उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री कार्यालय पता

Uttar Pradesh MukhyaMantri Karyalaya Pata

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 10-10-2018


C-42, Mahanagar, Lucknow, Uttar Pradesh 226006


Comments Vinod tiwari on 23-11-2019

जनपद गोंडा के विकास खड रुपईडीह के ग्राम पंचायत कल्याणपुर के कोटेदार आशा कनौजिया के ऊपर ग्रामीणों ने लगाया गंभीर आरोप लिखित प्रार्थना पत्र जिला अधिकारी व SDM गोंडा को प्रार्थना पत्र दिया गया है लेकिन अभी गोंडा जनपद के अधिकारी के द्वारा ना तो मामला संज्ञान में लिया गया ना ही जांच कराया गया सारे मामले में लीपापोती की जा रही है और जांच कराकर ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है महोदय आपसे निवेदन है इस मामले को संज्ञान में लेकर अवश्य कार्रवाई करने का कष्ट करें अति महान कृपा होगी


नवीन on 12-05-2019

मुख्यमंत्री को पत्र किस पते पर भेजे

Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।


Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।


Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।


Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।


Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।


Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।


Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।


Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।


Seema Devi on 20-08-2018

विषय जेई ,SDO व अधिशाषी अभियंता द्वारा उत्कोच प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मरों की बिना जांच किए ही बार बार मिथ्या आख्या प्रेषित करने के संदर्भ में।
महोदय उपरोक्त विषय के क्रम में यह कहना है कि विभागीय भ्रष्टाचार के कारण मेरे घर के ऊपर से गुजरी 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइट को हटाने के लिए नियम कानून की आड़ में 10 गुना शिफ्टिंग चार्ज की मांग की जाती है जबकि कपुरी बढैया में ही चार से पांच की संख्या में रिश्वत प्राप्त करके अवैध ट्रांसफार्मर लगाया गया है जिसके लिए शिकायत संदर्भ संख्या 40017518052470 पर शिकायत भी दर्ज कराई परंतु यही जेई ,sdo व अधिशासी अभियंता ने काफी उत्कोच प्राप्त करने के कारण शिकायत को निराधार दिखा दिया। क्या बिना आधार के ट्रांसफार्मर टंगे हुए हैं जो निराधार दिखा दिया गया ?कपुरी बढ़ैया में लगे विद्युत के लिए विभाग से मैंने 2008 से जन सूचना की मांग कर रही हूं परंतु रिश्वत प्राप्त कर्मचारी व अधिकारियों एवं नक्शे के अनुसार पोलों को न गाड़े जाने के कारण आज तक कोई जन सूचना नहीं दी गई ।
मेरे घर के ऊपर से 11000 वोल्टेज की सप्लाई लाइन को हटाने हेतु इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिनांक 5 मई 2017 को विभाग को आदेशित किया था परंतु आज तक लाइट नहीं हटाई गई अब तक मैं कई शिकायतें कर चुकी हूं तथा शिकायत को निराधार दिखाने पर मैंने शिकायत संदर्भ संख्या 40017518074576 पर पुनः शिकायत दर्ज कराई हूं जिसका जनसुनवाई में कोई निस्तारण नहीं पाया जाता ।ऐसा क्यों किया जा रहा है? बीते 24 जुलाई 2018 को वर्षा की रात में रात से सुबह तक चलता रहा अंततः टूटकर गिर गया अधिशाषी अभियंता जी डी यादव ने मौका मुआयना के दौरान जेई को तब तक न जोड़ने हेतु आदेशित किया जब तक की लाइट शिफ्ट न कर दिया जाए परंतु ठीक 1 महीने बाद इसी अधिशासी अभियंता GD यादव ने मुझ निर्बल महिला पर पुलिस बल के प्रयोग सहित जबरन लाइन जुड़वा दिया। फोन पर इसका कारण पूछने पर उन्होंने किसी उच्च अधिकारी या मंत्री का दबाव बताया यह ऑडियो रिकॉर्डिंग संलग्न है विचार कीजिए कि यह ऐसे अधिकारी है जिनको यदि गलत कार्य करने का भी दबाव बनाया जाए तो ये वो कार्य कर देंगे क्यों कि जो अधिशासी अभियंता 1 महीने पहले लाइट शिफ्टिंग का आश्वासन दे रहा था वही आकर सप्लाई चालू करवा दिया। इससे सिद्ध होता है कि इन्होंने भी पर्याप्त उत्कोच प्राप्त कर रखा है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों पर कड़ी कार्यवाही की आवश्यकता है।
निवेदन करती हूं कि उत्कोच प्राप्त करने हेतु जेई अभिनव मौर्या ,एसडीओ बैदवार व अधिशासी अभियंता जी डी यादव पर कार्यवाही करने का कष्ट करें।
नोट शिकायत का निस्तारण करने हेतु आवेदिका से संपर्क अवश्य स्थापित कर लिया जाए अति कृपा होगी।




Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment