आक के पत्ते के फायदे

Aak Ke Patte Ke Fayde

Gk Exams at  2018-03-25

GkExams on 22-12-2018

आक, मदार के 13 औषधीय गुण और उपयोग

1 IBS संग्रहणी

रोज़ आक के पांच फूल खाने से IBS संग्रहणी के उपद्रव शांत होते हैं और पेट की इन्फेक्शन में लाभ मिलता है.


मार्च अप्रैल में इसके फूल आते हैं.


एक माह तक इन्हें उपयोग कीजिये, सफेद आक के फूल के फायदे पूरा साल पायेंगे.

2 बवासीर

सूर्योदय से पहले आकडे़ की 3 बूंद दूध बताशे में डालकर खाने से बवासीर में लाभ होता है।

3 आधे सिर का दर्द (Migraine)

माइग्रेन में यदि दर्द सूर्योदय के साथ बढ़ता-घटता हो तो सुबह सूरज उगने से पहले 1 बताशे पर 2 बूंद आकड़े के दूध को टपकाकर खांये।


शीघ्र ही लाभ होगा।

4 घट्टा कॉर्न (Corn)

मदार का दूध और गुड़ दोनों को समान मात्रा में मिलाकर घट्टा (आटण) पर लगाने से घट्टा ठीक हो जाता है।

5 पेटदर्द

आकड़े के जड़ की छाल, नौसादर, गेरू, कालीमिर्च सभी समान मात्रा में 1-1 चम्मच लेकर पीस लें।


इसमें आधा चम्मच कपूर पीसकर मिला लें।


3 धाणी (सेके हुए जौ) को आधा कप आकड़े के दूध में 15 दिन तक भिगो दें।


इसके बाद सुखाकर पीस लें।


इसे चौथाई चम्मच की मात्रा में शहद के साथ मिलाकर एक बार नित्य चाटें।


दमा में लाभ होताहै।


आकड़े के पत्ते का छोटा-सा टुकड़ा पान में रखकर नित्य 40 दिन तक खाने से हर प्रकार का दमा, खांसी ठीक होता है।

7 यक्ष्मा (Tubercolosis)

आकड़े का दूध 4 चम्मच और 200 ग्राम पिसी हुई हल्दी मिलाकर पीसें।


पीसते-पीसते सूख जाने पर शीशी भरकर रख लें।


यह पाउडर एक चने के बराबर आधा चम्मच शहद में मिलाकर नित्य 4 बार चाटें।


टी.बी. के रोगी 3 माह में ठीक हो जायेंगें। टी.बी. में रक्त की उल्टी भी ठीक हो जायेगी।


असाध्य टी.बी. रोगी भी लाभान्वित होंगें।

8 बुखार

आकड़े की कोंपल आखिरी छोर (नया पत्ता) नागरबेल के पान में रखकर थोड़ी सी सौंफ डालकर चबायें।


इससे हर प्रकार का बुखार, मलेरिया, वायरल, सामान्य बुखार एक बार लेने से ठीक हो जाते हैं।

9 मलेरिया

आकड़े के फूल की दो डोडी (बिना खिले फूल) जरा-से गुड़ में लपेटकर मलेरिया ज्वर आने से पहले खाने से मलेरिया नहीं चढ़ता है।

10 बालतोड़

आक का पत्ता गर्म करके बालतोड़ पर लगाकर बांध दें।


इसके फूल की डोडी के अंदर का छोटा टुकड़ा गुड़ में लपेटकर खाने से भी बालतोड़ नष्ट हो जाता है।

11 जुकाम

जुकाम हो, नाक बंद हो तो आकड़े के 2 चम्मच दूध में 2 चम्मच चावल भिगों दें और छाया में पड़ा रहने दें।


जब सूख जाये तो पीसकर कपड़े से छान लें।


इसे जरा-सा सूंघें।


 आक के पत्ते के फायदे


नाक छींकें आकर खुल जायेगी, जुकाम ठीक हो जायेगा।


रुका हुआ पानी टपकने लगेगा।


इसे सूंघने से छीकें अधिक आयें तो देशी घी गर्म करके सूंघे।

12 जोड़ों का दर्द

एक मुट्ठी आकड़े के फूल 2 गिलास पानी में रात को उबालें और इसकी भाप से जोड़ों को सेंके।


इसके बाद गर्म-गर्म फूलों को जोड़ों पर बांध लें।


एक सप्ताह नित्य इस प्रकार करते रहने से दर्द दूर हो जायेगा।


शरीर के किसी भी अंग में दर्द हो तो इस प्रयोग से लाभ होगा।

13 पथरी

आकड़े के 10 फूल पीसकर 1 गिलास दूध में घोलकर प्रतिदिन सुबह 40 दिन पीने से गुर्दे और मूत्राशय की पथरी निकल जाती है।

आक के दुष्प्रभाव का निवारण

आक, मदार एक विषैली वनस्पति है इसलिए इसका उपयोग सीमित मात्रा में ही किया जाता है.


पत्ते, फूल या अन्य कोई भाग अधिक सेवन करने से दुष्परिणाम उत्पन्न हो गये हों तो के पत्तों को उबालकर उसका पानी पीने से


आकड़े की विषाक्तता दूर हो जाती है।


आकड़े का दूध लगाने से यदि घाव हो जाये तो के पत्तों को उबालकर बने पानी से घावों को धोयें।

आक के अन्य उपयोग

आक के उपयोग की अध्यात्मिक और तांत्रिक मान्यतायें भी प्रचलित हैं.

सफेद आकडे की जड़ के टोटके के बारे में ऐसी मान्यता है कि पुराने होने पर इसकी जड़ में गणेश जी की मूर्ती बन जाती है



Comments Atma Ram Badetia on 21-04-2020

मेरे पगथली मेँ जूती पहनकर 12 kms पैदल चला और जूती new थी तो निचे पैर मेँ थोड़ा खून इकठा हो गया दर्द कर रहा है

Kk on 13-04-2020

Kya aak ke pate ko subah pan ke pate ke sath khane se jaundice thik ho jaega

Sardi kaise khatm kre on 11-12-2019

Sardi kaise khatm kre

Harpreet singh on 12-05-2019

Mera Khwaja Mere Paas Paisa kyu nahi aata

Bina patta ke Phool Khile on 20-02-2019

Bina patta ke Phool Khile



Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।
आपका कमेंट बहुत ही छोटा है



Register to Comment