भारत का संविधान किसने लिखा इन हिंदी

Bharat Ka Samvidhan Kisne Likha In Hindi

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 23-09-2018

भारत का संविधान, देश के आजाद होने से कई साल पहले से ही बनना प्रारम्‍भ हो गया था। 1857 की क्रान्ति के बागी सिपाहियों ने भी हिन्‍दुस्‍तान के संविधान को बनाने की कोशिश की थी लेकिन उनका विद्रोह समाप्‍त हो जाने के कारण वे यह कार्य पूरा नही कर पाए।



1935 में अंग्रेजो ने एक Government of India Act बनाया था।



13 दिसंबर 1946 को जवाहर लाल नेहरू ने संविधान की नींव के रूप में लक्ष्‍य और उद्देश्‍य को सामने रखा। उन्‍होंने संविधान का एक पूरा का पूरा खाका तैयार कर दिया था, जिसके अन्‍तर्गत सम्‍पूर्ण भारत के सभी रजवाड़ों की रियासत को समाप्‍त करते हुए उन्‍हें भारतवर्ष का हिस्‍सा बना देने का प्रस्‍ताव था। 22 जनवरी 1947 को संविधान के इस सबसे महत्‍वपूर्ण प्रस्‍ताव को पास कर दिया गया, जिसका जिन्‍ना और रजवाड़ो ने विरोध किया।



सभी की सहमति पाना मुश्किल काम था परन्‍तु अप्रेल 1947 के अन्‍त तक संविधान सभा की दूसरी बैठक में बहुत से राजा कांग्रेस से सहमत हो गए थे। 3 जून 1947 यह घोषणा कर दी गई की भारत, पंजाब और बंगाल का विभाजन होगा। 14 जुलाई 1947 को जब संविधान सभा मिली तो उसमें मुश्लिम लीग के लोग भी मौजूद थे परन्‍तु वे वो लोग थे जो बटवारें के बाद भी भारत में ही रहने वाले थे। इसी सभा में नेहरू जी द्वारा हमारे देश के नये परचम (झण्‍डा) तिरंगे को प्रस्‍तुत किया जिसका सम्‍पूर्ण संविधान सभा ने समर्थन किया।



देश दो भागों में विभाजित हो गया। अनेक क्रान्तिकारियों की ब‍ली चढ़ जाने के बाद आखिरकार वह दिन आ गया 15 अगस्‍त 1947, जिस दिन को हम स्‍वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं। उस दिन भी देश के सभी देशवसियों ने इस पर्व को मनाया। सभी जाने माने लोग राजधानी दिल्‍ली में मौजूद थे सिवाय एक के और वह थे महात्‍मा गाँधी, क्‍योंकि वे कलकता में हिन्‍दु-मुश्लिम के दंगो को रोकने का प्रयास कर रहे थे। परन्‍तु अभी पूरी तरह से देश आजाद नहीं हुआ था क्‍योंकि भारत का संविधान अभी पूरी तरह से नहीं बनकर लागू नहीं हुआ था।



देश का विभाजन हुआ और देश आजाद भी हो गया, अब देश के पास केवल एक ही मुद्दा था देश का संविधान, जिसके लिए सात सदस्‍यों की एक कमेटी का गठन किया गया, जिसमें ए. कृष्‍णास्‍वामी अय्यर, एन गोपाल स्‍वामी अयंगर, डॉ. बी आर अम्‍बेडकर, के एम मुंशी, सैयद मोहम्‍मद साहदुल्‍लाह, बी एल मित्तर, डी. पी. खैतान आदि थे और इस कमेटी के अध्‍यक्ष थे डॉ. बी. आर. अम्‍बेडकर।







इन सातों ने मिलकर संविधान पर काम शुरू किया। कई मुद्दों पर सभी की राय एक जैसी होती थी लेकिन जब किसी मुद्दे पर सभी की राय एक जैसी नही होती थी, तो उस स्थिति में मतदान करवाया जाता था और इस मतदान से जिस पक्ष में ज्‍यादा मत होते थे, उस पक्ष को मान लिया जाता था।




Comments Sanjay Dubey on 17-09-2018

Samvidhan Banane Mein aaham yogdan Kiska tha

Govind Varkade on 22-08-2018

Savidhan Ko English me kisne likha hai



आप यहाँ पर संविधान gk, question answers, general knowledge, संविधान सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment