1937 में कांग्रेस में गठित मंत्रालयों

1937 Me Congress Me Gathit Mantralayo

Pradeep Chawla on 13-10-2018


  • 1937के चुनाव में कांग्रेस ने कुल 8 राज्यों में अपनी सरकारें बनाई थी
  • यहां प्रशासन को सुचारु रुप से चलाने के लिए एक केंद्रीय नियंत्रण परिषद गठित की गई,इस परिषद को संसदीय समिति नाम दिया गया
  • इसके सदस्य थे सरदार वल्लभभाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद और डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद
  • इस समय प्रांतों के प्रमुख को प्रधानमंत्री कहा जाता था
  • मद्रास के प्रधानमंत्री सी राजगोपालाचारी, बिहार में श्रीकृष्ण सिन्हा उड़ीसा में बी. एन. दास ,मध्य प्रांत में एन.बी.खरे थे
  • एन.बी.खरे के इस्तीफा देने के कारण रविशंकर शुक्ल को मध्य प्रांत का प्रधानमंत्री बनाया गया
  • संयुक्त प्रांत के प्रधानमंत्री गोविंद वल्लभ पंत और मुंबई में बी.जी. खरे थे
  • असम के प्रधानमंत्री सादुल्लाह के इस्तीफा देने के कारण गोपीनाथ बारदोलोई यहां के प्रधानमंत्री बने
  • उत्तर पश्चिमी सीमा प्रांत के प्रधानमंत्री डॉक्टर खॉ साहब थे जबकि सिंध के प्रधानमंत्री अल्लाह बख्श थे अल्लाह बख्श के इस्तीफा देने के बाद यहां बंदे अलीखा प्रधानमंत्री बने
  • बंगाल के प्रधानमंत्री फजलुल हक जबकि पंजाब के सर सिकंदर हयात खॉ थे
  • कांग्रेस सरकार ने अपने 28 माह के संक्षिप्त शासनकाल में यह प्रमाणित कर दिया कि वह केवल जनसंघर्षों के लिए ही जनता का नेतृत्व नहीं कर सकती ,बल्कि उनके हित में राज्य सत्ता का उपयोग भी कर सकती है

??????????
???कांग्रेस मंत्रिमंडल द्वारा किए गए कार्य???

  • संयुक्त प्रांत और बिहार में काश्तकारी बिल पारित किए गए
  • सभी कांग्रेस शासित प्रांतों में कृषको को साहूकारों के चंगुल से बचाने और सुविधाओं को बेहतर बनाने के प्रयास किए गए
  • यह वह काल था जब कांग्रेस और अंय कार्यकर्ताओं के प्रयास से समग्र रुप से किसानों में व्यापक जागरूकता और बढ़ती राजनीतिक चेतना देखने को मिलती है
  • कांग्रेस सरकारों ने श्रमिक समर्थक रुख तो अपनाया लेकिन वर्ग संघर्ष का साथ नहीं दिया
  • मुंबई की कांग्रेस सरकार ने 1937 में एक कपड़ा जांच समिति की नियुक्ति की थी
  • इसने कर्मचारियों की वेतन वृद्धि स्वास्थ्य और बीमा सुरक्षा की सिफारिश की
  • बम्बई सरकार ने हड़ताल और तालाबंदी रोकने के लिए मध्यस्ता के सिद्धांतों के आधार पर नवम्बर 1938 में औद्योगिक विवाद अधिनियम भी पेश किया था
  • अन्य कांग्रेस शासित प्रांतों में भी श्रमिकों के कल्याण के लिए बहुत से कानून लागू किए गए थे
  • कांग्रेस सरकारों ने नागरिक स्वतंत्रता राजनीतिक कैदियों की रिहाई और रचनात्मक कार्यक्रमों के क्षेत्रों में भी काफी प्रशंसनीय कार्य किए
  • ग्रामीण उद्योगों के उत्थान महानिषेद,बुनियादी शिक्षा के द्वारा प्राथमिक शिक्षा के संवर्धन, जनजातियों के कल्याण ,जेल सुधार और अस्पृश्यता निवारण के लिए विशेष कार्यक्रम शुरु किए गए
  • इस अवस्था में भी कांग्रेस मंत्रालयों को ईमानदारी और जनसेवा के मानक स्थापित करने का अवसर प्राप्त हुआ ​
  • मंत्रियों ने स्वेच्छा से अपना वेतन कम करके ₹500 प्रतिमाह कर दिया और रेलवे से वो द्वितीय व तृतीय श्रेणी में यात्रा करते थे



Comments

आप यहाँ पर 1937 gk, कांग्रेस question answers, गठित general knowledge, मंत्रालयों सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment