91वां संविधान संशोधन

91st Samvidhan Sanshodhan

GkExams on 12-08-2022


संविधान संशोधन क्या है : इसे सरल शब्दों में समझे तो संविधान में समय-समय पर आवश्यकता होने पर संशोधन या यूँ कहें की बदलाव होते रहे हैं। विधायिनी सभा में किसी विधेयक में परिवर्तन, सुधार अथवा उसे निर्दोष बनाने की प्रक्रिया को ' संविधान संशोधन' कहा जाता है।


91वां संविधान संशोधन :




इस संशोधन (91st Constitution Amendment Act 2003) के अनुसार दल बदल व्यवस्था में संशोधन, केवल सम्पूर्ण दल के विलय को मान्यता, केंद्र तथा राज्य में मंत्रिपरिषद के सदस्य संख्या क्रमशः लोक सभा तथा विधान सभा की सदस्य संख्या का 15 प्रतिशत होगा (जहां सदन की सदस्य संख्या 40-50 है, वहां अधिकतम 12 होगी)।


इस प्रकार 91वां संवैधानिक संशोधन अधिनियम उन सभी के लिए भी अनिवार्य है जो राजनीतिक पक्षों को बदल रहे हैं चाहे व्यक्तिगत या सामूहिक दल-बद या विधायी सदस्यता से इस्तीफा दे रहे हों। यदि उन्हें दोषपूर्ण लगता है तो फिर से चुनाव करना होगा।


भारतीय संविधान से सम्बन्धित अधिक पढने के लिए यहाँ क्लिक करें




सम्बन्धित प्रश्न



Comments

आप यहाँ पर 91वां gk, संविधान question answers, general knowledge, 91वां सामान्य ज्ञान, संविधान questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment