50 अनेकार्थी शब्द

50 अनेकार्थी Shabd

GkExams on 12-05-2019

1. अनेकार्थक शब्द
2. ‘अनेकार्थक’ शब्द का अभिप्राय है, किसी शब्द के एक से अधिक अर्थ होना। बहुत से शब्द ऐसे हैँ, जिनके एक से अधिक अर्थ होते हैँ। ऐसे शब्दोँ का अर्थ भिन्न–भिन्न प्रयोग के आधार पर या प्रसंगानुसार ही स्पष्ट होता है। भाषा सौष्ठव की दृष्टि से इनका बड़ा महत्त्व है।

3. ♦ प्रमुख अनेकार्थक शब्द :
4. अंक – संख्या के अंक, नाटक के अंक, गोद, अध्याय, परिच्छेद, चिह्न, भाग्य, स्थान, पत्रिका का नंबर।
5. अंग – शरीर, शरीर का कोई अवयव, अंश, शाखा।
6. अंचल – सिरा, प्रदेश, साड़ी का पल्लू।
7. अंत – सिरा, समाप्ति, मृत्यु, भेद, रहस्य।
8. अंबर – आकाश, वस्त्र, बादल, विशेष सुगन्धित द्रव जो जलाया जाता है।
9. अक्षर – नष्ट न होने वाला, अ, आ आदि वर्ण, ईश्वर, शिव, मोक्ष, ब्रह्म, धर्म, गगन, सत्य, जीव।
10. अर्क – सूर्य, आक का पौधा, औषधियोँ का रस, काढ़ा, इन्द्र, स्फटिक, शराब।
11. अकाल – दुर्भिक्ष, अभाव, असमय।
12. अज – ब्रह्मा, बकरा, शिव, मेष राशि, जिसका जन्म न हो (ईश्वर)।
13. अर्थ – धन, ऐश्वर्य, प्रयोजन, कारण, मतलब, अभिप्रा, हेतु (लिए)।
14. अक्ष – धुरी, आँख, सूर्य, सर्प, रथ, मण्डल, ज्ञान, पहिया, कील।
15. अजीत – अजेय, विष्णु, शिव, बुद्ध, एक विषैला मूषक, जैनियोँ के दूसरे तीर्थँकर।
16. अतिथि – मेहमान, साधु, यात्री, अपरिचित व्यक्ति, अग्नि।
17. अधर – निराधार, शून्य, निचला ओष्ठ, स्वर्ग, पाताल, मध्य, नीचा, पृथ्वी व आकाश के बीच का भाग।
18. अध्यक्ष – विभाग का मुखिया, सभापति, इंचार्ज।
19. अपवाद – निँदा, कलंक, नियम के बाहर।
20. अपेक्षा – तुलना मेँ, आशा, आवश्यकता, इच्छा।
21. अमृत – जल, दूध, पारा, स्वर्ण, सुधा, मुक्ति, मृत्युरहित।
22. अरुण – लाल, सूर्य, सूर्य का सारथी, सिँदूर, सोना।
23. अरुणा – ऊषा, मजीठ, धुँधली, अतिविषा, इन्द्र, वारुणी।
24. अनन्त – सीमारहित, ब्रह्मा, विष्णु, शिव, शेषनाग, लक्ष्मण, बलराम, बाँह का आभूषण, आकाश, अन्तहीन।
25. अग्र – आगे का, श्रेष्ठ, सिरा, पहले।
26. अब्ज – शंख, कपूर, कमल, चन्द्रमा, पद्य, जल मेँ उत्पन्न।
27. अमल – मलरहित, कार्यान्वयन, नशा-पानी।
28. अवस्था – उम्र, दशा, स्थिति।
29. आकर – खान, कोष, स्रोत।
30. अशोक – शोकरहित, एक वृक्ष, सम्राट अशोक।
31. आराम – बगीचा, विश्राम, सुविधा, राहत, रोग का दूर होना।
32. आदर्श – योग्य, नमूना, उदाहरण।
33. आम – सामान्य, एक फल, मामूली, सर्वसाधारण।
34. आत्मा – बुद्धि, जीवात्मा, ब्रह्म, देह, पुत्र, वायु।
35. आली – सखी, पंक्ति, रेखा।
36. आतुर – विकल, रोगी, उत्सुक, अशक्त।
37. इन्दु – चन्द्रमा, कपूर।
38. ईश्वर – प्रभु, समर्थ, स्वामी, धनिक।
39. उग्र – क्रूर, भयानक, कष्टदायक, तीव्र।
40. उत्तर – जवाब, एक दिशा, बदला, पश्चाताप।
41. उत्सर्ग – त्याग, दान, समाप्ति।
42. उत्पात – शरारत, दंगा, हो-हल्ला।
43. उपचार – उपाय, सेवा, इलाज, निदान।
44. ऋण – कर्ज, दायित्व, उपकार, घटाना, एकता, घटाने का बूटी वाला पत्ता।
45. कंटक – काँटा, विघ्न, कीलक।
46. कंचन – सोना, काँच, निर्मल, धन-दौलत।
47. कनक – स्वर्ण, धतूरा, गेहूँ, वृक्ष, पलाश (टेसू)।
48. कन्या – कुमारी लड़की, पुत्री, एक राशि।
49. कला – अंश, एक विषय, कुशलता, शोभा, तेज, युक्ति, गुण, ब्याज, चातुर्य, चाँद का सोलहवाँ अंश।
50. कर – किरण, हाथ, सूँड, कार्यादेश, टैक्स।
51. कल – मशीन, आराम, सुख, पुर्जा, मधुर ध्वनि, शान्ति, बीता हुआ दिन, आने वाला दिन।
52. कक्ष – काँख, कमरा, कछौटा, सूखी घास, सूर्य की कक्षा।
53. कर्त्ता – स्वामी, करने वाला, बनाने वाला, ग्रन्थ निर्माता, ईश्वर, पहला कारक, परिवार का मुखिया।
54. कलम – लेखनी, कूँची, पेड़-पौधोँ की हरी लकड़ी, कनपटी के बाल।
55. कलि – कलड, दुःख, पाप, चार युगोँ मेँ चौथा युग।
56. कशिपु – चटाई, बिछौना, तकिया, अन्न, वस्त्र, शंख।
57. काल – समय, मृत्यु, यमराज, अकाल, मुहूर्त, अवसर, शिव, युग।
58. काम – कार्य, नौकरी, सिलाई आदि धंधा, वासना, कामदेव, मतलब, कृति।
59. किनारा – तट, सिरा, पार्श्व, हाशिया।
60. कुल – वंश, जोड़, जाति, घर, गोत्र, सारा।



Comments saksham on 30-08-2021

pagal he ye website

Laal on 12-03-2021

Laal ka anek arth wachik shabd

Rajani on 19-09-2020

Jaan or swar k bhinn bhinn arth ky he

laxmi on 25-07-2020

रथ का anekararthi kya h

Aditya on 18-06-2020

Dhun ka anekarthi shabd

जान on 12-03-2020

जान,लाल का अनेकार्थी शब्द


Xxx on 10-02-2020

Hvhchbjnjv paagal

ausat on 19-01-2020

ausat

Purnima on 19-11-2019

Smash ka bhad

BASANT KUMAR on 27-09-2019

Akalpit

harsh baranwal on 19-05-2019

50 vakyansh ke liye ek
shabd

Vedika on 12-05-2019

Dhra




Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment