मुद्रा पूर्ति की परिभाषा

Mudra Poorti Ki Paribhasha

Gk Exams at  2018-03-25

GkExams on 12-05-2019

आधुनिक अर्थव्यवस्था मे मुद्रा के अन्तर्गत मुख्य रूप से देश के मौद्रिक प्राधिकरण द्वारा जारी करेंसी नोट और सिक्के आते है। भारत में करेंसी नोट रिज़र्व बैंक जारी करता है जो की भारत का मौद्रिक प्राधिकरण है। किंतु सिक्के भारत सरकार द्वारा जारी किए जाते है। करेंसी नोट और सिक्के के अतिरिक्त, व्यवासायिक बैंको में लोगो द्वारा जमा किए बचत खाते को भी और चालू खाते को भी मुद्रा कहा जाता है, क्योंकि इन खातो से आहरित चेकों का उपयोग स्वयंव्यवहार के लिए किया जाता है। एसी जमा को माँग जमा कहते है, जो खाताधारी की माँग पर बैंक द्वारा भुगतान योग्य होता है। अन्य जमा, जैसे आवधि जमा की परिपक्वता की आवधि निश्चित होती है और इसे आवधिक जमा कहते है।



वैध परिभाषाएँ: संकुचित और व्यापक मुद्रा

मुद्रा की पूर्ति एक स्टॉक परिवर्तक होती है। एक निश्चित समय में लोगो में संचरण करने वाली कुल मुद्रा को मुद्रा की पूर्ति कहते है। भारतीय रिज़र्व बैंक मुद्रा की पूर्ति के वैकल्पिक मपों को चार रूपों में प्रकाशित करता है, नामत: M1, M2,M3 और M4। ये सभी निम्नलिखित रूपों से परिभाषित किए जाते है -



M1 = CU + DD

M2 = M1 + डाकघर बचत बैंको में बचत जमाएँ

M3 = M1 + व्यावसायिक बैंको की निवल आवधिक जमाएँ

M4 = M3 + डाकघर बचत संस्थाओं में कुल जमाएँ

यहाँ, CU लोगो द्वया रखी गई करेंसी है, और DD व्यावसायिक बैंको द्वारा रखी गई निवल माँग जमा है। M1 और M2 संकुचित मुद्रा कहलाती है। M3 और M4 को व्यापक मुद्रा कहते है।



Comments नमी गोप on 27-09-2020

मुद्रा की पूर्ति का क्या अभिप्राय है

Suraj singh on 14-09-2020

मुद्रा की जरूरत क्यो समझी गयी

क on 01-08-2020

संकुचित मतलब

Aarti verma on 27-04-2020

मुद्रा की पूर्ति का आशय क्या है

Vandana prajapati on 25-02-2020

मुद्रा की पूर्ति का आशय

Manish on 17-01-2020

मुद्रा के घटक क्या है ?


Pawan kumar on 13-12-2019

What is the meaning of money supply?

Jwab de on 27-11-2019

Mudra purty ke bivin maap ky he

Shubham on 27-09-2019

Mudra purti kya hai

Divya Sharma on 12-05-2019

Mudra purti ke ang kya hein



Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment