कैबिनेट मंत्री और राज्यमंत्री के बीच का अंतर

Cabinet Mantri Aur Rajyamantri Ke Beech Ka Antar

Pradeep Chawla on 12-05-2019

मंत्रिपरिषद अपेक्षाकृत एक बड़ा निकाय है, जबकि कैबिनेट छोटा परंतु शक्तिशाली निकाय है। सभी मंत्रियों से मिलकर मंत्रिपरिषद बनती है, जबकि कैबिनेट में शीर्ष के 15-20 मंत्री होते हैं।

कैबिनेट मंत्री, मंत्रिपरिषद का हिस्सा भी होते हैं। मंत्रिपरिषद तीन भागों में विभक्त है- कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और राज्य मंत्री।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 74 व 75 में मंत्रिपरिषद से सबंधित प्रावधान विस्तार में हैं, जबकि कैबिनेट का उल्लेख मात्र अनुच्छेद 352 में है, जिसे 44वें संविधान संशोधन के द्वारा जोड़ा गया था।

नीति-निर्माण का कार्य प्रमुख रूप से कैबिनेट द्वारा किया जाता है न कि मंत्रिपरिषद द्वारा। कैबिनेट भारत में निर्णय लेने वाली सर्वोच्च कार्यकारी है।

कैबिनेट नीतियों पर निर्णय लेती है और उनके क्रियान्वयन पर निगरानी रखती है। इसके विपरीत, मंत्रिपरिषद कैबिनेट के फैसलों को लागू करवाने में सहयोग देती है।



इस प्रकार मंत्रिमंडल (कैबिनेट) महत्त्वपूर्ण राष्ट्रीय नीतियों का निर्माण करने वाला, अंतर्विभागीय विवादों की मध्यस्थता करने वाला और सरकार में समन्वय का सर्वोच्च अंग है। हालांकि कैबिनेट और मंत्रिपरिषद दोनों ही सरकार के कार्यों में सहयोग करने वाले महत्त्वपूर्ण अंग हैं।



Comments SAURAV SHARMA on 12-05-2019

rastrapati or mantiparishad ke madhya p.m sanchar madhyam ka work kaise karta hain?



आप यहाँ पर कैबिनेट gk, मंत्री question answers, राज्यमंत्री general knowledge, कैबिनेट सामान्य ज्ञान, मंत्री questions in hindi, राज्यमंत्री notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment