क्षत्रिय धर्म के नियम

Kshatriya Dharm Ke Niyam

GkExams on 24-11-2018

राजपूत धर्म के अनुसार नियम
राजपूत धर्म के अनुसार नियम
1. एक ही गोत्र के लड़का और
लड़की का विवाह नहींकरना चाहिए !
2. श्राद्ध मैं और किसी मांगलिक पर्व मैं
सिर्फ सगोत्र ब्राह्मण को ही निमंत्रित
करना चाहिए !
3. प्रेम के तर्पण मैं उसके गोत्र और नाम
को दोहराया जाता है!
4.अपने संस्कार मैं बालों की चोटी अपने
गोत्र और कुलाचार के अनुसार
छोड़ी जाती है !
5. जितने पर्वर ऋषि होते है ! यागयोपवित मैं
उतनी ही गांठे लगायी जाती है !
6. सभी मांगलिक कार्योंमैं अपने गोत्र-
पर्वर वेदशाखा और सूत्र के नाम लिए जाते
है !
7.मरने वाले का धन अपने गोत्र वाले
को ही मिलताहै !
8. राजपूतो के इन गोत्र-पर्वर के कारण
ही इन्हें बह्राम्शश्त्रकहा जाता है !



Comments Shrutizala on 28-05-2021

Me rajput se shadi karna chahti hoon lekin Me kharva hoon or Mera prem rajput hain ham inercaste hain ham kese kre sgadi

यशपाल सिंह चौहान फींच on 25-01-2019

क्षत्रिय धर्म के कितने नियम है संख्या और उसके बारे में भी बताओ ?

गिरिराज सिह राठौड on 17-01-2019

गिरिराज सिह राठौड Good



आप यहाँ पर क्षत्रिय gk, धर्म question answers, general knowledge, क्षत्रिय सामान्य ज्ञान, धर्म questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment