राजस्थान मे कोयला उत्पादन

Rajasthan Me Koyala Utpadan

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

GkExams on 12-02-2019


District
Location of the Area
Reserves (million tonnes)
1. Barmer
1. Kapurdi
150.40
2. Jalipa
316.28
3. Bothia (Jalipa Extension)
151.67
4. Giral
101.90
5. Jogeshwar thala
34.50
6. Sonari
43.59
7. Sachha-Sauda
28.70
8. Sindri
700.00
9. Bharka
9.45
10. Gunga-Bothia-Bhadka
10.45



2. Bikaner
1. Palana
23.57
2. Barsingsar
79.00
3. Gurha
79.76
4. Bholasar
3.90
5. Bithnok
57.66
6. Bithnok East Extension
20.00
7. Gadiyala & Bithnok West
40.00
8. Raneri
34.74
9. Mandal Charan
17.70
10. Hadla
34.98
11. Badhnu
1.87
12. Khari
13. Charan
3.70
6.53
14. Hira Ki Dhani
0.66
15. Chak-Vijaysinghpura
0.36
16. Palana South
2.50



3. Jaisalmer
1. Khuri
13.80



4. Nagaur
1. Kasnau-Igiyar
64.90

2. Matasukh
10.10

3. Mokala
9.00

4. Nimbri-Chadawatan
17.00

5. Merta Road & Meera City
83.20

6. Indawar
12.00

7. Kuchera
1.00

8. Lunsara
7.31

राजस्थान राज्य खान और खनिज लिमिटेड (आरएसएमएमएल) द्वारा संचालित लिग्नाइट खाने-

आरएसएमएमएल एक राज्य सरकार का एक उपक्रम है, जो सीमेंट, कपड़ा, ईंट भट्ठी आदि उद्योगों में तथा ओपन कास्ट खनन द्वारा या भूमिगत लिग्नाइट गैसीकरण द्वारा विद्युत उत्पादन में उपयोग हेतु व्यापारिक बिक्री के लिए लिग्नाइट डिपोजिट के विकास के लिए कार्यरत है।
वर्तमान में आरएसएमएमएल दो लिग्नाइट खानों का संचालन कर रहा है जिसमे से एक बाड़मेर जिले में गिरल में और दूसरी नागौर जिले में कसनाऊ-मातासुख में है।

गिरल (बाड़मेर) -


गिरल खान पश्चिमी राजस्थान के बाड़मेर से 43 किलोमीटर दूर गिरल गांव के पास स्थित है। गिरल खान , राजस्थान की पहली आधुनिक ओपेनकास्ट लिग्नाइट खान (1967 में पलाना भूमिगत खदान बंद करने के बाद) 1994 में पूर्व आरएसएमडीसी द्वारा शुरू की गई थी। इस खान से लिग्नाइट का वाणिज्यिक उत्पादन प्रति वर्ष 300,000 मीट्रिक टन की अनुमानित क्षमता के साथ, मई 1995 में शुरू किया गया था।
गिरल खान में, लिग्नाइट के उत्पादन और संबद्ध खनन गतिविधियों को अत्यधिक वैज्ञानिक और तकनीकी रूप से निष्पादित किया जा रहा है।

मातासुख और कसनाऊ (नागौर)-

मातासुख-कसनाऊ खान केंद्रीय राजस्थान के नागौर जिले के कसनाऊ और मातासुख गांवों के पास स्थित हैं, जो कि जिला मुख्यालय से 42 किलोमीटर दूर है। इन खदानों से लिग्नाइट का वाणिज्यिक उत्पादन, 12,00,000 मीट्रिक टन प्रतिवर्ष की परिकल्पित क्षमता के साथ नवंबर 2003 से शुरू किया गया था। ये खाने राजस्थान के मध्य भाग में स्थित हैं, जिससे ये उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब में बाजारों के लिए बेहतर पहुंच में है। इन खानों के लिग्नाइट कम सल्फर और कम राख अवयव का अतिरिक्त लाभ है।



Comments

आप यहाँ पर कोयला gk, question answers, general knowledge, कोयला सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , कोयला , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment