हज़रात उमर फारूक हिस्ट्री इन हिंदी

Hazrat Umar Farooq History In Hindi

Gk Exams at  2018-03-25

GkExams on 02-12-2018

हजरत उमर इब्न अल-ख़त्ताब (अरबी में عمر بن الخطّاب), ई. (586–590 – 644) मुहम्मद साहब के प्रमुख चार सहाबा (साथियों) में से थे। वह हज़रत अबु बक्र के बाद मुसलमानों के दूसरे खलीफा चुने गये। मुहम्मद साहब ने फारूक नाम की उपाधि दी थी। जिसका अर्थ सत्य और असत्य में फर्क करने वाला। मुहम्मद साहब के अनुयाईयों में इनका रुतबा हज़रत अबू बक्र के बाद आता है। उमर ख़ुलफा-ए-राशीदीन में दूसरे ख़लीफा चुने गए। उमर ख़ुलफा-ए-राशीदीन में सबसे सफल ख़लीफा साबित हुए। मुसलमान इनको फारूक-ए-आज़म तथा अमीरुल मुमिनीन भी कहते हैं। युरोपीय लेखकों ने इनके बारे में कई किताबें लिखी हैं तथा उमर महान (Umar The Great) की उपाधी दी है। प्रसिद्ध लेखक माइकल एच. हार्ट ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक दि हन्ड्रेड The 100: A Ranking of the Most Influential Persons in History, (सौ दुनिया के सबसे प्रभावित करने वाले लोग) में हज़रत उमर को शामिल किया है।



Comments Mohammad sadique on 06-08-2020

Umar ke ketne boy the

Javed khan on 17-06-2020

I want islaamic historical knowledgeable
books in hindi

Javed khan on 17-06-2020

I want islaamic historical knowledgeable
books in hindi javedkhan221@gmail.com

Noor Mohammad on 09-05-2020

इस्लाम में सबसे पहले काजी कौन थे

Mohsin on 11-03-2020

Wo konsi jung hai jiski khabar sunkar hazrat umar sajade me gir gaye

asifkhan4296@gmail.com on 09-02-2020

Umar e faruk jab sahabiyo me iktalaf hota to vo kaise dur karte


Mo.Rizwan on 13-01-2020

Hajrat umar farook azam ne konsi surah sun kar iman lae the



Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment