खेजड़ली आन्दोलन

KheJadli Andolan

Pradeep Chawla on 13-10-2018

अमृता देवी : एक बलिदान


सन 1730 इसवी में मारवाड़ रियासत के खेजडली गाँव में कुछ ऐसा हुआ जो सदियों तक अमर हो गया।


मारवाड़ रियासत के राजा अभयसिंह मारवाड़ एक महल बनाना चाहते थे उसके लिए चूना गर्म करने के लिए पेड़ के लडकियों की आवश्कता पड़ी तो राजा की सेना खेजडली गाँव पहुची।


खेजडली गाँव जोधपुर से कुछ दुरी पर बसा हे पूर्व में रेगिस्तान में पानी एवं पेड़ का बहुत महत्व था ऊपर से इस गाँव की जनसँख्या विश्नोई समुदाय से थी।


विश्नोई अथवा बिशनोई समाज संत जम्बोजी का अनुयायी हे जो प्रकृति एवं जीवो के संरक्षण को ही जीवन मान गए हे।


जब मारवाड़ की सेना खेजड़ी के पेड़ काटने खेजडला गाँव पहुची तब अमृता देवी नाम की एक विश्नोई महिला ने उनका विरोढ किया।


अमृता देवी अपने 3 बेटियों आसू, भागु और रत्नी के साथ खेजड़ी के पेड़ से लिपट गयी तथा पेड़ काटना संत जम्बोजी तथा विश्नोई समाज के नियमो के विरुद्ध होने के कारण पेड़ो को काटने से रोक दिया तथा बोली:


"सर सान्टे रूख रहे तो भी सस्तो जाण"


अगर पेड़ो की रक्षा के लिए सर भी कट जाये तो उससे भी पीछे नहीं हटना।


यह खबर महाराज तक पहुची तब जोधपुर के महाराज अभयसिंह ने हर हाल में लडकिया लाने का हुक्म दे दिया।


हाकिम गिरधारी सिंह भंडारी के हुक्म पर सेनिको ने अमृता देवी और उनकी 3 बेटियों पर कुल्हाड़ी से प्रहार कर उनके टुकड़े टुकड़े कर खेजड़ी के पेड़ो को काटना शुरू किया यह बात पास के गावो में फेली तब 83 गाँवो से विश्नोई समाज के लोग वहा आ गए।


धीरे धीरे 363 विश्नोई खेजड़ी के पेड़ो से लिपटते गए और मारवाड़ के सेनिक पेड़ो सहित उनके शरीर के टुकड़े करते गए पुरे खेजडली गाँव की धरती खून से लाल होती चली गयी फिर भी विश्नोई समाज के लोग बड़ी संख्या में पेड़ो से लिपटते रहे यह देख मारवाड़ के हाकिम सेना को लेकर पुनः जोधपुर दरबार लोट गए।


आज उसी की याद में खेजडली गाँव में 363 विश्नोई भाइयो तथा अमृता देवी उनकी बेटियों के सम्मान में समस्त हिन्दू समाज एकत्र होता हे।


आज भी विश्नोई समाज की स्पेशल टोली गठित हे जिसका नाम विश्नोई टाइगर फाॅर्स हे जो वन्य जीवो के संरक्षण तथा शिकार रोकने में कार्य करती हे तथा खेजड़ी के पेड़ो की अवैध कटाई पर फाॅर्स अपनी पूरी ताकत से जवाब देती हे।


जोधपुर में हुए बहु चर्चित सलमान खान के हिरण शिकार का केस भी राजस्थान उच्च न्यायलय में विश्नोई समाज द्वारा लगा कर सलमान खान जेसे बड़ी हस्ती को भी 4 दिन जोधपुर जेल में डलवा दिया था।


प्रकृति संरक्षण के इस महान बलिदान पर उन सभी 363 विश्नोई भाई तथा अमृता देवी के परिवार को नमन।





Comments Pankaj. on 17-12-2020

खेजड़ी आंदोलन पर निबंध

Devaram Bishnoi on 20-05-2020

Bishnoi Ratan awardies ?

Kslal guddi on 25-04-2020

Abhay sih k darbar me kitne kvi the

Khejroli andolan kis varsh ghatit hua tha on 24-07-2019

I dont know what is this answer

simi on 12-05-2019

khejadi andolan kis vsh ghatit huaa tha

Mahipal siyag on 09-08-2018

खेजड़ली आंदोलन कब हुआ था




Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment