rajasthan ki mitiya

rajasthan ki mitiya

Gk Exams at  2018-03-25

Pradeep Chawla on 12-05-2019

साधारणतया जिसे हम मिट्टी कहते हैं , वह चट्टानों का चूरा होता है। ये चट्टानें मुख्यतया तीन प्रकार की होती हैं - स्तरीकृत , आग्नेय और परिवर्तित। क्षरण या नमीकरण के अभिकर्त्ता तापमान,वर्षा,हवा,हिमानी,बर्फ व नदियों द्वाया ये चट्टाने टुकड़ों में विभाजित होती हैं जो अंत में हमें के रूप में दिखाई देती हैं।



अनुक्रम



1 मिट्टियों के प्रकार

2 रेतीली मिट्टी

3 दोमट मिट्टी

4 लाल-काली मिट्टी

5 पीली-लाल मिट्टी

6 काली मिट्टी

7 लेटेराइट मिट्टी

8 जलोढ़ मिट्टी

9 सन्दर्भ

10 बाहरी कड़ी



मिट्टियों के प्रकार



वैज्ञानिक दृष्टि से राजस्थान की मिट्टियों का वर्गीकरण इस प्रकार किया गया है -

रेतीली मिट्टी



राजस्थान में पश्चिमी भाग में रेतीली मिट्टी देखी जाती है। इस क्षेत्र में पानी प्राय: 100 फुट की गहराई पर मिलता है। राजस्थान के लगभग 38 % भू-भाग में यह मिट्टी देखने को मिलती है।

दोमट मिट्टी



यह मिट्टी उदयपुर जिले के मध्यवर्ती व दक्षिणी भागों में और सम्पूर्ण डूंगरपुर जिले पायी जाती है। लौह-कण के सम्मिश्रण के कारण यह लाल दिखाई देती है। इस माटी में पोटाश व चूने का अंश पर्याप्त मात्रा में होता है। इस माटी पर मक्का,चावल की खेती की जाती है।

लाल-काली मिट्टी



यह मिट्टी उदयपुर के पूर्वी भाग में चित्तौड़गढ़, बांसवाड़ा और भीलवाड़ा जिले के पूर्वी भाग में पायी जाती है। इस माटी में क्षार का अंश भी होता है। इन भागों में मक्का व कपास की खेती मुख्यत: की जाती है। यहाँ 50-60 फुट की गहराई पर पानी मिल जाता है।

पीली-लाल मिट्टी



इस प्रकार की मिट्टी उदयपुर व भीलवाड़ा जिलों के पश्चिमी भाग तथा सवाई माधोपुर, अजमेर व सिरोही जिलों में पायी जाती है। इसमें लौह अंश होने के कारण इसका रंग लाल व पीला है। कहीं-कहीं पर इस माटी का रंग हल्के-पीले से लेकर गहरा भूरा देखने को मिलता है।

काली मिट्टी



यह मिट्टी उदयपुर संभाग के कुछ भागों डूंगरपुर , बाँसवाड़ा कुशलगढ़ , प्रतापगढ़ तथा पूर्व में कोटा व झालावाड़ क्षेत्रों में पायी जाती है। इस माटी में नमी को रोके रखने का विशेष गुण होता है। यह मिट्टी खूब उपजाऊ भी होती है।

लेटेराइट मिट्टी



इस प्रकार की मिट्टी बाँसवाड़ा, प्रतापगढ़ व कुशलगढ़ के कुछ क्षेत्रों में देखने को मिलती है। [1] इस माटी में चूना, नाइट्रेट व ह्यूमरस अल्पमात्रा में है। अतः वनस्पति उगाने के लिए अच्छा नहीं हैं।

जलोढ़ मिट्टी

यह माटी राजस्थान के पूर्वी भाग में मुख्यतः पायी जाती है। इसका थोड़ा-सा क्षेत्र उत्तरी राजस्थान में भी है। अलवर, भरतपुर, जयपुर और सवाई माधोपुर जिलों तथा गंगानगर जिले के मध्यवर्ती भाग में यह मिट्टी देखने को मिलती है। इस माटी में नाइट्रोजन की तो अल्पमात्रा में है , किंतु चूना, पोटाश, फॉस्फोरस, लोहा अनेक पदार्थ हैं।



Comments

आप यहाँ पर rajasthan gk, mitiya question answers, general knowledge, rajasthan सामान्य ज्ञान, mitiya questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment