वर्षा की मात्रा निर्भर करती है

Varsha Ki Matra Nirbhar Karti Hai

Gk Exams at  2020-10-15

Pradeep Chawla on 20-10-2018

वायु में मिला जलवाष्प शीतल पदार्थों के संपर्क में आने से संघनन (condensation) के कारण ओसांक तक पहुंचता है। जब वायु का ताप ओसांक से नीचे गिर जाता है, तब जलवाष्प पानी की बूँदों अथवा ओलों के रूप में धरातल पर गिरने लगता है। इसी को वर्षा कहते हैं। किसी भी स्थान पर किसी निश्चित समय में बरसे हुए जलकणों तथा हिमकणों से प्राप्त जल की मात्रा को वहाँ की वर्षा का माप कहते हैं।

विश्व के विभिन्न भागों में मासवार औसत वर्षा की मात्रा

गरमी के कारण उत्पन्न जलवाष्प ऊपर आकाश में जाकर फैलता है एवं ठंडा होता है। अत: जैसे जैसे वायु ऊपर उठती है, उसमें जलवाष्प धारण करने की क्षमता कम होती जाती है। यहाँ तक कि अधिक ऊपर उठने से वायु का ताप उस अंक तक पहुंच जाता है, जहाँ वायु जलवाष्प धारण कर सकती है। इससे भी कम ताप हो जाने पर, जलवाष्प जलकणों में परिवर्तित हो जाता है। इसी से बादलों का निर्माण होता है। फिर बादल जल के कारण धरातल पर बरस पड़ते हैं। जलकण बनने के उपरांत भी यदि वायु का ताप कम होते होते हिमांक से भी कम हो जाता है, तो जलकण हिमकणों का रूप धारण कर लेते हैं जिससे हिमवर्षा होती है। वर्षा के लिए दो बातें आवश्यक हैं :

  • (1) हवा में पर्याप्त मात्रा में जलवाष्प का होना, तथा
  • (2) वाष्प से भरी हवाओं का शीतल पदार्थों के संपर्क में आने से ठंडा होना और ओसांक तक पहुँचना।




Comments Ruchi on 28-09-2020

वर्षा की मात्रा निर्भर करती हैं

Peera Ram rebari on 05-03-2020

वर्षा की मात्रा किस पर निर्भर करती है

priyea on 07-01-2020

varsha hogi ya nhi kaise pta chalega

Hari om on 29-10-2018

Varsa ki kis Matra nirbhar karti

ashishkumar8535040@gmail.com on 16-10-2018

Varsha ki matra nirbhar karti hai



Labels: , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment