धर्मनिरपेक्षता और शिक्षा

Dharmnirpekshta Aur Shiksha

Pradeep Chawla on 09-09-2018

धर्मनिरपेक्षता में नाम पर शिक्षा में जिन नैतिक मूल्यों से समझौता किया गया है उसका परिणाम अब दिखने लगा है. धर्मनिरपेक्ष शिक्षा हमे सिर्फ भोगवाद, भौतिकवाद, अवसरवाद, भ्रष्टाचार, धर्म द्रोह, संस्कार द्रोह, देशद्रोह, अराष्ट्रवाद जैसे बुरे विचारों की ओर ले जा रहे है जिसका परिणाम भ्रष्टाचार और बलात्कार में भयानक वृद्धि में दिख रहा है. हम कितने संवेदनहीन और निर्ल्लज हो गए है. यकीन ही नहीं होता की हम वही ऋषि पुत्र है जिसके कारण भारत विश्व गौरव का प्रतिक माना जाता था. एक स्मुदाद्य के मजहबी शिक्षा-संस्थानों को अनुदान मिलता है जो गैर मुस्लिम औरतों को अपनी जायदाद समझने और बनाने की वकालत करता है, जबकि दूसरे को धर्मनिरपेक्षता के नाम पर अपनी औपचारिक शिक्षा में महान दार्शनिक ग्रंथों को पढ़ने की अनुमति भी न दी जाय. भारत में स्त्रियों के प्रति हिंसा भारत मुस्लिम आक्रमण के साथ और मुस्लिम शाशन के दौरान प्रारम्भ हुई. इन अत्याचारियों दुराचारियों का इतिहास में महिमामंडन और स्त्री को देवी समझने वाले परम्परागत संस्कृतिक-नैतिक मूल्यों से हिंदुओं के वंचित का परिणाम यह हुआ है की हममें नैतिकता ही समाप्त हो गयी है.

Check link below --

https://youtu.be/h3UCb1zTmUQ



Comments abhishek kumar on 16-08-2021

education is effective -------------- of secularism

Sohan lal mahawar on 25-07-2021

Dharmnirpeksta ke satha shiksya la sambhand

Kanchan on 24-07-2021

Dharmnirpekshta aur Shiksha

Nitesh Kumar on 29-10-2020

Dharamnirpeksh shiksha kya Hoti hai



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment