कंपनी लॉ नोट्स इन हिंदी

Company Law Notes In Hindi

GkExams on 17-11-2018

कंपनी अधिनियम वह अति महत्‍वपूर्ण विधान है जो केन्‍द्र सरकार को कम्‍पनी के गठन और कार्यों को विनियमित करने की शक्ति प्रदान करता है। भारत की संसद द्वारा 1956 में पारित किया गया था। इसमें समय-समय पर संशोधन किया गया। ये अधिनियम कम्पनियों के गठन को पंजीकृत करने तथा उनके निर्देशकों और सचिवो की जिम्मेदारी का निर्धारण करता है। कंपनियों अधिनियम, 1956 भारत के संघीय सरकार द्वारा कारपोरेट मामलों के मंत्रालय, कंपनियों के रजिस्ट्रार के कार्यालय, आधिकारिक परिसमापक, सार्वजनिक न्यासी, कंपनी लॉ बोर्ड आदि के माध्यम से प्रशासित किया जाता है।


यह अधिनियम सरकार को कम्‍पनी के गठन को विनियमित करने और कम्‍पनी के प्रबंधन को नियंत्रित करने की शक्ति प्रदान करता है। कम्‍पनी अधिनियम केन्‍द्र सरकार द्वाराकम्‍पनी कार्य मंत्रालय और कम्‍पनी पंजीयक के कार्यालयों, शासकीय परिसमापक, सार्वजनिक न्‍यासी, कम्‍पनी विधि बोर्ड, निरीक्षण निदेशक आदि के माध्‍यम से प्रवृत्त किया जाता है।


कम्‍पनी कार्य मंत्रालय जो पहले वित्त मंत्रालय के अधीन कम्‍पनी कार्य विभाग के रूप में जाना जाता था का प्राथमिक कार्य कम्‍पनी अधिनियम, 1956 का प्रशासन है, अन्‍य अधीनस्‍थ अधिनियम और नियम एवं विनियम जो उसके अधीन बनाए गए हैं कानून के अनुसार कारपोरेट क्षेत्र के कार्यों को विनियमित करने के लिए।


कम्‍पनी अधिनियम, 1956 में कहा गया है कि कम्‍पनी का अभिप्राय, अधिनियम के अधीन गठित और पंजीकृत कम्‍पनी या विद्यमान कम्‍पनी अर्थात किसी भी पिछला कम्‍पनी कानून के तहत गठित या पंजीकृत कम्‍पनी। कानून में निहित मूल उद्देश्‍य निम्‍नलिखित हैं :

  • कम्‍पनी संवर्धन और प्रबंधन में अच्‍छे आचरण और कारोबारी ईमानदारी का न्‍यूनतम मानक
  • शेयर धारकों और ऋणदाताओं का वैघानिक हितों की विधिवत मान्‍यता और प्रबंधन के कर्त्तव्‍य का उन हितों के प्रति पूर्वधारणा प्रतिकूल न होना।
  • बेहतर और प्रभावकारी नियंत्रण का प्रावधान और शेयर धारकों के लिए प्रबंधन में म‍ताधिकार
  • अपनी वार्षिक प्रकाशित तुलन पत्र और लाभ एवं हानि खातों में कम्‍पनी के कार्यों का निष्‍कक्ष और सही प्रकटन।
  • लेखाकरण और लेखापरीक्षा का उचित मानक
  • प्रबंधन के संबंध में बुद्धिसम्‍मत निर्णय लेने के लिए संगत सूचना और सुविधा प्राप्‍त करने के शेयरधारकों के अधिकारों की मान्‍यता।
  • दी गई सेवा के लिए परिलब्धि के रूप में प्रबंधन को भुगतान योग्‍य लाभ के शेयरों पर अधिकतम सीमा
  • जहां कर्त्तव्‍य और हित के बीच विरोधाभास की संभावना हो वहां उनके लेन देनों पर निगरानी
  • शेयरधारकों के अलपसंख्‍यक के लिए शोषक या पूर्ण रूपेण कम्‍पनी के हितों के प्रति पूर्वधारणा से प्रबंध किसी कम्‍पनी के कार्यों की जांच का प्रावधान।
  • सार्वजनिक कम्‍पनियों के प्रबंधन में रत या लोगों के अपने कर्त्तव्‍य निष्‍पादन के प्रवर्तन या निजी कम्‍पनियां जो सार्वजनिक कम्‍पनियों की अनुषंगी है, उल्‍लंघन के मामले में स्‍वीकृति देने द्वारा और अनुषंगी को सार्वजनिक कम्‍पनियों के लिए लागू कानून के अंतर्गत प्रतिबंध प्रावधानों के अधीन रखना।




Comments Ayushi kasaudhan on 17-09-2021

Company law b. Com 2year start to end serial wise book se and study karane ke liye saath me teacher

Kashish on 21-07-2021

कंपनी प्रबंधन में दमन से क्या आशय है दमन की दशा में राहत के लिए अधिकरण में आवेदन प्रस्तुत करने से सम्बधित प्रावधानों का वर्णन किजीये ।


Prachi raghav on 20-07-2021

Sir,



B

Com 2nd year ke subject company law ke important question and answer

Yogendra Singh on 11-07-2021

इसके निगमन के बाद निम्नलिखित में से किस दिन, कम्पनी के पास अपना पंजीकृत कार्यालय होना चाहिए

Renu on 08-06-2021

Company ke anivarya samapan se sambandhit kanuni pravdhano ko espast kijiye

Mahendra on 23-03-2021

एक कंपनी अपना पंजीकृत कार्यालय पश्चिम बंगाल रात से हटाकर गुजरात लाना चाहती है पश्चिम बंगाल राज्य द्वारा कंपनी की याचिका पर इस आधार पर आपत्ति की जाती है कि इससे राजस्व की क्षति होगी क्या पश्चिम बंगाल राज्य सरकार सफल होगी कारण दीजिए


Uzma khatoon on 10-02-2021

I me myself inglish me essay likhe

Harsh jain on 05-02-2021

कंपनी अधिनियम 2013 के अनुसार एक कंपनी के चिठे का नमूना

What is company law on 20-12-2020

Company law

Sheetal on 25-10-2020

Company low notes in hindi

Subodh kashyap on 05-10-2020

Shasakiy parisamapak kya hai vyakhya kijiye

Vedprakash Vishwakarma on 30-09-2020

Company law ke kanuni prawadhan


Divya pandey on 20-09-2020

Company ke sanchalkon ki yogyata , Adhikar,kartya or daitvon ki vaykhya?

arti bhatt on 28-08-2020

shree vastav shree vastav limited company apne share jari karti he

MAHIPAL SINGH CHOUHAN on 19-07-2020

LL.B SECOND NOTES SAND ME ALL SUBJECTS
E MAIL MSCHOUHAN0620@GMAIL.COM

POOJA on 29-06-2020

I WANT ALL INFO ABOUT LAW IN HINDI PLZ

Ajay on 02-06-2020

भारतीय कम्पनी अधीनियम १९५६के अन्र्तगत एक कम्पनी के पंजीकरण की व्याख्या कीजिए उल्लेख करते हुए एक कम्पनी की विशेषताएं की व्याख्या कीजिए


SHAILENDRA on 24-05-2020

किसी किराना सुपर मार्किट मे आग लग जाने पर उसके देनदारी का क्या होगा सुपर मार्किट बाजार को उधारी केसे चुकाएगा


Aadarsh Chaudhary on 22-05-2020

Describe preferential creditors according company act.

Shubham on 22-05-2020

सरकारी कंपनी एवं निजी कंपनी में अंतर।

Chhaya kumari on 15-03-2020

Company law m.c.q questions and answers

Company law ki jankari on 13-03-2020

Company law ke bare me

Mahi jaiswal on 13-03-2020

Articles of association ke bare mai

Sumit kumar on 23-02-2020

Compqny law ke bare me btaeye hindi me plese

Pallavi on 18-02-2020

Company kitne pirkar ke Hoti h

Satyam on 16-02-2020

Company law notes Hindi mein

Satyam mishra on 16-02-2020

Company La ki book Hindi mein

Rahul on 28-01-2020

कंपनियों के प्रकार गठन और एक कंपनी

मयंक on 18-10-2019

वर्क मेन। ओर एम्प्लॉई के अधिकार। क्या है

ओम प्रकाश on 15-10-2019

कंपनी का अर्थ परिभाषा


Nitesh Rajbhar on 24-09-2019

Nit

Mukul on 31-08-2019

Company law notes in hindi

Dinesh on 30-07-2019

Special court company law

komal on 28-07-2019

Company law ki paribhash aur prikiti kya hai



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment