Savitri (savitr ) Meaning In Hindi

savitr meaning in Hindi

savitr = सवितृ (Savitri)





सवितृ, ऋग्वेद में वर्णित सौर देवता हैं। गायत्री मंत्र का सम्बन्ध सवितृ से ही माना जाता है सविता शब्द की निष्पत्ति 'सु' धातु से हुई है जिसका अर्थ है - उत्पन्न करना, गति देना तथा प्रेरणा देना। सवितृ देव का सूर्य देवता से बहुत साम्य है। सविता का स्वरूप आलोकमय तथा स्वर्णिम है। इसीलिए इसे स्वर्णनेत्र, स्वर्णहस्त, स्वर्णपाद, एवं स्वर्ण जिव्य की संज्ञा दी गई है। उसका रथ स्वर्ण की आभा से युक्त है जिसे दोया अधिक लाल घोड़े खींचते है, इस रथ पर बैठकर वह सम्पूर्ण विश्व में भ्रमण करता है। इसे असुर नाम से भी सम्बोधित किया जाता है। प्रदोष तथा प्रत्यूष दोनों से इसका सम्बन्ध है। हरिकेश, अयोहनु, अंपानपात्, कर्मक्रतु, सत्यसूनु, सुमृलीक, सुनीथ आदि इसके विशेषण हैं। ऋग्वेद के ११ सूक्तों में सवितृ का नाम आता है। इसके अतिरिक्त अनेकों मंत्रों में सवितृ का नाम आता है। कुल मिलाकर १७० बार सवितृ का नाम आया है। उदय के पूर्व सूर्य को सवितृ कहते हैं, जबकि उदय के पश्चात 'सूर्य'।
Tags: Savitri meaning in Hindi. savitr meaning in hindi. savitr in hindi language. What is meaning of savitr in Hindi dictionary? savitr ka matalab hindi me kya hai (savitr का हिन्दी में मतलब ). Savitri in hindi. Hindi meaning of savitr , savitr ka matalab hindi me, savitr का मतलब (मीनिंग) हिन्दी में जाने। What is savitr ? Who is savitr ? Where is savitr English to Hindi dictionary(शब्दकोश).
ये शब्द भी देखें: Savitri(सवितृ),

पिछला शब्द अगला शब्द
Comments।