Atharv (Atharv) Meaning In Hindi

Atharv meaning in Hindi

Atharv = अथर्व (Atharv)




अथर्व संज्ञा पुं॰ [सं॰ अथर्वन्] चौथा वेद । विशेष—इसके मंत्रद्रष्टा या ऋषि भृगु या अंगिरा गोत्रवाले थे जिस कारण इसको 'भृर्ग्वांगिरस' और 'अथर्वांगिरस' भी कहते हैं । इसमें ब्रह्मा के कार्य का प्रधान प्रतिपादन होने से इसे 'ब्रह्मादेव' भी कहते हैं । इस वेद में यज्ञकर्में का विधान बहुत कम है । शांति, पोष्टिक अभिचार आदि प्रतिपादन विशेष है । प्रायश्चित, तंत्र, मंत्र आदि इसमें मिलते हैं । इसकी नौ शाखाएँ थीं—पैप्यला, दांता, प्रदांता, स्नौता, ब्रह्मादावला, शौनकी, देविदर्शती और चरण विद्या । कहीं कहीं इन नौं शाखाओं के नाम इस प्रकार हैं— पिप्पलादा, शौनकीया, दामोदा, तोतायना, जाजला, ब्रह्मप— लाशा, कौनखिना, देवदर्शिना और चारण विद्या । इन शाखाओं में से आजकल केवल शौनकीय मिलती है जिसमें २० कांड, १११ अनुवाक, ७३१ सूक्त और ४७९३ मंत्र हैं । पिप्पलाद शाखा की संहिता प्रोफेसर बुलर को काश्मीर में भोजपत्र पर लिखी मिलि थी पर वह छपी नहीं । इसका उपवेद धनुर्वेद है । इसके प्रधान उपनि्षद् प्रश्न, मुंडक और मांडूक्य हैं । इसका गोपथ ब्राह्मण आजकल प्राप्त है । कर्मकांडियों को इस वेद का जानना आवश्यक है ।
२. अथर्ववेद का मंत्र ।
Tags: Atharv meaning in Hindi. Atharv meaning in hindi. Atharv in hindi language. What is meaning of Atharv in Hindi dictionary? Atharv ka matalab hindi me kya hai (Atharv का हिन्दी में मतलब ). Atharv in hindi. Hindi meaning of Atharv , Atharv ka matalab hindi me, Atharv का मतलब (मीनिंग) हिन्दी में जाने। What is Atharv? Who is Atharv? Where is Atharv English to Hindi dictionary(शब्दकोश).
ये शब्द भी देखें: Atharv(अथर्व), Athvaa(अथवा),

पिछला शब्द अगला शब्द
Comments।