मरुस्थलीकरण को परिभाषित

Marusthalikarann Ko Paribhashit

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

GkExams on 12-05-2019

मरुस्थलीकरण ज़मीन का क्षरण है, जो शुष्क और अर्द्ध-नम क्षेत्रों में विभिन्न कारकों की वजह से होता है: जिनमें विविध जलवायु और मानवीय गतिविधियां[1] भी शामिल है। मरुस्थलीकरण मुख्यतः मानव निर्मित गतिविधियों[कृपया उद्धरण जोड़ें] के परिणाम स्वरूप होता है: विशेष तौर पर ऐसा अधिक चराई, भूमिगत जल के अत्यधिक इस्तेमाल और मानवीय एवं औद्योगिक कार्यों[कृपया उद्धरण जोड़ें] के लिए नदियों के जल का रास्ता बदलने की वजह से है और यह सारी प्रक्रियाएं मूलतः अधिक आबादी[कृपया उद्धरण जोड़ें] की वजह से संचालित होती हैं।

मरुस्थलीकरण का सबसे गहरा प्रभाव है जैव विविधता और उत्पादक क्षमता में कमी, उदाहरण के लिए संक्रमण से झाड़ियों से भरे ज़मीनों के गैर देशीय चरागाह[कृपया उद्धरण जोड़ें] में तब्दील होना. उदाहरण के लिए, दक्षिणी कैलिफोर्निया के अर्द्ध-शुष्क क्षेत्रों में, कई तटीय वृक्षों और झाड़-झंखाड़ों वाले पारितंत्रों की जगह नियमित अंतराल पर आग की वापसी से गैर देशीय, आक्रामक घास भर गयी हैं। इसकी वजह से वार्षिक घास की ऐसी श्रृंखला पैदा हो सकती है जो कभी मूल पारितंत्र में पाये जाने वाले जानवरों को सहारा नहीं दे सकती[कृपया उद्धरण जोड़ें]. मेडागास्कर की केंद्रीय उच्चभूमि के पठार[कृपया उद्धरण जोड़ें] में, स्वदेशी लोगों द्वारा काटने और जलाने की कृषि पद्धति की वजह से पूरे देश का 10% हिस्सा मरुस्थलीकरण में तब्दील हो गया है



Comments

आप यहाँ पर मरुस्थलीकरण gk, परिभाषित question answers, general knowledge, मरुस्थलीकरण सामान्य ज्ञान, परिभाषित questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment