PradhanMantri Awaas Yojana In Hindi
PradhanMantri Awaas Yojana In Hindi


Rajesh Kumar at  2016-12-04   04:21:00

2022 तक सबके लिए आवास हेतु प्रधानमंत्री आवास योजना की ग्रामीण आवास योजना - ‘ ग्रामीण ’ का क्रियान्वयन
23 मार्च , 2016

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ग्रामीण आवास योजना ‘ ग्रामीण ’ के क्रियान्वयन को अनुमति प्रदान कर दी है । इस योजना के तहत सभी बेघर और जीर्ण - शीर्ण घरों में रहने वाले लोगों को पक्का मकान बनाने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है ।
इस परियोजना के क्रियान्वयन हेतु 2016 - 17 से 2018 - 19 तक तीन वर्षों में 81975 रुपये खर्च होंगे । यह प्रस्तावित किया गया है कि परियोजना के अंतर्गत वर्ष 2016 - 17 से 2018 - 19 के कालखंड में एक करोड़ घरों को पक्का बनाने के लिए मदद प्रदान की जाएगी । दिल्ली और चंडीगढ़ को छोड़ कर यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में पूरे भारत में क्रियान्वित की जाएगी । मकानों की क़ीमत केंद्र और राज्यों के बीच बांटी जाएगी ।
विस्तृत जानकारी निम्न हैः -
क ) प्रधानमंत्री आवास योजना की ग्रामीण आवास योजना - ग्रामीण का क्रियान्वयन ।
ख ) ग्रामीण क्षेत्रों में एक करोड़ आवासों के निर्माण के लिए 2016 - 17 से 2018 - 19 तक तीन वर्षों में मदद प्रदान की जाएगी ।
ग ) समतल क्षेत्रों में प्रति एकक 1 , 20 , 000 तक एवं पहाड़ी क्षेत्रों में 1 , 30 , 000 तक सहायता में बढ़ोतरी ।
घ ) 21 , 975 करोड़ रुपए की अतिरिक्त वित्तीय आवश्यकताओं की पूर्ति राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक ( नाबार्ड ) से की जाएगी ।
ड. ) लाभान्वितों की पहचान के लिए सामाजिक - आर्थिक - जातीय जनगणना - 2011 का उपयोग ।
च ) परियोजना के तहत लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए राष्ट्रीय स्तर पर तकनीकी सहायता हेतु नेशनल टेकनिकल सपोर्ट एजेंसी का गठन ।
क्रियान्वयन की रणनीति एवं लक्ष्यः -
• पूर्ण पारदर्शिता एवं निष्पक्षता सुनिश्चित करते हुए लाभान्वितों की पहचान का कार्य सामाजिक - आर्थिक - जातीय जनगणना की सूचनाओं का प्रयोग कर किया जाएगा ।
• पूर्व में सहायता प्राप्त लाभान्वितों एवं अन्य कारणों से अयोग्य लोगों की पहचान के लिए सूची ग्राम सभा को दी जाएगी । अंतिम सूची का प्रकाशन किया जाएगा ।
• घरों के निर्माण की क़ीमत केंद्र एवं राज्य द्वारा समतल क्षेत्रों में 60 40 के अनुपात में तथा पहाड़ी / उत्तर - पूर्वी क्षेत्रों हेतु 90 10 के अनुपात में रखी जाएगी ।
• लाभान्वितों की वार्षिक सूची की पहचान ग्राम सभा द्वारा सहभागिता पूर्वक की जाएगी । मूल सूची की प्राथमिकता में परिवर्तन के लिए ग्राम सभा को लिखित में न्यायसंगत ठहराना होगा ।
• लाभान्वित के खाते में सीधे धनराशि स्थानांतरित की जाएगी ।
• फोटोग्राफ एप के माध्यम से अपलोड किए जाएंगे , भुगतान की प्रगति को लाभान्वित एप के माध्यम से देख पाएंगे ।
• लाभान्वित मनरेगा के अंतर्गत 90 दिनों के अकुशल श्रम का अधिकारी होगा , सर्वर से लिंक कर तकनीकी आधार पर इसको सुनिश्चित किया जाएगा ।
• मकानों की संरचना ऐसी होगी जो क्षेत्रीय आधार पर उपयुक्त हों , मकानों की रचना में ऐसी खासियतें रखी जाएंगी जो उन्हें प्राकृतिक आपदाओं से बचा सकें ।
• मिस्त्रियों की संख्या में कमी को देखते हुए उनके प्रशिक्षण की व्यवस्था भी की जाएगी ।
• मकान बनाने में प्रयुक्त सामग्री की अतिरिक्त ज़रूरत को देखते हुए ईंटों के निर्माण हेतु सीमेंट या फ्लाई एश का मनरेगा के अंतर्गत कार्य किया जाएगा ।
• लाभान्वित को 70 , 000 रुपए तक का ऋण लेने की सुविधा प्रदान की जाएगी ।
• मकान का क्षेत्रफल मौजूदा 20 वर्ग मीटर से बढ़ाकर भोजन बनाने के स्वच्छ स्थान समेत 25 वर्ग मीटर तक किया जाएगा ।
• परियोजना से जुड़े सभी लोगों के लिए गहन क्षमता सर्जक प्रक्रिया रखी जाएगी ।
• ज़िला एवं ब्लॉक स्तर पर आवासों के निर्माण हेतु तकनीकी सुविधाएं प्रदान करने के लिए मदद मुहैया कराई जाएगी ।
• आवासों के निर्माण की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए एवं केंद्र और राज्य सरकारों को तकनीकी मदद देने के लिए एक नेशनल टेक्निकल सपोर्ट एजेंसी का गठन किया जाएगा ।
मकान एक आर्थिक सम्पत्ति है एवं स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्रों में सकारात्मक प्रभाव डालने के साथ ही सामाजिक उन्नति में योगदान देता है । किसी परिवार के लिए रहने का स्थाई मकान होने के प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष फायदे अमूल्य एवं ढेरों हैं ।
निर्माण क्षेत्र भारत में दूसरा सबसे बड़ा रोज़गार प्रदाता है । इस क्षेत्र का 250 से भी ज़्यादा अधीनस्थ उद्योगों से वास्ता है । ग्रामीण आवास योजना के विकास से ग्रामीण समाज में रोज़गारों का सृजन होता है और इससे गांवों के अर्थतंत्र का विकास होता है ।
रहने के लिए वातावरण बेहतर होने के अप्रत्यक्ष फायदे श्रम उत्पादकता एवं स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव के रूप में होते हैं । पोषण , स्वच्छता , माता एवं बच्चे के स्वास्थ्य समेत मानव विकास के मापदण्डों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है । जीवन स्तर बेहतर होता है ।


