फोक डांस ऑफ राजस्थान इन हिंदी

Folk Dance Of Rajasthan In Hindi

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

GkExams on 25-03-2018

राजस्थान के लोक-नृत्य (Folk Dances) को चार भागो में विभाजित किया है | क्षेत्रीय, व्यावसायिक , जनजातीय एवं जातीय | क्षेत्रीय नृत्य (Folk Dances) वो नृत्य है जो अपने विशेष इलाके में प्रसिद्ध है | व्यवासयिक नृत्य का प्रदर्शन व्यवसाय के तौर पर पैसे कमाने के लिए किया जाता है | जनजातीय नृत्य राजस्थान के जनजातीय इलाको में विशेष त्योहारों के अवसर पर किये जाते है जबकि जातीय नृत्य अपने जाति में आनन्द के अवसरों पर किये जाते है | आइये इन चारो लोकनृत्य (Folk Dances) के प्रकारों के बारे में विस्तार से पढ़ते है |

राजस्थान के क्षेत्रीय लोकनृत्य

  • घुमर नृत्य (Ghoomer)- लोकनृत्यो की आत्मा कहलाता है | मांगलिक अवसरों पर किया जाने वाला यह नृत्य विशेषकर जयपुर और मारवाड़ क्षेत्र में अधिक प्रचलित |
  • ढोल नृत्य – जालोर क्षेत्र में शादी के अवसर पर पुरुषो द्वारा किया जाने वाला नृत्य
  • बिन्दौरी नृत्य – झालावाड क्षेत्र में होली या विवाह पर गैर के समान पुरुषो द्वारा किया जाने वाला नृत्य |
  • झूमर नृत्य – हाडौती क्षेत्र में स्त्रियों द्वारा मांगलिक अवसरों पर डांडियो की सहायता से किया जाने वाला नृत्य |
  • चंग नृत्य – शेखावाटी का सबसे लोकप्रिय एवं बहुप्रचलित नृत्य जो होली के पूर्व से प्रांरभ होकर होली के बाद तक किया जाने वाला नृत्य है |
  • घुडला नृत्य – मारवाड़ क्षेत्र में होली के अवसर पर बालिकाओ द्वारा किया जाने वाला नृत्य है |
  • अग्नि नृत्य – बीकानेर के जसनाथी सिद्धो द्वारा फते-फते उद्घोष के साथ जलते अंगारों पर किया जाने वाला नृत्य |
  • बम नृत्य – भरतपुर एवं अलवर क्षेत्र में होली के अवसर पर नगाड़े (बम) की ताल पर किया जाने वाला नृत्य |
  • डांडिया नृत्य – मारवाड़ क्षेत्र में होली के अवसर पर पुरुषो द्वारा किया जाने वाला नृत्य |
  • गैर नृत्य – मारवाड़ क्षेत्र विशेषकर बाड़मेर , जालोर , पाली जिलो में होली के अवसर पर पुरुषो द्वारा डांडीयो के साथ किया जाने वाला नृत्य |
  • लांगुरिया नृत्य – कैला देवी (करौली) के मेले में किया जाने वाला नृत्य |
  • डांग नृत्य – नाथद्वारा में होली के अवसर पर किया जाने वाला नृत्य |

व्यावसायिक लोक नृत्य | Commercial Folk Dances in Rajasthan

  • भवाई नृत्य (Bhavai Folk Dance)- मेवाड़ क्षेत्र की भवाई जाति द्वारा सिर पर बहुत से घड़े रखकर किया जाने वाला नृत्य | मिट्टी के घड़े एक के उपर एक ग्यारह से बारह तक होते है | कालबेलिया जनजाति द्वारा किया जाने वाला नृत्य | नृत्य के दौरान औरते थाली , बोतल और तलवार पर भी अपना नियन्त्रण दर्शाती है
  • तेरहताली नृत्य (Teratali Folk Dance)- पाली , नागौर एवं जैसलमेर जिले की कामड जाति की विवाहित महिलाओं द्वारा रामदेवजी के मेले में मंजीरे बजाकर किया जाने वाला नृत्य है |
  • कच्छी घोडी नृत्य (Kucchhi Ghodi Folk Dance)- शेखावाटी में पेशेवर जातियों द्वारा मांगलिक अवसरों पर अपनी कमर पर बांस की घोडी को बांधकर किया जाने वाला नृत्य है |

जनजातियो द्वारा किया जाने वाले लोक नृत्य | Folk Dances performed by Tribes of Rajasthan

  • वालर नृत्य – गरासिया स्त्री-पुरुषो द्वारा बिना वाध्य-यंत्र के किया जाने वाला नृत्य |
  • कूद नृत्य – गरासिया स्त्री-पुरुषो द्वारा तालियों की ध्वनि पर किया जाने वाला नृत्य |
  • जवारा नृत्य – होली दहन के पूर्व गरासिया स्त्री-पुरुषो द्वारा किया जाने वाला नृत्य
  • लूर नृत्य – गरासिया महिलाओं द्वारा वर पक्ष से वधु पक्ष से रिश्ते की मांग के समय किया जाने वाला नृत्य |
  • मोरिया नृत्य – विवाह के समय गणपति स्थापना के समय किया जाने वाला नृत्य |
  • मांदल नृत्य – मांगलिक अवसरों पर गरासिया महिलाओं द्वारा किया जाने वाला नृत्य
  • रायण नृत्य – मांगलिक अवसरों पर गरासिया पुरुषो द्वारा किया जाने वाला नृत्य
  • गँवरी नृत्य (राई नृत्य)- भीलो द्वारा भाद्रपद माह के आरम्भ से अश्विन शुक्ल एकादशी तक गवरी उत्सव में किया जाने वाला नृत्य
  • गैर नृत्य – होली के अवसर पर भील पुरुषो द्वारा किया जाने वाला नृत्य
  • नेजा नृत्य – होली या अन्य मांगलिक अवसरों पर भील-स्त्रियों द्वारा किया जाने वाला सामूहिक नृत्य
  • द्विचक्री नृत्य – विवाह एवं मांगलिक अवसरों पर भील-स्त्री पुरुषो द्वारा वृताकार रूप से किया जाने वाला नृत्य
  • घुमरा नृत्य – भील महिलाओं द्वारा मांगलिक अवसरों पर ढोल एवं थापी की थाप पर किया जाने वाला नृत्य
  • युद्ध नृत्य – राजस्थान के दक्षिणांचल के सुदूर एवं दुर्गम पहाड़ी क्षेत्र में आदिम भीलो द्वारा किया जाने वाला नृत्य
  • वालिया नृत्य – नवरात्रों में कथोडी पुरुषो द्वारा सामूहिक रूप से किया जाने वाला नृत्य
  • होली नृत्य – होली का अवसर पर कथौडी महिलाओं द्वारा किया जाने वाला नृत्य
  • शिकारी नृत्य – सहारिया पुरुषो द्वारा शिकार का अभिनय करते हुए किया जाने वाला नृत्य
  • लहँगी नृत्य -सहारिया जनजाति का अन्य नृत्य
  • चकरी नृत्य – कंजर बालाओं द्वारा ढप , नगाड़ा एवं मंजीरे की ताल पर किया जाने वाला नृत्य
  • धाकड़ नृत्य – कंजर लोगो द्वारा झाला पाव की विजय की खुशी में युद्ध का अभिनय करते हुए किया जाने वाला नृत्य
  • रसिया नृत्य – राज्य के पूर्वी जिले विशेषकरदौसा , सवाई माधोपुर , करौली में मीणा-स्त्री पुरुषो द्वारा रसिया गाते हुए किया जाने वाला नृत्य

अन्य महत्वपूर्ण जातीय के लोकनृत्य

  • न्डोनी नृत्य – कालबेलियो के स्त्री-पुरुषो द्वारा पुंगी एवं खंजरी पर किया जाने वाला नृत्य
  • शंकरिया – कालबेलियो का सर्वाधिक प्रेमाख्यान आधारित युगल नृत्य
  • पणिहारी – कालबेलियो का युगल नृत्य
  • बागडिया – कालबेलिया स्त्रियों द्वारा भीख माँगते समय किया जाने वाला नृत्य
  • चरी नृत्य – गुर्जर महिलाओं द्वारा मांगलिक अवसर पर किया जाने वाला नृत्य
  • रणबाजा नृत्य – मेवों का युगल नृत्य
  • रतवई नृत्य – मेव स्त्रियों द्वारा सिर पर इन्डोनी एवं खरी रखकर किया जाने वाला नृत्य
  • बालदिया नृत्य – राज्य की घुमन्तु जाति बालदिया भाटो द्वारा किया जाने वाला नृत्य


Related Question Answers

राजस्थानी डांस इनफार्मेशन इन हिंदी
घूमर नृत्य का इतिहास
घूमर नृत्य की विशेषता
राजस्थानी घूमर नृत्य
Comments Kamalpreet on 25-03-2018

Folk dance of Rajasthan



आप यहाँ पर फोक gk, डांस question answers, general knowledge, फोक सामान्य ज्ञान, डांस questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , राजस्थान
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment