राजस्थान सामान्य ज्ञान-पश्चिमी मरूस्थली प्रदेश Gk ebooks


Rajesh Kumar at  2018-08-27  at 09:30 PM
विषय सूची: राजस्थान सामान्य ज्ञान Rajasthan Gk in Hindi >> राजस्थान की स्थिति विस्तार आकृति एवं भौगोलिक स्वरूप >> राजस्थान के भौतिक विभाग >>> पश्चिमी मरूस्थली प्रदेश

1.पश्चिमी मरूस्थली प्रदेश
राजस्थान का अरावली श्रेणीयों के पश्चिम का क्षेत्र शुष्क एवं अर्द्धशुष्क मरूस्थली प्रदेश है। यह एक विशिष्ठ भौगोलिक प्रदेश है। जिसे भारत का विशाल मरूस्थल अथवा थार का मरूस्थल के नाम से जाना जाता है। थार का मरूस्थल विश्व का सर्वाधिक आबाद तथा वन वनस्पति वाला मरूस्थल है। ईश्वरी सिंह ने थार के मरूस्थल को रूक्ष क्षेत्र कहा है। राज्य के कुल क्षेत्रफल का 61 प्रतिशत है। इस क्षेत्र में राज्य की 40 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है। प्राचीन काल में इस क्षेत्र से होकर सरस्वती नदी बहती थी। सरस्वती नदी के प्रवाह क्षेत्र के जैसलमेर जिले के चांदन गांव में चांदन नलकूप की स्थापना कि गई है। जिसे थार का घड़ा कहा जाता है।
इसका विस्तार बाड़मेर, जैसलमेर, बिकानेर, जोधपुर, पाली, जालोर, नागौर,सीकर, चुरू झुंझुनू, हनुमानगढ़ व गंगानगर 12 जिलों में है। सम्पूर्ण पश्चिमी मरूस्थलीय क्षेत्र समान उच्चावचन नहीं रखता अपितु इसमें भिन्नता है। इसी भिन्नता के कारण इसको 4 उपप्रदेशों में विभक्त किया जाता है..-
1.शुष्क रेतीला अथवा मरूस्थलीय प्रदेश
2.लूनी- जवाई बेसीन
3.शेखावाटी प्रदेश
4.घग्घर का मैदान 


1 शुष्क रेतीला अथवा मरूस्थलीय प्रदेश

यह वार्षिक वर्षा का औसत 25 सेमी. से कम है। इसमें जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर एवं जोधपुर और चुरू जिलों के पश्चिमी भाग सम्मलित है। इन प्रदेश में सर्वत्र बालुका - स्तूपों का विस्तार है।
पश्चिमी रेगिस्तान क्षेत्र के जैसलमेर जिले में सेवण घास के मैदान पाए जाते है। जो कि भूगर्भीय जल पट्टी के रूप में प्रसिद्ध है। जिसे लाठी सीरीज कहलाते है।
पश्चिमी रेगिस्तानी क्षेत्र के जैसलमेर जिले में लगभग 18 करोड़ वर्ष पुराने वृक्षों के अवशेष एवं जीवाश्म मिले है। जिन्हें "अकाल वुड फॉसिल्स पार्क" नाम दिया है। पश्चिमी रेगिस्तान क्षेत्र के जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर जिलों में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैसों के भंडार मिले है।

2 लूनी - जवाई बेसीन
यह एक अर्द्धशुष्क प्रदेश है। जिसमें लूनी व इसकी प्रमुख नदी जवाई एवं अन्य सहायक नदियां प्रवाहित होती है। इसका विस्तार पालि, जालौर, जोधपुर व नागौर जिले के दक्षिणी भाग में है। यह एक नदी निर्मित मैदान है। जिसे लूनी बेसिन के नाम से जाना जाता है।

3 शेखावाटी प्रदेश
इसे बांगर प्रदेश के नाम से जाना जाता है। शेखावटी प्रदेश का विस्तार झुझुनूं, सीकर, चुरू तथा नागौर जिले के उतरी भाग में है। इस प्रदेश में अनेक नमकीन पानी के गर्त (रन) हैं जिसमें डीडवाना, डेगाना, सुजानगढ़, तालछापर, परीहारा, कुचामन आदि प्रमुख है।

4 घग्घर का मैदान
गंगानगर हनुमानगढ़ जिलों का मैदानी क्षेत्र का निर्माण घग्घर के प्रवाह क्षेत्र के बाढ़ से हुआ है।


सम्बन्धित महत्वपूर्ण लेख
पश्चिमी मरूस्थली प्रदेश
अरावली पर्वतीय प्रदेश
पूर्वी मैदानी भाग
4. दक्षिण-पूर्व का पठारी भाग

1 Pashchimi Marusthali Pradesh Rajasthan Ka Arawali Shreniyon Ke Pashchim Shetra Shushk Aivam ArddhShushk Hai । Yah Ek Vishishth Geogrophical Jise Bhaarat Vishal Marusthal Athvaa Thar Naam Se Jana Jata Vishwa Sarwaadhik Aabad Tatha Van Vanaspati Wala Ishwari Singh ne Ko Ruksh Kahaa Rajya Kul Shetrafal 61 Pratishat Is Me Ki 40 Jansankhya Niwas Karti Pracheen Kaal Hokar Saraswati Nadi Bahti Thi Prawah Jaisalmer Jile Chandan Village


Labels,,,