General Science hargovind khurana Ko Kis Avishkaar Ke Liye Sammanit Kiya Gaya ?

Q.12667: हरगोविन्द खुराना को किस आविष्कार के लिए सम्मानित किया गया ?
A
B
C
D
Previous Join Telegram Next
कृपया शेयर करें=>


हरगोविन्द खुराना को किस आविष्कार के लिए सम्मानित किया गया ? - Hargovind Khurana was awarded for what invention? - hargovind khurana Ko Kis Avishkaar Ke Liye Sammanit Kiya Gaya ? General Science in hindi,  Biology Nitrogen ksharo Ka Sanshleshan Ke Liye question answers in hindi pdf  Gene Sanshleshan Ke Liye questions in hindi, Know About proto Sanshleshan Ke Liye General Science online test General Science notes in hindi quiz book    Inme Se Koi Nahin

Anonymous on 01-01-1900

Iska ans c option hona chahiye.

Anonymous on 01-01-1900

aaa

Anonymous on 01-01-1900

Sar is question ka ans c hoga ...

Anonymous on 01-01-1900

C ans hoga

Anonymous on 01-01-1900

इसका उत्तर गलत जिन संश्लेषण के हरगोविंद खुराना को नोवेल मिला था

Anonymous on 01-01-1900

Lab me jene ka sansleshan kiya tha Hargovind khurana ne

Anonymous on 01-01-1900

Iska and c hoga

Anonymous on 01-01-1900

Jien ke liye novel mila tha

Anonymous on 01-01-1900

Ans 3or c

Anonymous on 01-01-1900

Gene

Anonymous on 01-01-1900

प्रोटीन संश्लेषण के लिए

Anonymous on 01-01-1900

Ans c hai

Anonymous on 01-01-1900

I think this question answer wrong answer is c

Anonymous on 01-01-1900

C - जीन संश्लेषण के लिए

Anonymous on 01-01-1900

Write ans - c

Anonymous on 01-01-1900

हर गोविन्द खुराना को जिन संस्लेसन्न के लिए नोबेल पुरुस्कार मिला था

Anonymous on 01-01-1900

Protin

GkExams on 09-09-2020

हरगोविंद खुराना ने पहले प्रोटीन संश्लेषण किया था जिसके लिए उन्हें नोबेल 1968 में दिया गया था. किसी भी जीन का निर्माण प्रोटीन से ही होता है. नोबेल मिलने के कुछ वर्षों बाद 1972 में उन्होंने पूरी कृत्रिम जीन के संश्लेषण की विधि खोजी थी.

प्रोटीन संश्लेषण द्वारा उन्होंने जीन इंजीनियरिंग की नींव रखी थी इसलिए प्रोटीन संश्लेषण ज्यादा महत्वपूर्ण था जीन संश्लेषण से.


रॉबर्ट डब्ल्यू हॉली और मार्शल डब्ल्यू नीरेनबर्ग के साथ उन्हें संयुक्त रूप से चिकित्सा का नोबेल दिया गया. यह पुरस्कार उन्हें जेनेटिक कोड और प्रोटीन संश्लेषण में इसकी भूमिका की व्याख्या के लिए दिया गया.

डॉ. खुराना ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर डी.एन.ए. अणु की संरचना को स्पष्ट किया था और यह भी बताया था कि डी.एन.ए. प्रोटीन्स का संश्लेषण किस प्रकार करता है। जीन का निर्माण कई प्रकार के अम्लों (acid) से होता है। खोज के दौरान उन्होंने पाया कि जीन, डी.एन.ए. और आर.एन.ए. के संयोग से बनते हैं। अतः इन्हें जीवन की मूल इकाई माना जाता है। इन अम्लों में ही आनुवंशिकता (heredity) का मूल रहस्य छिपा हुआ है।

डॉ. हरगोविंद खुराना की एक और अहम खोज थी पहले कृत्रिम जीन का निर्माण. यह उपलब्धि उन्होंने 1972 में हासिल की.



Comments।