राजस्थान मे कोयला उत्पादन

Rajasthan Me Koyala Utpadan



GkExams on 12-02-2019


District
Location of the Area
Reserves (million tonnes)
1. Barmer
1. Kapurdi
150.40
2. Jalipa
316.28
3. Bothia (Jalipa Extension)
151.67
4. Giral
101.90
5. Jogeshwar thala
34.50
6. Sonari
43.59
7. Sachha-Sauda
28.70
8. Sindri
700.00
9. Bharka
9.45
10. Gunga-Bothia-Bhadka
10.45



2. Bikaner
1. Palana
23.57
2. Barsingsar
79.00
3. Gurha
79.76
4. Bholasar
3.90
5. Bithnok
57.66
6. Bithnok East Extension
20.00
7. Gadiyala & Bithnok West
40.00
8. Raneri
34.74
9. Mandal Charan
17.70
10. Hadla
34.98
11. Badhnu
1.87
12. Khari
13. Charan
3.70
6.53
14. Hira Ki Dhani
0.66
15. Chak-Vijaysinghpura
0.36
16. Palana South
2.50



3. Jaisalmer
1. Khuri
13.80



4. Nagaur
1. Kasnau-Igiyar
64.90

2. Matasukh
10.10

3. Mokala
9.00

4. Nimbri-Chadawatan
17.00

5. Merta Road & Meera City
83.20

6. Indawar
12.00

7. Kuchera
1.00

8. Lunsara
7.31

राजस्थान राज्य खान और खनिज लिमिटेड (आरएसएमएमएल) द्वारा संचालित लिग्नाइट खाने-

आरएसएमएमएल एक राज्य सरकार का एक उपक्रम है, जो सीमेंट, कपड़ा, ईंट भट्ठी आदि उद्योगों में तथा ओपन कास्ट खनन द्वारा या भूमिगत लिग्नाइट गैसीकरण द्वारा विद्युत उत्पादन में उपयोग हेतु व्यापारिक बिक्री के लिए लिग्नाइट डिपोजिट के विकास के लिए कार्यरत है।
वर्तमान में आरएसएमएमएल दो लिग्नाइट खानों का संचालन कर रहा है जिसमे से एक बाड़मेर जिले में गिरल में और दूसरी नागौर जिले में कसनाऊ-मातासुख में है।

गिरल (बाड़मेर) -


गिरल खान पश्चिमी राजस्थान के बाड़मेर से 43 किलोमीटर दूर गिरल गांव के पास स्थित है। गिरल खान , राजस्थान की पहली आधुनिक ओपेनकास्ट लिग्नाइट खान (1967 में पलाना भूमिगत खदान बंद करने के बाद) 1994 में पूर्व आरएसएमडीसी द्वारा शुरू की गई थी। इस खान से लिग्नाइट का वाणिज्यिक उत्पादन प्रति वर्ष 300,000 मीट्रिक टन की अनुमानित क्षमता के साथ, मई 1995 में शुरू किया गया था।
गिरल खान में, लिग्नाइट के उत्पादन और संबद्ध खनन गतिविधियों को अत्यधिक वैज्ञानिक और तकनीकी रूप से निष्पादित किया जा रहा है।

मातासुख और कसनाऊ (नागौर)-

मातासुख-कसनाऊ खान केंद्रीय राजस्थान के नागौर जिले के कसनाऊ और मातासुख गांवों के पास स्थित हैं, जो कि जिला मुख्यालय से 42 किलोमीटर दूर है। इन खदानों से लिग्नाइट का वाणिज्यिक उत्पादन, 12,00,000 मीट्रिक टन प्रतिवर्ष की परिकल्पित क्षमता के साथ नवंबर 2003 से शुरू किया गया था। ये खाने राजस्थान के मध्य भाग में स्थित हैं, जिससे ये उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब में बाजारों के लिए बेहतर पहुंच में है। इन खानों के लिग्नाइट कम सल्फर और कम राख अवयव का अतिरिक्त लाभ है।




सम्बन्धित प्रश्न



Comments Jetharam on 13-12-2019

राजस्थान का कोयला किस काल का है

Kaluram meena on 13-02-2020

Rajasthan mein Koyla Kaha Milta Hai

Koyla on 25-11-2021

Merta. Road me koyla utpadan


Golu on 02-01-2022

डा सलीम अली इंटरप्रिटेशन सेंटर स्थित

MANISHA on 31-10-2022

Rajasthan mein koyle ki khane kahan sthit hai Hindi mein Uttar





नीचे दिए गए विषय पर सवाल जवाब के लिए टॉपिक के लिंक पर क्लिक करें Culture Current affairs International Relations Security and Defence Social Issues English Antonyms English Language English Related Words English Vocabulary Ethics and Values Geography Geography - india Geography -physical Geography-world River Gk GK in Hindi (Samanya Gyan) Hindi language History History - ancient History - medieval History - modern History-world Age Aptitude- Ratio Aptitude-hindi Aptitude-Number System Aptitude-speed and distance Aptitude-Time and works Area Art and Culture Average Decimal Geometry Interest L.C.M.and H.C.F Mixture Number systems Partnership Percentage Pipe and Tanki Profit and loss Ratio Series Simplification Time and distance Train Trigonometry Volume Work and time Biology Chemistry Science Science and Technology Chattishgarh Delhi Gujarat Haryana Jharkhand Jharkhand GK Madhya Pradesh Maharashtra Rajasthan States Uttar Pradesh Uttarakhand Bihar Computer Knowledge Economy Indian culture Physics Polity


इस टॉपिक पर कोई भी जवाब प्राप्त नहीं हुए हैं क्योंकि यह हाल ही में जोड़ा गया है। आप इस पर कमेन्ट कर चर्चा की शुरुआत कर सकते हैं।

Labels: , कोयला , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment