उद्देश्य प्रस्ताव क्या है

Uddeshya Prastav Kya Hai

Pradeep Chawla on 12-05-2019

3 दिसंबर 1946 को पंडित जवाहरलाल नेहरू ने संविधान का उद्देश्य प्रस्ताव सभा में प्रस्तुत किया, जो 22 जनवरी 1947 को पारित किया गया। इसकी मुख्य बातें इस प्रकार हैं-



1. भारत एक पूर्ण संप्रभुता संपन्न गणराज्य होगा, जो स्वयं अपना संविधान बनाएगा।



2. भारत संघ में ऐसे सभी क्षेत्र शामिल होंगे, जो इस समय ब्रिटिश भारत में हैं या देशी रियासतों में हैं या इन दोनों से बाहर, ऐसे क्षेत्र हैं, जो प्रभुतासंपन्न भारत संघ में शामिल होना चाहते हैं।



3. भारतीय संघ तथा उसकी इकाइयों में समस्त राजशक्ति का मूल स्रोत स्वयं जनता होगी।

11 दिसंबर 1946 को संविधान सभा की बैठक में डॉ. राजेंद्रप्रसाद को स्थायी अध्यक्ष चुना गया, जो अंत तक इस पद पर बने रहे। 13 दिसंबर 1946 को पंडित जवाहरलाल नेहरू ने संविधान का उद्देश्य प्रस्ताव सभा में प्रस्तुत किया, जो 22 जनवरी 1947 को पारित किया गया।





4. भारत के नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, पद, अवसर और कानूनों की समानता, विचार, भाषण, विश्वास, व्यवसाय, संघ निर्माण और कार्य की स्वतंत्रता, कानून तथा सार्वजनिक नैतिकता के अधीन प्राप्त होगी।



5. अल्पसंख्यक वर्ग, पिछड़ी जातियों और कबायली जातियों के हितों की रक्षा की समुचित व्यवस्था की जाएगी।



Comments Bhumika Trivedi on 24-05-2021

उद्देश्य प्रस्ताव मे स्वतंत्रता के क्षेत्र को समझाइए।

Nagma on 16-09-2020

Sir uddesh prastav, word ka matlab kya hai. Ye bataye. Or uddesh prastav 13 December 1946 ko 3rd sitting me hua tha.

Akhil on 16-10-2019

Uddasya prasatav kya tha kavel definition

Vidit chaudhary on 16-10-2019

Sir uddeshya prastav 13 dec 1946 ko Pesh kiya gya tha. 3 dec ko nhi.plz correct

Rahul Yadav on 12-05-2019

Rastrapati ka chunav kaise hota hai full details

Reena on 12-05-2019

उद्देश्य प्रस्ताव की मुख्य बातें क्या थी




Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment