जापानी इन्सेफेलाइटिस अनुसंधान केंद्र

JaPani Encephalitis Anusandhan Kendra

GkExams on 12-05-2019

चावलों के खेतों में पनपने वाले मच्छरों से (प्रमुख रूप से क्युलेक्स ट्रायटेनियरहिंचस समूह)। यह मच्छर जापानी एनसिफेलिटिस वायरस से संक्रमित हो जाते हैं (सेंट लुई एलसिफेलिटिस वायरस एंटीजनीक्ली से संबंधित एक फ्लेविवायरस)। जापानी एनसिफेलिटिस वायरस से संक्रमित मच्छरों के काटने से होता है। जापानी एनसेफेलाइटिस वायरस से संक्रांत पालतू सूअर और जंगली पक्षियों के काटने पर मच्छर संक्रांत हो जाते है। इसके बाद संक्रांत मच्छर पोषण के दौरान जापानी एनसेफेलिटिस वायरस काटने पर मानव और जानवरों में जाते हैं। जापानी एनसेफेलिटिस वायरस पालतू सूअर और जंगली पक्षियों के रक्त प्रणाली में परिवर्धित होते हैं। जापानी एनसेफेलिटिस के वायरस का संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं होता है। उदारहण के लिए आपको यह वायरस किसी उस व्यक्ति को छूने या चूमने से नहीं आ सकता जिसे यह रोग है या किसी स्वास्थ्य सेवा कर्मचारी से जिसने किसी इस प्रकार के रोगी का उपचार किया हो। केवल पालतू सूअर और जंगली पक्षी ही जापानी एनसेफेलिटिस वायरस फैला सकते हैं।



Comments Lalit Rana on 12-05-2019

Bhartiya Krishi Anusandhan Sansthan kahan sthit hai

Sonu on 12-05-2019

निम्नलिखित में से किस राज्य में जापानी इंसेफेलाइटिस अनुसंधान केंद्र स्थापित किया जाने वाला है 1.UP 2.MP 3.Assam 4.Nagaland

sunil kumar on 12-05-2019

Up

Rakesh on 12-05-2019

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान कहां स्थित है

Pritam on 06-09-2018

Delhi



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment