ककड़ी के प्रकार

KaKadi Ke Prakar

GkExams on 14-07-2022


ककड़ी के बारें में : आपको बता दे की इसको संस्कृत में 'कर्कटी' तथा मारवाडी भाषा में वालम "काकरी" कहा जाता है। यह "कुकुरबिटेसी" (Cucurbitaceae) वंश के अंतर्गत आती है। ध्यान रहे की ककड़ी ज़ायद की एक प्रमुख फसल है। आमतौर पर लोग इसे अपने खाने के साथ सलाद के रूप में उपयोग लेते है।


KaKadi-Ke-Prakar


ककड़ी का वैज्ञानिक नाम - "कुकुमिस मेलो वैराइटी यूटिलिसिमय" है। यह लू से बचाने में भी सहायक है, तथा मानव शरीर के लिए अधिक लाभकारी भी होती है।


इसकी पहली गुड़ाई पौध रोपाई के 20 से 25 दिन बाद की जाती है, तथा बाद की गुड़ाई को 20 दिन के अंतराल में करना होता है। वैज्ञानिक पद्धति से इसकी खेती करने पर सामान्य तौर पर 200 से 250 कुन्तल प्रति हैक्टेयर उपज प्राप्त होती है।


ककड़ी की उन्नत किस्में :




यहाँ हम आपको निम्नलिखित बिन्दुओं द्वारा ककड़ी की उन्नत किस्मों के नामों से अवगत करा रहे है, जिनके बीज उगाकर आप अपनी खेती की पैदावार अच्छी कर सकते है....


  • जैनपुरी ककड़ी
  • अर्का शीतल
  • पंजाब स्पेशल
  • दुर्गापुरी ककड़ी
  • लखनऊ अर्ली
  • 708



  • ककड़ी के प्रकार :




    आपकी बेहतर जानकारी के लिए बता दे की इसमें दो मुख्य जातियाँ होती हैं - एक में हलके हरे रंग के फल होते हैं तथा दूसरी में गहरे हरे रंग के। वैसे इनमें पहली को ही लोग पसंद करते हैं।




    सम्बन्धित प्रश्न



    Comments

    आप यहाँ पर ककड़ी gk, question answers, general knowledge, ककड़ी सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

    Labels: , , , , ,
    अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




    Register to Comment