India History- " yahi Time Hain Jab Ham viDeshiyon ( muglon ) Kea Apne Desh Se niKaalkar Amarkirti Ka Arjan Kar Sakte Hain . Yadi Ham Sab sookh Rahe Purane Vriksh Ke tane Par aaghat karenge To Uski Shakhayein Apne - aap Hee gir Jayegi . Yah Kisne Kahaa -

Q.31424: " यही समय हैं जब हम विदेशियों ( मुगलों ) केा अपने देश से निकालकर अमरकीर्ति का अर्जन कर सकते हैं . यदि हम सब सूख रहे पुराने वृक्ष के तने पर आघात करेंगे तो उसकी शाखाएं अपने - आप ही गिर जाएगी . यह किसने कहा -
A
B
C
D
Previous Next
कृपया शेयर करें=>

" यही समय हैं जब हम विदेशियों ( मुगलों ) केा अपने देश से निकालकर अमरकीर्ति का अर्जन कर सकते हैं . यदि हम सब सूख रहे पुराने वृक्ष के तने पर आघात करेंगे तो उसकी शाखाएं अपने - आप ही गिर जाएगी . यह किसने कहा - - "This is the time when we can immigrate to foreigners (Mughals) from our country, and if we all strike a tree trunk of the old tree, then its branches will fall on its own. Who said this - India History in hindi,   BajiRao - Pratham question answers in hindi pdf  Balaji BajiRao questions in hindi, Know About Balaji Vishwanath India History online test India History notes in hindi quiz book    Inme Se Koi Nahin


Which Sports has maximum age fraud in India to know type www.powersportz.tv