प्राकृतिक चयन का सिद्धांत किसने दिया

Prakritik Chayan Ka Sidhhant Kisne Diya

Pradeep Chawla on 20-10-2018

जिस प्रक्रिया द्वारा किसी जनसंख्या में कोई जैविक गुण कम या अधिक हो जाता है उसे प्राकृतिक वरण या 'प्राकृतिक चयन' या नेचुरल सेलेक्शन (Natural selection) कहते हैं। यह एक धीमी गति से क्रमशः होने वाली अनयादृच्छिक (नॉन-रैण्डम) प्रक्रिया है। प्राकृतिक वरण ही क्रम-विकास(Evolution) की प्रमुख कार्यविधि है। चार्ल्स डार्विन ने इसकी नींव रखी और इसका प्रचार-प्रसर किया।


यह तंत्र विशेष रूप से इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एक प्रजाति को पर्यावरण के लिए अनुकूल बनने मे सहायता करता है। प्राकृतिक चयन का सिद्धांत इसकी व्याख्या कर सकता है कि पर्यावरण किस प्रकार प्रजातियों और जनसंख्या के विकास को प्रभावित करता है ताकि वो सबसे उपयुक्त लक्षणों का चयन कर सकें। यही विकास के सिद्धांत का मूलभूत पहलू है।


प्राकृतिक चयन का अर्थ उन गुणों से है जो किसी प्रजाति को बचे रहने और प्रजनन मे सहायता करते हैं और इसकी आवृत्ति पीढ़ी दर पीढ़ी बढ़ती रहती है। यह इस तथ्य को और तर्कसंगत बनाता है कि इन लक्षणों के धारकों की सन्ताने अधिक होती हैं और वे यह गुण वंशानुगत रूप से भी ले सकते हैं।





Comments प्राकृतिक चयन सिद्धांत किसने प्रतिपादित किया on 20-11-2019

प्राकृतिक चयन सिद्धांत किसने प्रतिपादित किया

Vansu on 17-11-2019

Principal of chapitr ka Hindi abhipraay

Prakrutik chayan ka siddhant kisne Diya hai on 11-11-2019

Prakrutik chayan ka siddhant kisne

Shobha on 29-07-2019

Prakiti chayan badh ka sidhant kisne diya tha



Labels: , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment