राजस्थान सामान्य ज्ञान-पुष्कर झील अजमेर Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-08-27  at 09:30 PM
विषय सूची: राजस्थान सामान्य ज्ञान Rajasthan Gk in Hindi >> राजस्थान की झीलें >>> पुष्कर झील अजमेर

पुष्कर झील
राजस्थान के अजमेर जिले में अजमेर शहर से 11 कि.मी. की दूरी पर पुष्कर झील का निर्माण ज्वालामुखी उद्भेदन से हुआ है। यह झील भी प्राकृतिक झील है।यह राजस्थान का सबसे पवित्र सरोवर माना जाता है।इसलिए इसे आदितीर्थ/पांचना तीर्थ/कोंकणतीर्थ/तीर्थो का मामा/तीर्थराज भी कहा जाता है। पुष्कर झील के बारे में मान्यता है। कि खुदाई पुष्कर्णा ब्राह्मणों द्वारा कराई गई। अतः पुष्कर झील की संज्ञा दी गई। तथा किवदन्ती के अनुसार इस झील का निर्माण ब्रह्माजी के हाथ से गिरे तीन कमल के पुष्पों से हुआ जिससे क्रमश: वरिष्ठ पुष्कर, मध्यम पुष्कर, कनिष्ठ पुष्कर का निर्माण हुआ। महाभारत युद्ध के बाद पांडवों ने यहां स्नान किया, महर्षि वेदव्यास ने महाभारत की रचना की, विश्वामित्र ने यहां तपस्या कि, वेदों को यहां अंतिम रूप से संकलन हुआ। इस झील के चारों ओर अनेक प्राचीन मन्दिर है। इनमें ब्रह्माजी का मन्दिर सबसे प्राचीन है। जिसका निर्माण 10 वीं शताब्दी में पंडित गोकुलचन्द पारीक ने करवाया था। इसी मन्दिर के सामने पहाड़ी पर ब्रह्मा जी की पत्नी ? ? सावित्री देवी ? ? का मन्दिर है। जिसमें माँ सरस्वती की प्रतिमा भी लगी हुई है।(राजस्थान के बाड़मेर जिले में आसोतरा नामक स्थान पर एक अन्य ब्रह्मा मन्दिर भी है ।)
पुष्कर झील के चारों ओर 52 घाट बने हुए है। इन घाटों पर लोग अपने पित्तरों का लोकार्पण करते है।कार्तिक पूर्णिमा को यहां मेला लगता है। दीपदान कि क्रिया होती है। आय की दृष्टि से राजस्थान का सबसे बडा मेला है। यहां पर एक महिला घाट भी बना हुआ है। जिसे वर्तमान में गांधी घाट कहा जाता है। इसका निर्माण 1912 में मैडम मेरी ने करवाया था। गांधी जी की इच्छा पर उनकी अस्थियों का विसर्जन पुष्कर झील में ही किया गया था। इनमें जयपुर घाट सबसे बड़ा है। पुष्कर में राजस्थान में दक्षिण भारतीय शैली का सबसे बड़ा मन्दिर श्री रंग जी का मन्दिर भी बना हुआ है। पुष्कर में आई मिट्टी को साफ करने में 1998 में कनाडा सरकार ने आर्थिक सहायता प्रदान की। पुष्कर के राताड्ढंगा में नाथ पंथ की बैराग शाखा की गद्दी बनी है। पुष्कर के पंचकुण्ड को मृगवन घोषित किया।



सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
साम्भर झील
राजस्थान की मुख्य झीलें
डीडवाना पचपदरा लूणकरणसर आदि झीलें
जयसमंद झील
राजसमंद झील
पिछोला झील
उदयसागर झील
फतहसागर झील उदयपुर
नक्की झील
आनासागर झील अजमेर
फॉयसागर झील
पुष्कर झील अजमेर
सीलीसेढ झील
कोलायत झील बीकानेर

Pushkar Jheel Rajasthan Ke Ajmer Jile Me Shahar Se 11 Ki Mee Doori Par Ka Nirmann Jwalamukhi Udbhedan Hua Hai Yah Bhi Prakritik Sabse Pavitra Sarovar Mana Jata Isliye Ise AadiTeerth Panchna Teerth KonkanTeerth Tirtho Mama Tirtharaj Kahaa Bare Manyata Khudai Pushkarna Brahmannon Dwara Karayi Gayi Atah Sangya Dee Tatha Kivdanti Anusaar Is Brahmaji Hath Gire Teen Kamal Pushpon Jisse Kramash Varisth Madhyam Kanisth Mahabahrat Yudhh B


Labels,,,