Rajasthan GK Pushtimarg Ka Sansthapak Tha

Q.25873: पुष्टिमार्ग का संस्थापक था
A
B
C
D
Previous Next
कृपया शेयर करें=>


पुष्टिमार्ग का संस्थापक था - Was the founder of the Confirmation - Pushtimarg Ka Sansthapak Tha Rajasthan GK in hindi,    question answers in hindi pdf   questions in hindi, Know About Rajasthan GK online test Rajasthan GK notes in hindi quiz book    

Keshri sao on 22-09-2020

Pushti marg ke sanshtaphak kon hai

GkExams on 22-09-2020

भक्ति के क्षेत्र में महापुभु श्रीवल्‍लभाचार्य जी का साधन मार्ग पुष्टिमार्ग कहलाता है। पुष्टिमार्ग के अनुसार सेवा दो प्रकार से होती है - नाम-सेवा और स्‍वरूप-सेवा। स्‍वरूप-सेवा भी तीन प्रकार की होती है -- तनुजा, वित्तजा और मानसी। मानसी सेवा के दो प्रकार होते हैं - मर्यादा-मार्गीय और पुष्टिमार्गीय। मर्यादा-मार्गीय मानसी-सेवा पद्धति का आचरण करने वाला साधक जहाँ अपनी ममता और अहं को देर करता है, वहाँ पुष्टि-मार्गीय मानसी-सेवा पद्धति वाला साधक अपने शुद्ध प्रेम के द्वारा श्रीकृष्‍ण भक्ति में लीन हो जाता है और उनके अनुग्रह से सहज में ही अपनी वांक्षित वस्‍तु प्राप्‍त कर लेता है।



Comments।