भारत-हांगकांग के मध्य समझौता

क्रॉस बॉर्डर ट्रेन सेवा

ब्लॉकचैन शिखर सम्मेलन एवं हैकाथान

ब्लू फ्लैग 17

संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन

ASBC एशियन महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप, 2017

रक्षा लेखा विभाग का नियंत्रक सम्मेलन, 2017

‘प्रबल दोस्तक 2017’

पैराडाइज पेपर्स मामला

हॉकी एशिया कप (महिला), 2017

रोलेक्स पेरिस मास्टर्स, 2017

विष्णुदास भावे अवॉर्ड

सांस्कृतिक विरासत संरक्षण के लिए यूनेस्को एशिया-प्रशांत पुरस्कार, 2017

ब्रिटेन के रक्षा मंत्री ने इस्तीफा दिया

ग्राहक सड़क कोयला वितरण एप

भारत और इथोपिया में समझौता

वैश्विक क्लबफुट सम्मेलन

उर्वरक कपंनियों को बकाया सब्सिडी के भुगतान हेतु मंजूरी

एजूथाचन पुरस्कारम

विजिलेंस एक्सीलेंस अवॉर्ड, 2017

निर्भय क्रूज मिसाइल का पांचवा परीक्षण

हेली एक्सपो इंडिया-2017

तटीय सुरक्षा अभ्यास ‘सागर कवच’

जेंडर वल्नरेबिलिटी इंडेक्स रिपोर्ट

प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सर्वाधिक दोहरा शतक जड़ने वाले प्रथम भारतीय क्रिकेटर


सामान्य अध्ययन विस्तारपूर्वक

राजस्थान सामान्य ज्ञान Rajasthan Gk
भारत का संविधान Constitution of India
आधुनिक भारत का इतिहास Modern History of India
1857 की क्रान्ति Revolt of 1857
भारत सरकार की योजनाएं Schemes of Government of India
करियर मार्गदर्शन DISHA Career Guide
कृषि एवं उद्यानिकी Agriculture and Gardening

News Articles

दारोगा भर्ती 2017 :1717 पुलिस सब इंस्पेक्टर (दारोगा भर्ती) के पद के लिए आवेदन
बिहार पुलिस भर्ती 2017 / 2018: 9900 कांस्टेबल के पद के लिए आवेदन
बीएसएफ भर्ती 2017: 162 कांस्टेबल के लिए आवेदन सीमा सुरक्षा बल भर्ती 2017-18
MPPHC भर्ती 2017: 16 सब इंजीनियर (सिविल) पदों के लिए आवेदन

Current Affairs