मंदोदरी के माता पिता

Mandodari Ke Mata Pita

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 12-05-2019

मंदोदरी रामकथा-काव्यों में मन्दोदरी का चरित्र वर्णित हुआ है।



इसके पिता का नाम मयासुर था तथा माता रम्भा नामक अप्सरा थी।

मन्दोदरी का विवाह रावण से हुआ था तथा इससे रावण के इन्द्रजित नामक पुत्र भी उत्पन्न हुआ था।

मंदोदरी पंचकन्याओं में से एक थी।



अहल्या द्रौपदी तारा कुंती मंदोदरी तथा।

पंचकन्या: स्मरेतन्नित्यं महापातकनाशम्॥[1]



रामचरितमानस में मंदोदरी



मन्दोदरी एक ऐसी रानी है, जिसने यथा समय नीति के अनुसार रावण को समझाने की चेष्टा की । वह राम की शूरवीरता से परिचित थीं अतः उसने कहा-



अति बल मधु कैटभ जेहि मारे । महाबीर दितिसुत संघारे ।। जेंहि बलि बाँधि सहसभुजमारा । सोई अवतरेउ हरन महि मारा।।[2]



उसने रावण को अनेक तरह से समझाया, पर रावण अपनी हठ पर अड़ा रहा । ऐसी स्थिति में उसने भी यह मान लिया था कि उसका प्रति काल के वश में है अतः उसे अभिमान हो गया है, यथा-



नाना विधि तेहि कहेसि बुझाई । सभाँ बहोरि बैठ सो जाई ।। मन्दोदरी हृदय अस जाना । काल बस्य उपजा अभिमाना ।।[3]



मन्दोदरी राजनीति की विशारद् और राज-काज की सहायिका भी थी । उसने नगरवासियों के विचारों को जानने के लिए दूतियों तक को नियुक्त कर रखा था । समय की प्रतिकूलता को जानकर ही उसने रावण को समझाने का प्रयास किया था, पर रावण की हठ के कारण वह असफल रही ।



Comments Atul Mandodari ki maa ka naam on 12-05-2019

Mandodari ki maa ka naam

Anil Dubey ji on 28-11-2018

Mandodari ke mata pita Kon the

Vishakha on 05-10-2018

Rabankenanakanaam

Mukesh upadhayay on 05-09-2018

रावण के साढू का क्या नाम था



Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment