रेडियो के लाभ और हानि

Radio Ke Labh Aur Hani

Pradeep Chawla on 14-09-2018


मनुष्य सदा से अपना मनोरंजन करता आया है । मन की शान्ति के लिए वह नई-नई खोज करता गया । नए-नए आविष्कार करने में वैज्ञानिकों को होड़ लग गई । मानव ने प्रकृति को अपने हाथ का खिलौना बना लिया । आज घर में बिजली से बनी प्रत्येक वस्तु वैज्ञानिक आविष्कार का चमत्कार है ।


रेडियो भी उन्हीं आविष्कारों में से एक है । इटली के मार्कोनी और भारत के जगदीशचन्द्र बसु, दोनों ने ही ध्वनि तरंगों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने का प्रयास किया । मार्कोनी को 1901 में सफलता मिली जब उन्होंने एक समाचार इंग्लैण्ड से न्यूजीलैण्ड भेजा ।


जगदीश चन्द्र बसु ने 1859 में छोटे पैमाने पर यह प्रयास किया था । परतंत्र भारत उनकी इस खोज को कोई महत्वपूर्ण स्थान न दे पाया और वे इस वैज्ञानिक दौड़ में पीछे रह गए और मार्कोनी अमर हो गए । भारत का प्रथम रेडियो स्टेशन 1927 में स्थापित हुआ और आज हर प्रान्त में कई-कई रेडियों स्टेशन हैं । रेडियो की आवाज हम तक कैसे पहुँचती है ? इसकी एक प्रक्रिया है- पहले आकाशवाणी केन्द्र बिजली द्वारा ध्वनि को बिजली की लहरों में परिवर्तित कर देता है ।


फिर इन लहरों को आकाश में छोड़ दिया जाता है । इन लहरों को रेडियो रिसीवर पकड़ लेते हैं और सुनने वाले रेडियों के बटन दबाकर मनचाहे कार्यक्रम सुन सकते हैं । रेडियो अनेक प्रकार के होते हैं लेकिन मुख्य रूप से हम इन्हें तीन भागों में वर्गीकृत कर सकते हैं- स्थानीय, अखिल भारतीय और विदेशों से सम्बन्धित ।


स्थानीय रेडियो पर केवल प्रान्त विशेष के कार्यक्रम, अखिल भारतीय रेडियो पर पूरे भारत के कार्यक्रम और विदेशी रेडियो से विदेशों के कार्यक्रम सुनने को मिलते हैं । रेडियों के अन्दर एक सुई होती है जिसे बटन की सहायता से इधर-उधर घुमाया जाता है । जिससे उस केन्द्र से सम्पर्क जुड़ जाता है और आवाज आने लगती है ।


रेडियो के अनेक लाभ हैं । घर बैठे देश ओर विदेश के ताजा समाचार मालूम हो जाते हैं । क्रिकेट इंग्लैण्ड में हो और आखों देखा हाल हिन्दी और अंग्रेजी में बारी-बारी से प्रस्तुत होता है । इसके अतिरिक्त पुराने नए फिल्मी गाने, कलाकारों से वार्तालाप, शास्त्रीय संगीत, नाटक, महत्वपूर्ण वार्ताएं, स्त्रियों के घरेलू कार्यक्रम, जिनमें उन्हें-खाना बनाने की विधियाँ, कपड़ों की देखभाल, घरेलू चिकित्सा के उपाय आदि के बारे में जानकारी दी जाती है ।


किसानों के कृषि से सम्बन्धित कार्यक्रम जिसमें उन्हें कौन सी फसल किस मौसम में बोनी चाहिए, फसल को कब बोना और काटना चाहिए, कब और कहाँ बेचना चाहिए आदि जानकारी मिलती है । इसके अतिरिक्त सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक परिस्थितियों की जानकारी, पर्वों पर विशेष कार्यक्रम, बच्चों के लिए शिक्षाप्रद कहानियाँ आदि अनेक कार्यक्रम प्रसारित होते हैं:


रेडियो-जहाज, पुलिस, सेना के वाहनों आदि में लगा होता है । जिसके द्वारा वह अपना संदेश मुख्य कार्यालयों तक पहुँचाने हैं । हवाई जहाज यदि उड़ता हुआ किसी विपत्ति में फंस जाए जो रेडियों द्वारा ही कार्यालय में सूचित किया जाता है । रेडियों का एक रूप ट्रांजिस्टर भी है ।


जिसे लोग कानों पर लगाकर सुनते है । विशेष कर जब क्रिकेट मैच हो तब लोग कमेन्टरी सुनने के लिए उसका उपयोग करते हैं क्योंकि छोटा होने के कारण लोग उसे अपनी जेब, बैग या अटैची में रख लेते हैं । रेडियो क्षण भर में विश्व में घटित महत्वपूर्ण सूचनाएं हम तक तुरन्त पहुँचा देता है ।


व्यापारी वर्ग के विज्ञापन भी रेडियों से प्रसारित होते हैं । जिससे आकाशवाणी को अतिरिक्त आय होती है और व्यापारियों को ग्राहक मिल जाते हैं और ग्राहकों को अपनी पसन्द का सामान । मनोरंजन के इस साधन में कोई बुराई नहीं है । हर कला का दृष्टिकोण इस में समाहित है । मनोरंजन का यह साधन पहले भी लोकप्रिय था, आज भी लोकप्रिय है और भविष्य में भी रहेगा ।

रेडियो कम्युनिकेशन संचार का आसान और विश्वसनीय साधन। सुविधा के अनुसार इसे वाकी टॉकीज की तरह भी इस्तेमाल किया जा सकता है जहां संचार का कोई अन्य माध्यम उपलब्ध ना हो, रेडियो संचार प्रणाली कम खर्चीली और आसान कीमत पर हर पर्यावरण की स्थिति के लिए उपयोगी है।


मन की बात| मन का रेडियो बजने दे जरा
मन की बात आकाशवाणी पर प्रसारित किया जाने वाला एक कार्यक्रम है जिसके जरिये भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारत के नागरिकों को संबोधित करते हैं। इस कार्यक्रम का पहला प्रसारण 3 अक्तूबर 2014 को किया गया।



Comments Bhumika on 20-06-2021

Redio se labh or Hani

Anjali on 18-06-2021

रेडियो की हानियां क्या है

Nitya on 15-06-2021

Redio ke hani bataiye

दिशा on 11-06-2021

रेडियो से हमें क्या नुकसान है

Yamini Verma on 09-06-2021

Aadhunik sanchar ke sadhno ka labh avam hani btaiye

क्लिक on 07-06-2021

लाभ और हानिया बताओ


उषा on 05-06-2021

रेडियो के फायदे और नुकसान क्या है बताए।

Puja on 04-06-2021

रेडियो से हमें क्या नुकसान है रेडियो से हमें क्या नुकसान है

Redio ke nuksan on 31-05-2021

Redio ke nuksan

Kartik on 29-05-2021

Rediyo ke labh and hani batayen

Noor on 27-03-2021

Kyaa bakwas h yee

......bghfff on 19-03-2021

Aap ne radio ke dosh to btaye nhai


Faizankhan on 18-03-2021

Disadvantages of radio

Reshma on 30-01-2021

Radio ke labh aur

Anjali on 08-01-2021

Radio ke Hani

Deepti Jain on 05-01-2021

Radio ki haniya

Pk on 26-12-2020

Radio ki do labh aur do haniyan

Shivani on 16-12-2020

Radio ki khamiya?


Himanshi on 10-12-2020

Radio ki hani

Himanshi on 10-12-2020

Radio ki kya hani h

Jony on 18-11-2020

Radio ke Labh

f on 17-11-2020

रेडियो की दो हानिया

Harsh on 17-11-2020

radio dis advantage

Rajan on 13-09-2020

Radio ki haniyan

Shivani upadhya on 28-02-2020

Radio Sakri Pradhan ke Labh aur Hani

Tanu on 20-01-2020

Radio ke advantages and disadvantages hindi m

Tanu on 20-01-2020

Radio ka disadvantages and advantages hindi m

Alishan khan on 19-01-2020

Radio se haniyan

Disha on 22-12-2019

रेडियो के लाभ और हानि ?

Radio se hani kya hoti hain on 04-11-2019

Radio se kon kon si hani hoti h


Jyoti on 02-10-2019

Radio ka fayda or nuksan

Redio ka hani on 28-09-2019

Redio se hani

Shuhaiba on 19-08-2019

Redio ke hani

tonygarg050@gmail.com on 23-07-2019

Radio ki Hani kya hai

Radio ka Hani Kya h. on 07-07-2019

Radio ka Kya hani h.

Ysh on 29-06-2019

Radio ki labh v haniya

Azeez Azeez on 13-09-2018

Tv ke bare me Hindi me vistarn

Aarvi on 13-09-2018

Radio madhyam ke labh aur hani kya hai



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment