हरिराम जी की जन्म कथा

Hariram Ji Ki Janm Katha

Pradeep Chawla on 14-09-2018


जिला मुख्‍यालय से 30 कि.मी. उतर में स्थित झोरड़ा गांव बाबा हरिराम की जन्‍म स्‍थली है। यह गांव विक्रम संवत 1695 में अमरसिंह राठौर ने सुन्‍दरदास चारण को जागीर में दिया था। बाबा हरीराम का जन्‍म विक्रम संवत 1959 तथा परलोक गमण विक्रम संवत 2000 में हुआ। दायमा ब्रह्मण परिवार में जन्‍में बाबा आजीवन ब्रह्मचारी रहे वे मात्र झाड़ा लगाकर सांप बिच्‍छू के दंश का जहर उतार देते थे। प्रति वर्ष भाद्रपद की चतुर्थी व पंचमी को गांव में मेला भरता हैं, जिसमें डेढ़ लाख लोग राजस्‍थान, उतरप्रदेश, हरियाणा, दिल्‍ली तथा पंजाब से आते है। राजस्‍थानी के लोकप्रिय कवि कानदान कल्पित इसी गांव के है, जिन्‍होने अपने गांव की वन्‍दना इस प्रकार करी है। मखमल बालू रेत, रमें हरीराम जठे, मरूधर म्‍हारो देश, झोरड़ो गांव जठे।



Comments ईमिछ्न्द् on 25-07-2021

हरिराम जी कोनसे संत थे

Yogpal on 05-09-2020

Hari ram g kis k bhagat thy.

Mamraj on 04-05-2020

Hariram jee ke parents ka kya name tha

गोपाल on 19-04-2020

हरिराम बाबा को देव लोग हुए कितने साल हो गए

Samina on 10-04-2020

हरीराम जी की कथा

Raysal on 05-03-2020

Gret post हरीराम जी की कथा लिरिक्स


sunil hudda on 10-09-2019

हरिराम जी का जन्म कब हुआ था

हीरा बाईँ के ससुराल वालों का क्या नाम था ? on 28-07-2019

हीरा बाईँ के ससुराल वालों का क्या नाम था ?

हरिराम बाबा का नेनीहाल on 14-09-2018

हरिराम बाबा का ननीहाल कहाँ है

Pawan sharma on 20-08-2018

हरिराम दादा को parsan केसे करे



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment