India History- " yahi Time Hain Jab Ham viDeshiyon ( muglon ) Kea Apne Desh Se niKaalkar Amarkirti Ka Arjan Kar Sakte Hain . Yadi Ham Sab sookh Rahe Purane Vriksh Ke tane Par aaghat karenge To Uski Shakhayein Apne - aap Hee gir Jayegi . Yah Kisne Kahaa -

Q.31424: " यही समय हैं जब हम विदेशियों ( मुगलों ) केा अपने देश से निकालकर अमरकीर्ति का अर्जन कर सकते हैं . यदि हम सब सूख रहे पुराने वृक्ष के तने पर आघात करेंगे तो उसकी शाखाएं अपने - आप ही गिर जाएगी . यह किसने कहा -
A.
B.
C.
D.
Previous Next
Advertisement

" यही समय हैं जब हम विदेशियों ( मुगलों ) केा अपने देश से निकालकर अमरकीर्ति का अर्जन कर सकते हैं . यदि हम सब सूख रहे पुराने वृक्ष के तने पर आघात करेंगे तो उसकी शाखाएं अपने - आप ही गिर जाएगी . यह किसने कहा - - "This is the time when we can immigrate to foreigners (Mughals) from our country, and if we all strike a tree trunk of the old tree, then its branches will fall on its own. Who said this - India History in hindi,   BajiRao - Pratham question answers in hindi pdf  Balaji BajiRao questions in hindi, Know About Balaji Vishwanath India History online test India History notes in hindi quiz book    Inme Se Koi Nahin