रुद्रदामन जूनागढ़ अभिलेख

रुद्रदामन Junagadh Abhilekh

Pradeep Chawla on 12-05-2019

जूनागढ़ के प्राचीन शहर का नामकरण एक पुराने दुर्ग के नाम पर हुआ है। यह गिरनार पर्वत के समीप स्थित है। यहाँ पूर्व-हड़प्पा काल के स्थलों की खुदाई हुई है। इस शहर का निर्माण नौवीं शताब्दी में हुआ था। यह चूड़ासमा राजपूतों की राजधानी थी। यह एक रियासत थी। गिरनार के रास्ते में एक गहरे रंग की बेसाल्ट चट्टान है, जिस पर तीन राजवंशों का प्रतिनिधित्व करने वाला शिलालेख अंकित है। मौर्य शासक अशोक (लगभग 260-238 ई.पू.) रुद्रदामन (150 ई.) और स्कंदगुप्त (लगभग 455-467)। यहाँ 100-700 ई. के दौरान बौद्धों द्वारा बनाई गई गुफ़ाओं के साथ एक स्तूप भी है। शहर के निकट स्थित कई मंदिर और मस्जिदें इसके लंबे और जटिल इतिहास को उद्घाटित करते हैं। यहाँ तीसरी शताब्दी ई.पू. की बौद्ध गुफ़ाएँ, पत्थर पर उत्कीर्णित सम्राट अशोक का आदेशपत्र और गिरनार पहाड़ की चोटियों पर कहीं-कहीं जैन मंदिर स्थित हैं। 15वीं शताब्दी तक राजपूतों का गढ़ रहे जूनागढ़ पर 1472 में गुजरात के महमूद बेगढ़ा ने क़ब्ज़ा कर लिया, जिन्होंने इसे मुस्तफ़ाबाद नाम दिया और यहाँ एक मस्जिद बनवाई, जो अब खंडहर हो चुकी है।



Comments Pari singh on 25-06-2021

Junagadh abhilekh kisne khoja aur kon se san me khoja

Ram on 30-11-2019

जूनागढ़ अभिलेख किसने लिखवाया

परमार मनसुख परमार मनसुख on 13-11-2019

जूनागढ़ का स्तूप कहा है

परमार मनसुख on 13-11-2019

जूनागढ़ बोध स्तूप कहा पर है और इनका नाम क्या है

Krishna on 20-06-2019

Junagadh abhi current me kha pr h



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment