कौशल विकास की परिभाषा

Kaushal Vikash Ki Paribhasha

GkExams on 12-11-2018


भारत में कौशल विकास परिदृश्य की नयी परिभाषा
कौशल पारितंत्र को इस समय प्रगतिशील भारत के लिए स्पष्ट दिशा मिलती दिख रही है और स्वयं को ‘कुशल भारत, कौशल भारत’ के एक ही उद्देश्य के प्रति समर्पित करने का यह सबसे अच्छा समय है। अर्थव्यवस्था के अंशों में वृद्धि हो रही है। स्किल इंडिया अभियान आरंभ होने के साथ ही इस दृष्टिकोण के व्यापक तथा अधिक प्रभावी होने की संभावना है। उद्योग की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए प्रशिक्षण क्षमता का सृजन करना एवं सशक्त तथा कुशल कार्यबल के कार्य को पूरा सम्मान देते हुए उसके लिए पर्याप्त रोजगार सुनिश्चित करना अगली चुनौती है
भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा 2014-15 के लिए हाल ही में जारी वार्षिक रिपोर्ट बताती है कि भारत की संवृद्धि का परिदृश्य लगातार सुधर रहा है और वास्तविक गतिविधियों के सूचकांक इसके सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 7.6 प्रतिशत वृद्धि के अनुमानों के अनुरूप हैं। रिपोर्ट आगे कहती है कि कारोबारी विश्वास मजबूत बना हुआ है और चूंकि केंद्रीय बजट में घोषित पहलों से बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में निवेश बढ़ रहा है, इसलिए उनमें निजी निवेश आना चाहिए और मुद्रास्फीति में कमी के कारण उपभोक्ताओं की मनोदशा में सुधार आना चाहिए। कुछ सूचकांक हैं, जो बताते हैं कि दुनिया भर के देशों में मंदी आने के बावजूद भारत की कहानी उज्ज्वल और सही जगह पर दिख रही है। तेजी से उभर रहे राष्ट्रों में केवल भारत के जीडीपी आंकड़ों में सुधार के संकेत मिले हैं।
सरकार ने पहले ही कदम बढ़ा दिया है। देसी और विदेशी कंपनियों को अपने उत्पाद भारत में बनाने और विदेश में बेचने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए उद्देश्य से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के नियमों में ढील दे दी है। मेक इन इंडिया से विभिन्न क्षेत्रों में विनिर्माण की गतिविधियां बढ़ने और जीडीपी में उनका योगदान बढने की अपेक्षा है। यह उम्मीद भी जताई जा रही है कि विनिर्माण गतिविधियों में वृद्धि से उस कुशल कार्यबल के लिए भारी संख्या में रोजगार सृजन होगा, जिस कार्यबल को देश तैयार कर रहा है। सरकार ने हाल ही में इसी दिशा में स्किल इंडिया मिशन आरंभ किया है, जो मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्मार्ट सिटीज तथा अन्य राष्ट्रीय अभियानों के लिए धुरी का काम करेगा। काम के लिए तैयार और कुशल कार्यबल ही इन सभी राष्ट्रीय अभियानों को सफल बनाएगा और इस तरह भारत की आर्थिक वृद्धि, जीडीपी आंकड़ों में सुधार तथा प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोतरी का कारण बनेगा। इसलिए यह अनिवार्य है कि देश के युवाओं को देश के जनसांख्यिकीय लाभांश के उपयोग के लिए सही दिशा मिले और उनकी निजी तथा व्यावसायिक वृद्धि भी होती रहे।



Comments गौरव dixit on 09-01-2020

राष्ट्रिय कौशल आहर्ता फ्रेमवर्क क्या है

शिव on 25-12-2019

कौशल विकास योजना के विभिन्न आयाम क्या है

कौशल विकास की परिभाषा कौशल विकास की परिभाषा on 10-10-2018

कौशल विकास की परिभाषा

Ankita ratuti on 01-10-2018

कौशल विकास का अर्थ btao

Ankit yadav on 16-09-2018

Kaushal ki paribhasha kya hai

sureshsinghchouhan on 27-08-2018

hardwear me kon sa kors hota hai




Labels: , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment