पोषक तत्वों की कमी से होने वाले रोग

Poshak Tatvon Ki Kami Se Hone Wale Rog

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 21-10-2018

पोषक तत्वों की कमी से मधुमेह


मधुमेह ऐसी बीमारी है, जो बार हो जाए तो उसे फिर जीवन भर छोड़ती नहीं। इस बीमारी का जो सबसे बुरा पक्ष है वह यह कि यह शरीर में अन्य कई रोगों को भी निमंत्रण देती है। देखा गया है कि मधुमेह यह एक स्वस्थ जीवन शैली के साथ एक रोके जाने योग्य बीमारी है। यद्यपि कुछ अनियंत्रित कारक हैं जो मधुमेह के विकास के लिए जिम्मेदार हैं।


मोटापा, उच्च रक्तचाप और बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल मधुमेह के विकास के लिए महत्वपूर्ण कारक हैं। अमेरिकन डायबिटीज़ एसोसिएशन के मुताबिक, मधुमेह को रोकने के लिए अच्छे पोषण सबसे अच्छा तरीका है। डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए खाद्य पदार्थों और ताजा फल और सब्जियों से भरा संतुलित आहार चुनने की सिफारिश की जाती है।

रिकेट्स

शरीर में कैल्शियम और पोटेशियम के साथ विटामिन डी की कमी हो तो रिकेट्स का कारण बनती है। रिकेट्स की पहचान कमजोर और नरम हड्डियां, पैरों और हड्डियों की विकृति से होती है। रिकेट्स को दूर करने के लिए आपको फल, सब्जी के अलावा दूध का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए।

पोषक तत्वों की कमी से एनीमिया


पोषक तत्वों की कमी से हमारे शरीर को एनीमिया रोग का शिकार होना पड़ता है। एनीमिया तब होती है जब लाल रक्त कोशिकाएं आपके शरीर की कोशिकाओं के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं ले पाती है। आयरन, फोलिक एसिड व विटामिन-बी12 की कमी से एनीमिया बीमारी होती है। एनीमिया के कारण रोगी हमेशा थका हुआ महसूस करता है जिससे कार्यक्षमता प्रभावित होती है।


एनीमिया के लक्षणों में थकान के अलावा शरीर का ठंडा तापमान, सिरदर्द और तेज, अनियमित दिल की धड़कन की संवेदनशीलता शामिल है। एनीमिया के विभिन्न कारण हैं, और कुछ कुछ पोषक तत्वों में कमी से संबंधित हैं। शरीर में ऑक्सीजन के लिए हीमोग्लोबिन बनाने के लिए आपके शरीर को आयरन की आवश्यकता होती है। इसके लिए आपको उन आहारों का सेवन करना चाहिए जिसमें आयरन, फोलिक एसिड व विटामिन-बी12 हो।

पेलाग्रा

शरीर में पोषक तत्वों की कमी से पेलाग्रा भी हो सकता है। डिमेंशिया, दस्त और डर्मेटिटिसजो पेलेग्रा को चिह्नित करती हैं। यह रोग शरीर में नियासिन या विटामिन बी3 की कमी के कारण होती है। इसकी कमी को पूरा करने के लिए आपको नियासिन युक्त समृद्ध खाद्य पदार्थ ट्यूना, साबुत अनाज, मूंगफली, मशरूम, चिकन आदि का सेवन करना चाहिए।

शरीर में पोषक तत्वों की कमी से स्कर्वी


शरीर में विटामिन सी या एस्कॉर्बिक एसिड की कमी स्कर्वी रोग पैदा कर सकता है। स्कर्वी रोग मूल रूप से शरीर में कोलेजन के उत्पादन को रोकता है। त्वचा और मसूड़ों के क्षय, दांतों और हड्डियों के असामान्य गठन, घावों और रक्तस्राव को ठीक करने में देरी या असमर्थता शरीर पर स्कर्वी के प्रभाव हैं। स्कर्वी रोग को दूर करने के लिए आप नींबू, स्ट्रॉबेरी आदि जैसे खट्टे फल नियमित रूप खाएं।





Comments

आप यहाँ पर पोषक gk, तत्वों question answers, रोग general knowledge, पोषक सामान्य ज्ञान, तत्वों questions in hindi, रोग notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment