पशु पक्षियों के प्रति प्रेम पर निबंध

Pashu Pakshiyon Ke Prati Prem Par Nibandh

GkExams on 02-02-2021

वर्तमान समय से तकरीबन 130 हजार वर्षे पिछला मनुष्य का विकास हुआ था। इसी तरह तकरीबन 40 हजार साल पिछला उसने आग का प्रयोग करना सीख स्वीकार किया। इसका प्रयोग वह भोजन पकाने,गर्मी प्राप्त करने और हिंसक पशुओं को मार भागने में करता था।




फिर उसने खेती करना भी सीख स्वीकार किया और पशुओं का शिकार करने के जगह पर उनको पालना सीख स्वीकार किया। इस तरह मानव और पशुओं की दोस्ती की कहानी बहुत प्राचीन है। सम्भव हैं,मनुष्य ने सबसे पहले श्वान से दोस्ती शुरू की हो,और फिर दूसरे पशुओं जैसे गाय,बैल,अश्व वगैरह को पलना शुरू किया हो। ये जानवर हमारे बहुत अच्छे मित्र हैं।

इन से हमारे बहुत काम सिद्ध होते हैं। मिसाल के लिए कुत्ता एक बड़ा स्वामिभक्त पशु है। अपने स्वामी के लिए वह अपने प्राण भी न्योछावर कर देता है। रक्षा करने,रास्ता बताने वगैरह में कुत्ते अतुलनीय है। पुलिस के कुत्ते चोर-डाकुओं,आतंकवादियों,तस्करियों को पकड़ने में बड़े सहायक होते हैं।



संकट में फंसे हुए लोगों को बचाने में भी कुत्ते बहुत निपुण होते हैं। मानव भी एक तरह का जानवर ही है,परन्तु ये एक मिलनसार और बुद्धिमान प्राणी है। इस अक़्ल का इस्तेमाल मनुष्य ने अपने उन्नति और समृद्धि के लिए बड़ी चतुराई से

किया है। उसने पशुओं को पालकर उनसे कार्य लेना शुरू किया। चार्ल्स डारविन ने मनुष्य का उन्नति पशुओं और वानरों से माना है। इस तरह हमारार और पशुओं का रिश्ता बहुत पुराना और घनिष्ठ है। हिन्दू-धर्म में गणेश,हनुमान वगैरह अहम देवता हैं।

गणेश जी का सिर हाथी का है और हनुमान जी वानर हैं। रामायण में वानरों और रीछों ने रामचन्द्र जी को रावण को हारे हुए करने में बड़ी मदद की थी। उनके इस सहयोग के बग़ैर सीता को दुष्ट रावण की कैद से छुड़ाना असंभव था।

गाय हमारे लिए कितनी लाभदायक है। इससे हमें दूध,दही,घी,मक्खन,पनीर,वगैरह के सिवाय गोबर,खाद,चमड़ा वगैरह प्राप्त होते हैं। बैल बोझा उठाकर ले जाने,गाड़ी और उपपत्ति चलाने कुंए से जल निकालने वगैरह में बड़े कार्य का है। अश्व भी कम लाभदायक नहीं है।

ये हमारे अनेक कार्य में आता है। जिस वक्त अश्व की बात चलती है,तब महाराणा प्रताप का अश्व चेतक स्मरण हो आता है। चेतक ने अपने प्राण सौंपकर हल्दीघाटी के लड़ाई में महाराणा प्रताप के प्राण बचाये थे। इसी तरह ऊंट,टट्‌टू,हाथी,याक,गधा वगैरह भी हमारे बहुत अच्छे मित्र हैं। हाथी जितना बहुत बड़ा है उतना ही बुद्धिमान भी।

उसकी सवारी की एक निराली ही शान है। ऊंट तब रेगिस्तान का जहाज ही है। बग़ैर जल के वह रेगिस्तान में यात्रियों और सामग्री को दूर-दूर तक ले जा सकता है। ऊंचे पहाड़ों पर याक एक बहुमूल्य जानवर है। इसका दूध,केश,खाल,मांस वगैरह सब बहुत लाभदायक हैं।

जानवर अपने दोस्ती में हमेशा खरे उतरे हैं। उन्होंने मनुष्य की सब तरह से सेवा की है बिल्ली भी हमारी अच्छी मित्र है। वह चूहे मारती है और हमारा मनोरंजन करती है। प‍श्चिमी देशों में बिल्ली पालना एक साधारण शौक है। बकरी भी कम लाभदायक नहीं है। वह दूध,दही,मक्खन वगैरह देती है। बहुत-से-लोग बकरे का मांस बड़े चाव से खाते हैं। भेड़ों से हमें ऊन,दूध और मांस प्राप्त होता है।

इसलिए भेड़ो और बकरियों को बड़ी गिनती में पाला जाता है। उनका व्यापार किया जाता है। गधा चाहे मूर्खता का पर्याय हो गया हो,पर इसकी उपयोगिता निराली है। बोझा उठाकर ले जाने में इसकी कोई बराबरी नहीं। गरीबों के लिए तब ये जैसे वरदान ही है।

हमारे देश में धोबी,कुम्हार,छोटे किसान और खानाबदोश लोग इसका बहुत अच्छा प्रयोग करते हैं। मनोरंजन की दृष्टि से भी पशु श्रष्ठ हैं। सरकस में बन्दर,भालू,हाथी,अश्व वगैरह के करतब देखते ही निर्मित हैं। चिड़ियाघर में गैंडा,मगरमच्छ,मृग,वनमानुष,सारस वगैरह होते हैं। इनको देखकर मन को बड़ा अच्छा लगता है। सच में ये जानवर इनार बहुत अच्छे मित्र हैं।



Comments Ritika on 29-11-2020

Path ke aadhar per bataiye ki pasu pakshi hamare prem ya nafrat ki bhasa ko kish prakar samajhte hai

Raj kumar patel on 18-11-2020

निबंध लेखन: पशु प्रेम

Hooooooor on 10-10-2020

Pashu pakshiyo ke prati prem

Sahil on 06-02-2020

Pashu pakshi ke prti prem par questions Answers

Khush on 29-11-2019

Pashu pandhiyoh keh prati prem

Pasuprem on 06-10-2019

Ok


Vishnu Singh on 12-05-2019

Essay on phashu pakshiyon ke prati Prem

Harshita on 12-05-2019

I need a story on animals on the feeling they have of thanking

kutti on 12-05-2019

Mera naam kutti hai

Nancy on 12-05-2019

Pashu pakshi ke prati mera prem

bill gates on 12-05-2019

Main bohot amir hoon
Hahahahaahha
Hahaahhahahaha

राजकुमारी on 12-05-2019

पशु पक्षियों से प्रेम करनेवाले को क्या कहते हैं?




Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment