पद्माकर के दोहे अर्थ सहित

Padmakar Ke Dohe Arth Sahit

Pradeep Chawla on 12-05-2019

check link below -





http://kavitakosh.org/kk/%E0%A4%AA%E0%A4%A6%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%95%E0%A4%B0


Comments Naziyaahmed on 16-11-2021

Dohe kiya earth hai

j k m on 23-02-2021

padmakar pat ka hindi art

nitesh on 10-02-2021

Padmakar Ji ke teen Kavita ki Vyakhya NCERT course kaksha 11 part 13

Pooja on 30-01-2021

Pdmakr ki viyakhiya

Simran on 11-01-2021

Jhoran ke meaning

Rahul on 14-12-2020

चितै-चितै चारों ओर चौंकि-चौंकि परै त्योंही, जहाँ-तहाँ जब-तब खटकत पात है।


Roshan Singh on 04-03-2020

सम्पति सुमेर की कुबेर की जो पावै ताहि,
तुरंत लुटावत बिलम्ब उर धारै ना.
कहै ‘पदमाकर’ सुहेम हय हाथिन के,
हल्के हजारन के बितऋ बिचारे ना.
दीन्हें गज बकस महीप रघुनाथ राव,
पाय गज धोखे कहूँ काहू देइ डारै ना.
याही डर गिरजा गजानन को गोय रही,
गिरतें गरेतें निज गोद से उतारे ना.


Jyoti on 03-03-2020

द्वावर में दिसान में दुनी में देस देसन में देखौ दीप दीपन दिगंत है

Priya Bhadauriya on 30-01-2020

Arey yahan to kisi bhi dohe ka arth hi nhi h to padhe kyA hum ismein

हेमंत on 29-01-2020

कूलन में केली में कछारन में कुंजन में
क्यारिन में कलिन में कलीन किलकंत है । का अर्थ बताएं

Nand kishor pachori on 19-10-2019

औरे भांति कुंजन में गुंजरत भौर भीर,
औरे भांति बौरन के झौरन के ह्वै गए.
कहै ‘पदमाकर’ सु औरे भांति गलियानि,
छलिया छबीले छैल औरे छबि छ्वै गए.
औरे भांति बिहँग समाज में आवाज होति,
अबैं ऋतुराज के न आजु दिन द्वै गए.
औरे रस,औरे रीति औरे राग औरे रंग,
औरे तन औरे मन, औरे बन ह्वै गए.


अँचल के ऎँचे चल करती दॄगँचल को on 01-09-2019

अँचल के ऎँचे चल करती दॄगँचल को


JITENDRA KUMAR SAHU on 23-08-2019

चितै-चितै चारों ओर, चौंकि-चौंकि परै, त्यों ही
जहां-तहां, जब-तब, खटकत पात हैं।
भाजन-सो चाहत, गंवार ग्वालिनी के कछू,
डरनि डराने-से, उठाने रोम गात हैं॥
कहै पदमाकर, सु देखि दसा मोहन की,
सेस महेस सुरेस सिहात हैं।
एक पाय भीत, एक पाय मीत-कांधे धरे,
एक हाथ छींको एक हाथ दधि खात हैं॥। का भावार्थ


Swekshu on 21-08-2019

कुलन में केली मे का अर्थ

Yashika jain on 05-08-2019

Kya iska arth nhai he plz iska arth de

Padmakar on 03-08-2019

Malin kilkant Ka arth

padmakr k doha prem rang bori ka arth on 18-06-2019

padmakr k doha

Vikas on 31-05-2019

Meaning


Y Ali on 12-05-2019

कूलन में केलि में कछारन में कुंजन में
क्यारिन में कलिन में कलीन किलकंत है.
कहे पद्माकर परागन में पौनहू में
पानन में पीक में पलासन पगंत है
द्वार में दिसान में दुनी में देस-देसन में
देखौ दीप-दीपन में दीपत दिगंत है
बीथिन में ब्रज में नवेलिन में बेलिन में
बनन में बागन में बगरयो बसंत है


फरहीन on 22-01-2019

पद्माकर के पद का अर्थ क्या है

Babu on 18-09-2018

Arth bataye

ram pal sharma on 14-09-2018

arth batae



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment