अर्बुदा देवी हिस्ट्री

Arbuda Devi History

GkExams on 10-01-2019

अर्बुदा देवी मन्दिर राजस्थान राज्य के माउंट आबू शहर के पहाड़ के ऊपर स्थित है।

  • जैन ग्रन्थ विविधतीर्थकल्प के अनुसार आबूपर्वत की तलहटी में अर्बुद नामक नाग का निवास था, इसी के कारण यह पहाड़ आबू कहलाया।
  • इसका पुराना नाम नंदिवर्धन था।
  • पहाड़ के पास मन्दाकिनी नदी बहती है और श्रीमाता अचलेश्वर और वशिष्ठाश्रम तीर्थ हैं अर्बुद-गिरि पर परमार नरेशों ने राज्य किया था जिनकी राजधानी चंद्रावती में थी।
  • इस जैन ग्रन्थ के अनुसार विमल नामक सेनापति ने ऋषभदेव की पीतल की मूर्ति सहित यहाँ एक चैत्यबनवाया था और 1088 विक्रम संवत में उसने विमल-वसति नामक एक मंदिर बनवाया 1288 विक्रम संवत में राजा के मुख्य मंत्री ने नेमि का मंदिर- लूणिगवसति बनवाया। 1243 विक्रम संवत में चंडसिंह के पुत्र पीठपद और महनसिंह के पुत्र लल्ल ने तेजपाल द्वारा निर्मित मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया। इसी मूर्ति के लिए चालुक्यवंशी कुमारपाल भूपति ने श्रीवीर का मन्दिर बनवाया था।
  • अर्बुद का उल्लेख एक अन्य जैन ग्रन्थ तीर्थमाला चैत्यवन्दन में भी मिलता है-
कोडीनारकमंत्रिदाहड़पुरेश्रीमंडपे चार्बुदे'।




Comments bhuraram on 14-02-2019

parmar kuldevi

रामनिवास आँजणा पटेल on 09-02-2019

मेरी कुलदेवी मा अर्बुदा है
पर आप मुजे बता सकते है कि मेरा ओर में
कोनसे वंशज से आँजणा पटेल बना हु
जैसे कोई पुरथाविराज वंशज से है तो कोई दूसरे
से आँजणा बने तो मेरा नीक वंशज कोनसा है


Madan patel on 20-10-2018

मेरे कुलदेवी कोनसी ह मेरा नाम मदन पटेल ह मेरा गोत्र सिह ह क्या आप मेरे कुलदेवी बता सकते उ

मदन पटेल on 20-10-2018

मेरा नंबर 8764302055



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment