मिश्र भिन्न की परिभाषा

Mishra Bhinn Ki Paribhasha

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 13-10-2018

भिन्नों के कई रूप हैं:


(1) उचित भिन्नों के अंश का परम मान उनके हर के परम मान से कम होता है, जैस 3/4, 2/3,5/7


(2) विषम भिन्नों के अंश का परम मान उनके हर के परम मान से ज़्यादा होता है, जैस 5/4,8/3,5/3


(3) मिश्रित भिन्नों के दो भाग हैं: एक भाग पूर्ण संख्या होता है और एक भाग उचित भिन्न होता है, जैसे


(4) तुल्य भिन्नों की राशियाँ समान होती हैं, जैसे


क/ख में यदि क < ख तो भिन्न उचित भिन्न कहलाता है और यदि क > ख, तो भिन्न अनुचित भिन्न कहलाता है। इसको साधारण भाषा में दो प्रकार से समझा सकते हैं :

(1) यदि किसी राशि को ख बराबर भागों में बाटें और उनमें से क भाग ले लें, तो इन क भागों का पूरी राशि का क/ख भाग कहते हैं, या(2) इस प्रकार की यदि क राशियाँ ले और उनके ख बराबर भाग करें, तो प्रत्येक को एक राशि के क/ख भाग कहते हैं। दो संख्याओं क और ख के अनुपात को भी क/ख भिन्न से व्यक्त किया जाता है। यदि भिन्न क/ख में क या ख को किसी भिन्न से बदल दें तो इस प्रकार बनी भिन्न को मिश्र भिन्न कहते हैं, जबकि मूल भिन्न को सरल भिन्न कहते हैं, जैसे, 3/5 सरल भिन्न है, परंतु (3/4) / (5/7) मिश्र भिन्न के उदाहरण हैं। मिश्र भिन्न को और भी व्यापक बनाया जा सकता है। अंश और हर के बजाय एक भिन्न के बहुत से भिन्नों का योग, अंतर गुणनफल, भागफल हो सकता है। जब भिन्न का हर भिन्न हो, जिसका हर फिर भिन्न हो तथा इसी तरह चलता रहे, तो एसी भिन्न को वितत भिन्न कहते हें, जैसे

भिन्नों के नियम

भिन्नों के नियम निम्नलिखित है :

  • यदि अंश और हर को एक ही संख्या से गुणा या भाग दें तो भिन्न के मान में कोई अंतर नहीं पड़ता, अर्थात्‌
a/b = (ak)/(bk)




Comments Priyanshu kumar on 09-12-2019

0.004 को मिश्र भिन्न में बदलें

Sonu on 25-08-2019

Mi Mishr bhinn Kise Kahate Hain

Ankit Dubey Ankit Dubey P on 18-01-2019

Misra bhin ki parbhasa

Kuladeep kumar on 08-10-2018

Misr bhin ki paribhasa

Kuladeep kumar on 08-10-2018

Misr bhin ki paribhasa

raj on 06-09-2018

misra bhinn ki paribhasha


Aniket on 20-08-2018

Mushroom bhinn



Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment