Rajasthan GK- Samp Sabha Ki Sthapanaa Govind Giri Dwara Kab Ki Gayi ?

Q.25028: सम्प सभा की स्थापना गोविन्द गिरी द्वारा कब की गयी ?
A
B
C
D
Previous Next
कृपया शेयर करें=>

व्याख्या:- गोविन्द गुरु ने आदिवासियों को संगठित करने के लिए 1883 में संप-सभा की स्थापना की जिसका प्रथम अधिवेशन 1903 में हुआ। गोविन्द गुरु के अनुयायियों को भगत कहा जाने लगा, इसीलिए इसे भगत आन्दोलन कहते हैं।

संप का अर्थ है एकजुटता, प्रेम और भाईचारा। संप सभा का मुख्य उद्देश्य समाज सुधार था। उनकी शिक्षाएं थी -

रोजाना स्नानादि करो, यज्ञ एवं हवन करो, शराब मत पीओ, मांस मत खाओ, चोरी लूटपाट मत करो, खेती मजदूरी से परिवार पालो, बच्चों को पढ़ाओ, इसके लिए स्कूल खोलो, पंचायतों में फैसला करो, अदालतों के चक्कर मत काटो, राजा, जागीरदार या सरकारी अफसरों को बेगार मत दो, इनका अन्याय मत सहो, अन्याय का मुकाबला करो, स्वदेशी का उपयोग करो आदि।

शनैः शनैः यह संप-सभा तत्कालीन राजपूताना के पूरे दक्षिणी भाग में फैल गई। यहाँ की रियासतों के राजा, सामंत व जागीरदार में इससे भयभीत हो गए। वे समझने लगे कि राजाओं को हटाने के लिए यह संगठन बनाया गया है। जबकि यह आंदोलन समाज सुधार का था। गुरु गोविंद ने आदिवासियों को एकजुट करने के लिए सन् 1903 की मार्गशीर्ष शुक्ल पूर्णिमा से गुजरात एवं मेवाड़ की सीमा पर स्थित मानगढ़ पहाड़ी पर धूणी में होम (यज्ञ व हवन) करना प्रारंभ किया जो प्रतिवर्ष आयोजित किया जाने लगा।

सम्प सभा की स्थापना गोविन्द गिरी द्वारा कब की गयी ? - When was the Samp Sabha established by Govind Giri? - Samp Sabha Ki Sthapanaa Govind Giri Dwara Kab Ki Gayi ? Rajasthan GK in hindi,    question answers in hindi pdf   questions in hindi, Know About Rajasthan GK online test Rajasthan GK notes in hindi quiz book