रीतिकाल की परिस्थितियाँ

रीतिकाल Ki Paristhitiyaan

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

GkExams on 12-05-2019

रीतिकाल की परिस्थितियाँ

जनवरी 12, 2011

विदित है कि हिंदी साहित्य में सम्वत 1700 से 1900 तक का समय रीतिकाल से अभिहीत है । यह काल समृद्धि और विलासिता का काल है । श्रृंगार की अदम्य लिप्सा इस युग के जीवन और साहित्य, दोनों में स्पष्ट प्रतिबिंबित है । कला वासना -पूर्ति का साधन बनी और नारी उसका आलम्बन । स्पष्टत: प्रेम क्रीड़ाओं और नायक-नायिका -भेद का जो वैचित्र्यपूर्ण चित्रण इस काल की कविता में मिलता है, वह तत्कालीन परिस्थितियों का प्रतिबिंब है ।



राजनीतिक परिस्थितियाँ : राजनीतिक दृष्टि से यह दो सौ साल का समय मुगल-काल में शाहजहाँ से लेकर लार्ड हार्डिंग तक का समय है, जिसमें शाहजहाँ की उत्कृष्ट कला-प्रियता का युग भी है और औरंगजेब की धार्मिक कट्टरता, नादिरशाह और अहमदशाह अब्दाली के कत्लेआम और नृशंसता की घटनाएँ भी इसी काल में घटित हुई । अंग्रेजों की कूटनीतिक चालों और कुचालों का जाल भी इसी युग में पनपा । छोटे-छोटे राज्यों-रजवाड़ों, सरदार-सामंतों का इस विपत्ति से अंग्रेज शासकों की अधीनता स्वीकार कर आँख मूँदकर दरबारी विलासिता में मस्त जीवन व्यतीत करने की कहानी भी इसी काल की कहानी है ।



इस काल के कवि इन विलासी रजवाड़ों के दरबारों में रहकर आश्रयदाताओं को विलासितामय सुरा के प्याले पिला रहे थे । राजमहलों में नाच-रंग तथा मदिरापान का ही बोलबोला था । सुरा,सुराही और सुंदरी के राज में विलासी जीवन से उत्पन्न कविता श्रृंगारिक कविता बनती गई ।



सामाजिक परिस्थितियाँ : सामाजिक दृष्टि से यह काल घोर अध:पतन का युग रहा । यह सामंतवादी युग था , जो सामंतवाद के अपने सभी दोषों से युक्त था । नीचे वालों को ये मात्र अपनी संपत्ति मानते थे, जिनका अस्तित्व केवल उनके लिए, उनकी सेवा के लिए ही था । नारी को अपनी सम्पत्ति मानकर उसका भोग, इनके जीवन का मूल मंत्र हो गया था । सुरा और सुंदरी राजा और प्रजा के उपास्य विषय हो गए थे । नैतिक मूल्यों का पूर्णत: अभाव था । चिकित्सा, शिक्षा और संपत्ति-रक्षा का कोई प्रबंध न था । धर्म-स्थान भ्रष्टाचार और पापाचार के केंद्र बन गए थे । हिंदू अपने आराध्य राम-कृष्ण का अतिशय श्रृंगार ही नहीं करते थे, बल्कि उनकी लीलाओं में अपने विलासी-जीवन की संगति खोजने लगे थे । रुढ़िवादिता के अत्यधिक बढ़ जाने से मुसलमान जीवन की वास्तविकता से दूर पड़ गए । कर्म और आचार का स्थान अंधविश्वास ने ले लिया ।



साहित्य और कला : साहित्य और कला की दृष्टि से यह युग काफी समृद्ध रहा । ललित कलाओं में चित्रकला, स्थापत्य और संगीत-कला का पोषण राजमहलों में हुआ । संगीत-शास्त्र पर कुछ प्रामाणिक ग्रंथ लिखे गए । अलंकार-प्रिय विलासी राजा और बादशाहों की अभिरुचि से अत्यधिक प्रभावित होने के कारण तथा कल्पना-परक वैविध्य की न्यूनता के कारण कलाएँ कला की सीमाओं से दूर पड़ गई ।



Comments Marrof on 12-05-2019

Ritikal



आप यहाँ पर रीतिकाल gk, परिस्थितियाँ question answers, general knowledge, रीतिकाल सामान्य ज्ञान, परिस्थितियाँ questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment