पशु पक्षी हमारे मित्र पर निबंध

Pashu Pakshi Hamare Mitra Par Nibandh

GkExams on 12-05-2019

आज से लगभग 130 हजार वर्षे पूर्व मानव का विकास हुआ था । इसी प्रकार लगभग 40 हजार वर्ष पूर्व उसने अग्नि का प्रयोग करना सीख लिया । इसका प्रयोग वह खाना पकाने, गर्मी प्राप्त करने और हिंसक जानवरों को मार भागने में करता था ।



फिर उसने कृषि करना भी सीख लिया और जानवरों का शिकार करने के स्थान पर उन्हें पालना सीख लिया । इस तरह मनुष्य और पशुओं की मित्रता की कहानी बहुत पुरानी है । संभव हैं, मानव ने सबसे पहले कुत्ते से मित्रता प्रारंभ की हो, और फिर दूसरे पशुओं जैसे गाय, बैल, घोड़े आदि को पलना प्रारंभ किया हो । ये पशु हमारे बहुत अच्छे मित्र हैं ।



इन से हमारे अनेक कार्य सिद्ध होते हैं । उदाहरण के लिए कुत्ता एक बड़ा स्वामिभक्त जानवर है । अपने स्वामी के लिए वह अपने प्राण भी बलिदान कर देता है । सुरक्षा करने, मार्ग दिखाने आदि में कुत्ते अतुलनीय है । पुलिस के कुत्ते चोर-डाकुओं, आतंकवादियों, तस्करियों को पकड़ने में बड़े सहायक होते हैं ।



संकट में फंसे हुए लोगों को बचाने में भी कुत्ते बहुत कुशल होते हैं । मनुष्य भी एक प्रकार का पशु ही है, परन्तु यह एक सामाजिक और बुद्धिमान प्राणी है । इस बुद्धि का उपयोग मानव ने अपने विकास और समृद्धि के लिए बड़ी चतुराई से



किया है । उसने पशुओं को पालकर उनसे काम लेना प्रारंभ किया । चार्ल्स डारविन ने मानव का विकास पशुओं और वानरों से माना है । इस तरह हमारार और पशुओं का संबंध बहुत पुराना और घनिष्ठ है । हिन्दू-धर्म में गणेश, हनुमान आदि महत्वपूर्ण देवता हैं ।



गणेश जी का सिर हाथी का है और हनुमान जी वानर हैं । रामायण में वानरों और रीछों ने रामचन्द्र जी को रावण को परास्त करने में बड़ी सहायता की थी । उनके इस सहयोग के बिना सीता को दुष्ट रावण की कैद से छुड़ाना असंभव था ।



गाय हमारे लिए कितनी लाभदायक है । इससे हमें दूध, दही, घी, मक्खन, पनीर, आदि के अतिरिक्त गोबर, खाद, चमड़ा आदि मिलते हैं । बैल बोझा ढोने, गाड़ी और हल चलाने कुंए से पानी निकालने आदि में बड़े काम का है । घोड़ा भी कम उपयोगी नहीं है ।



यह हमारे कई काम में आता है । जब घोड़े की बात चलती है, तो महाराणा प्रताप का घोड़ा चेतक स्मरण हो आता है । चेतक ने अपने प्राण देकर हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप के प्राण बचाये थे । इसी तरह ऊंट, टट्‌टू, हाथी, याक, गधा आदि भी हमारे बहुत अच्छे मित्र हैं । हाथी जितना विशाल है उतना ही बुद्धिमान भी ।



उसकी सवारी की एक निराली ही शान है । ऊंट तो रेगिस्तान का जहाज ही है । बिना पानी के वह रेगिस्तान में यात्रियों और सामान को दूर-दूर तक ले जा सकता है । ऊंचे पहाड़ों पर याक एक बहुमूल्य पशु है । इसका दूध, बाल, खाल, मांस आदि सभी बहुत उपयोगी हैं ।



पशु अपनी मित्रता में सदा खरे उतरे हैं । उन्होंने मानव की सब तरह से सेवा की है बिल्ली भी हमारी अच्छी मित्र है । वह चूहे मारती है और हमारा मनोरंजन करती है । पश्चिमी देशों में बिल्ली पालना एक आम शौक है । बकरी भी कम उपयोगी नहीं है । वह दूध, दही, मक्खन आदि देती है । बहुत-से-लोग बकरे का मांस बड़े चाव से खाते हैं । भेड़ों से हमें ऊन, दूध और मांस मिलता है ।



इसलिए भेड़ो और बकरियों को बड़ी संख्या में पाला जाता है । उनका व्यापार किया जाता है । गधा चाहे मूर्खता का पर्याय बन गया हो, पर इसकी उपयोगिता निराली है । बोझा ढोने में इसकी कोई बराबरी नहीं । गरीबों के लिए तो यह जैसे वरदान ही है ।



हमारे देश में धोबी, कुम्हार, छोटे किसान और खानाबदोश लोग इसका बहुत अच्छा प्रयोग करते हैं । मनोरंजन की दृष्टि से भी जानवर श्रष्ठ हैं । सरकस में बन्दर, भालू, हाथी, घोड़े आदि के करतब देखते ही बनते हैं । चिड़ियाघर में गैंडा, मगरमच्छ, हिरण, वनमानुष, सारस आदि होते हैं । इन्हें देखकर मन को बड़ा अच्छा लगता है । सचमुच ये पशु इनार बहुत अच्छे मित्र हैं ।



Comments Anugya Mishra on 24-09-2021

पक्षी हमारे मित्र है। इसपर 100 शब्दो का निबंध।

Sexer mishra Sexer mishra on 25-06-2021

Pashu pakshi ke sath karlo

Dimpal on 11-11-2020

Yadi app us yug me janam lete jise yug me Bharat ko sone ki chidiya kaha jata tha to kesa anubav karte

Vaishnavi sharma on 20-05-2020

Pakshi hamare aur kishano me mitra

Devansh on 12-01-2020

Devansh to shikhar

खुशी on 01-01-2020

पक्षी हमारे मित्र अनुच्छेद लेखन 100 से 125 शब्द


Mishthi mathur on 12-05-2019

Pashu pakshi par anushad



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment