फ़िर से मंडराने लगे परंतु नाना साहब ने हार नहीं मानी। उन्होंने नेपाल के राजा शमशेर जंग बहादुर से सहायता की याचना की लेकिन नेपाल नरेश ने उनका साथ नहीं दिया बल्कि क्रांतिकारियों को गिरफ़्तार करवाने में ब्रितानियों का साथ दिया।

अंत में, नाना साहब अपने साथियों के साथ नेपाल की तराइयों में चले गए। नाना साहब की मृत्यु कब कहां व कैसे हुई किसी को भी नहीं पता। परंतु देश की आजादी में उनके त्याग व संघर्ष को हम सदैव याद रखेंगे।



सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
नाना साहब पेशवा
बाबू कुंवर सिंह
मंगल पाण्डेय
मौलवी अहमद शाह
अजीमुल्ला खाँ
फ़कीरचंद जैन
लाला हुकुमचंद जैन
अमरचंद बांठिया
झवेर भाई पटेल
जोधा माणेक बापू माणेक भोजा माणेक रेवा माणेक रणमल माणेक दीपा माणेक
ठाकुर सूरजमल
गरबड़दास मगनदास वाणिया जेठा माधव बापू गायकवाड़ निहालचंद जवेरी तोरदान खान
उदमीराम
ठाकुर किशोर सिंह, रघुनाथ राव
तिलका माँझी
देवी सिंह, सरजू प्रसाद सिंह
नरपति सिंह
वीर नारायण सिंह
नाहर सिंह
सआदत खाँ

Nana Sahab Peshwa Ka Janm 1824 Me Maharashtra Ke Venu Village Hua Tha Bachpan Inka Naam Bhogopant Inhone 1857 Ki Kranti Kushalta Poorvak Netritv Kiya SuSanskrit Sundar Wa Prabhavshali Vyaktitv Dhani The MaRaathon Atyant LokPriya Inke Pita Madhav Rao Mata Gangabai Jab 1827 BajiRao Britanian Se Sandhi Karke Kanpur Chale Gaye To Unka Pariwar Bhi Sharann Chala Gaya ne Balak Ko Dekha Ve Usase Bahut Prabhavit Ho Aur Unhonne God Le


Labels,,,