राजस्थान सामान्य ज्ञान-राजस्थानी स्थापत्य कला की प्रमुख विशेषता Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-05-10  at 09:30 PM
विषय सूची: राजस्थान सामान्य ज्ञान Rajasthan Gk in Hindi >> राजस्थानी कला >> राजस्थानी स्थापत्य कला >>> राजस्थानी स्थापत्य कला की प्रमुख विशेषता

शिल्प- सौष्ठव, अलंकृत पद्धति एवं विषयों की विविधता है ।
यह हिन्दू स्थापत्य कला के रूप में जानी जाती है ।
राजपूतों की वीरता के कारण राजस्थान के स्थापत्य में शौर्य की भावना स्पष्टत: दिखाई देती है ।
मधय काल में जब तुर्की के निरंतर आक्रमण होने लगे तो राजस्थानी स्थापत्य में शौर्य के साथ-साथ सुरक्षा की भावना का भी समावेश किया गया और विशाल एवं सुदृढ़ दुर्ग बनवाने आरम्भ कर दिये गए ।
सुरक्षा की दृष्टि से राजपूत शासकों ने अपने निवास भी दुर्ग के भीतर बनवाये तथा पानी का व्यवस्था के लिये जलाशय खुदवाये ।
राजपूत शासकों की र्धम के प्रति अगाध श्रद्धा ने दुर्ग के भीतर मंदिरों का निर्माण भी करवाया । -
17वीं सदी में मुगलों के सम्पर्क से राजपूत एवं मुस्लिम कला का पारस्परिक मिलन हुआ, जिससे हिन्दू एवं मुस्लिम स्थापत्य शैलियों में समन्वय हुआ ।
दोनों शैलियों के समन्वय से राजस्थानी स्थापत्य का रूप निखर आया ।
प्रमुख विशेषाएँ- 1. प्राचीन स्थापत्य- राजस्थान की स्थापत्य कला बहुत प्राचीन है ।
यहाँ पर काली बंगा में सिन्धु घाटी सभ्यता की स्थापत्य कला के प्रमाण उपलब्ध है ।
इसी प्रकार आहड़ सभ्यता की स्थापत्य कला उदयपुर के पास तथा मौर्यकाल में प्रस्पफुटितसभ्यता के चिन्ह बैराठ में मिले है । -
2. सौष्ठव ।
3. अलंकृत पद्धति ।
4. विषयों की विविधता- इससे यहां के शासकों तथा निवासियों की विचारधारओं, अनुभूतियों और उद्देश्यों की जानकारी प्राप्त होती है ।

5. हिन्दु स्थापत्य कला के रूप में- राजस्थान में सबसे प्रमुख स्थापत्य कला राजपूतों की रही है, जिसके कारण सम्पूर्ण राजस्थान किलों मन्दिरों, परकोटों, राजाप्रासादों, जलाशयों उद्योगों, स्तम्भों तथा समाधयिों एवं छतरियों से भर गया है ।
6. शोर्य व सुरक्षाभाव से परिपूर्ण । -
7. हिन्दु व मुस्लिम स्थापत्य का समन्वय- मुगलों के सम्पर्क के पूर्व यहाँ हिन्दू स्थापत्य शैली की प्रधानता रही जिसमें स्तम्भों, सीधे पाटों, ऊंचे शिखरों, अलंकृत आकृतियों, कमल और कलश का महत्व था ।
मुगल काल में राजस्थान की स्थापत्य कला पर मुगलशैली का प्रभाव पड़ा ।
इस शैली कीविशेषताएें थी- नोकदार तिपतिया, मेहराव, मेहरावी डाटदार छतें, इमारतों का इठपहला रूप, गुम्बज, मीनारे आदि ।
दोनों शैलियों के समन्वय से राजस्थानी स्थापत्य का रूप निखरआया ।
हिन्दू कारीगरों ने मुस्लिम आदेशों के अनुरूप जिन भवनों का निर्माण किया हैं उन्हें सुप्रसिद्ध कला विशेषज्ञ पफर्गुसन ने इण्डों-सारसेनिक शैली की संज्ञा दी है । -







सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
किला/दुर्ग स्थापत्य
राजस्थानी स्थापत्य कला की प्रमुख विशेषता

Rajasthani Sthapatya Kala Ki Pramukh Visheshta Shilp Saushthav Alankrit Paddhati Aivam Vishayon Vividhata Hai Yah Hindu Ke Roop Me Jani Jati Rajputon Veerta Karan Rajasthan Shaurya Bhawna स्पष्टत Dikhayi Deti मधय Kaal Jab Turkey Nirantar Aakramann Hone Lage To Sath Surakshaa Ka Bhi Samavesh Kiya Gaya Aur Vishal Sudridh Durg Banawane Aarambh Kar Diye Gaye Drishti Se Rajput Shasako ne Apne Niwas Bheetar Banwaye Tatha Pani Vyavastha


Labels,,,